देवघर / यौन उत्पीड़न मामले में प्रदीप यादव ने दर्ज कराया बयान, कहा- राजनीतिक साजिश



प्रदीप यादव। (फाइल फोटो) प्रदीप यादव। (फाइल फोटो)
X
प्रदीप यादव। (फाइल फोटो)प्रदीप यादव। (फाइल फोटो)

  • कोर्ट में दाखिल है अग्रिम जमानत याचिका, 17 जून को होगी सुनवाई

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 06:40 PM IST

देवघर. यौन उत्पीड़न के आरोपी पौड़याहाट विधायक सह जेवीएम के प्रधान सचिव प्रदीप यादव गुरूवार को अपना पक्ष रखने के लिए साइबर थाना पहुंचे जहां उन्होंने एसडीपीओ विकास चंद्र श्रीवास्तव एवं कांड के आईओ संगीता कुमारी के समक्ष बयान पेश किया। पुलिस ने बंद कमरे में उनसे दो घंटे तक पूछताछ की। प्रदीप यादव को अपना पक्ष रखने के लिए सात जून का समय दिया गया था जिसके बाद उन्होंने समय मांगा था। उन्हें 13 जून का समय दिया गया था। दिए गए समय पर आकर उन्होंने अपना पक्ष रखा। पुलिस ने उनके बयान को नोट किया। 

 

कहा- वक्त आने पर सब साफ हो जाएगा
पूछताछ के बाद निकलने के बाद प्रदीप यादव ने बताया कि यह सब राजनीतिक साजिश के तहत मुझे फंसाने के लिए किया गया था। पुलिस के द्वारा मुझे सशरीर उपस्थित होकर अपनी बात रखने को कहा गया था, आज मैंने अपनी बात पुलिस के समक्ष रख दी। वक्त आने पर सब कुछ साफ हो जाएगा। वहीं पुलिस इस मामले में कुछ भी बताने से इंकार कर रही है मामले को लेकर फिलहाल अनुसंधान जारी है। 

 

दो मई को पीड़िता ने दर्ज कराया था मामला
जेवीएम के पूर्व केन्द्रीय वक्ता के द्वारा अपनी ही पार्टी के महासचिव पर बीते 20 अप्रैल को होटल शिव सृष्टि पैलेस में बुलाकर प्रदीप यादव के द्वारा उनके साथ छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया गया था। बीते दो मई को महिला के द्वारा साइबर थाना में प्रदीप यादव के खिलाफ यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया गया था तभी से मामले को लेकर पुलिस अनुसंधान में लगी है पुलिस के द्वारा उक्त होटल को भी सीज किया गया था वहां फोरेंसिक टीम को भी बुलाया गया था, अब अनुसंधान के बाद ही मामले का उद्‌भेदन हो पाएगा।

 

दुष्कर्म के प्रयास समेत 7 धाराओं में दर्ज हुआ केस 
देवघर महिला थाना में शुक्रवार देर रात प्रदीप यादव के खिलाफ कांड संख्या 13/19 के तहत की धारा 376/511 (दुष्कर्म के प्रयास), 354A, 354B, 354D, 379, 506, 509/34 के तहत मामला दर्ज किया गया है। 

 

आरोप के बाद प्रदीप ने दिया था पद से इस्तीफा
उधर, झाविमो केंद्रीय अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद पार्टी के प्रधान महासचिव और गोड्‌डा से प्रत्याशी रहे प्रदीप यादव से इस्तीफा मांगा था जिसके बाद 28 मई को प्रदीप ने इस्तीफा दे दिया था। मरांडी ने लिखे अपने पत्र में कहा था कि 21 अप्रैल को उक्त महिला ने उन्हें फोन किया था। जिसमें महिला ने प्रदीप यादव द्वारा अश्लील हरकत किए जाने की जानकारी दी थी। आरोप पर जांच पूरी होने तक आपको पद का त्याग कर देना चाहिए। आप तीन दिनों में पद त्याग दें। उधर, इस पत्र के कुछ ही घंटों के बाद प्रदीप यादव ने पद से त्यागपत्र तो दिया था, मगर इसका कारण चुनाव में अपनी हार को बताया था। 

COMMENT