झारखंड / बच्ची से दुष्कर्म के दोषियों को फांसी; काेर्ट ने कहा- आप क्या चाहती हैं...मां बाेलीं माैत, जज ने कहा- अब तीनों की डेड बाॅडी ही जेल से निकलेगी

सजा सुनाए जाने के बाद पुलिस की हिरासत में मिठू राय, पंकज मोहली और अशोक राय। सजा सुनाए जाने के बाद पुलिस की हिरासत में मिठू राय, पंकज मोहली और अशोक राय।
X
सजा सुनाए जाने के बाद पुलिस की हिरासत में मिठू राय, पंकज मोहली और अशोक राय।सजा सुनाए जाने के बाद पुलिस की हिरासत में मिठू राय, पंकज मोहली और अशोक राय।

  • बच्ची के रिश्ते के चाचा ने दोस्तों के साथ मिलकर गैंगरेप किया था, दोषी मेला दिखाने के बहाने बच्ची को साथ ले गया था
  • गैंगरेप के बाद तीनों ने बच्ची की हत्या कर दी थी,  सोमवार रात 9 बजे तक कोर्ट में सुनवाई हुई

दैनिक भास्कर

Mar 04, 2020, 09:13 AM IST

दुमका.  छह साल की बच्ची की सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या करने के मामले में काेर्ट ने तीन दाेषियाें मिठू राय (26), पंकज माेहली (19) और अशाेक राय (20) काे फांसी की सजा सुनाई है। जिला एवं सत्र अपर न्यायाधीश ताैफीकुल हसन ने सजा सुनाने से पहले कहा-बच्ची का नाम ताे नहीं बता सकते, इसलिए काल्पनिक नाम लिटिल एंजल रखा है। लिटिल एंजल के नाम से ही यह केस जाना जाएगा। काेर्ट ने कहा कि यह अपराध रेयर ऑफ द रेयरेस्ट नहीं है बल्कि यह रेयरेस्ट ऑफ द रेयरेस्ट अपराध की श्रेणी में आता है। झारखंड में ऐसा पहला मामला है जब काेर्ट ने महज चार दिनाें में गवाही पूरी कर ली और घटना के 28वें दिन फैसला सुना दिया। 

जज ने माता-पिता से पूछी इच्छा

सजा पर सुनवाई पर दाेनाें पक्षाेें की दलील सुनने के बाद जज ने बच्ची के माता-पिता और परिजनाें काे विटनेस बाॅक्स में बुलाया। पूछा-आपलाेग बताइए...क्या सजा दी जाए। इस पर बच्ची की मां ने राेते हुए कहा...माैत। इसके बाद काेर्ट ने फैसला सुनाया। काेर्ट ने इन तीनाें काे धारा 302 और 376 डीबी के तहत फांसी की सजा सुनाई। साथ ही 50-50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया। इसका अलावा साक्ष्य छुपाने की धारा 201, 34 (शव को दफनाने) में सात-सात साल कैद की सजा सुनाई। पाॅक्साे एक्ट की धारा 6 के तहत तीनाें काे ताउम्र कैद की सजा और 25-25 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। काेर्ट ने कहा कि अब इन तीनाें की डेड बाॅडी ही जेल से बाहर निकलेगी। इसके अलावा धारा 376 के तहत 10 साल सश्रम कारावास अाैर 15 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई गई। काेर्ट मंगलवार काे निर्धारित समय से पहले ही खुल गई। सुबह 9 बजे जज काेर्ट में पहुंच गए। दाेपहर एक बजे तीनाें काे दाेषी करार दे दिया। कहा- तीन बजे फैसला सुनाया जाएगा। दाेपहर बाद 2:50 बजे तीनाें दाेषियाें काे फिर हाजत से लाकर काेर्ट में पेश किया गया। जज ने कहा कि सभी लाेगाें काे काेर्ट के अंदर आने दें। 

5 फरवरी काे हुई थी हत्या, 7 फरवरी काे मिला शव
बच्ची काे ननिहाल से उसका एक जानकार मिठू राय पांच फरवरी की शाम सरस्वती पूजा मेले दिखाने ले गया था। मेले में गाेलगप्पे खिलाने के बाद वह उसे खेत में ले गया, जहां अपने दाे साथियाें के साथ मिलकर उससे दुष्कर्म किया। अप्राकृतिक याैनाचार के बाद गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। इस घटना का खुलासा 7 फरवरी काे उस समय हुअा, जब बच्ची का शव खेत से बरामद किया गया। घटना के बाद मिठू राय मुंबई भाग गया था। पुलिस ने माेबाइल लाेकेशन के अाधार पर 11 फरवरी काे उसे थाने पुलिस की मदद से कल्याण स्टेशन के पास गिरफ्तार किया। दाे अन्य अाराेपियाें अशाेक अाैर पंकज काे गाेड्डा जिले के पाेड़ैयाहाट से गिरफ्तार किया गया था।

बचाव पक्ष के वकील से कहा- आप उम्र की दुहाई दे रहे, पीड़िता की उम्र नहीं देखी

जज ने हाईकाेर्ट और सुप्रीम काेर्ट के कामता तिवारी केस, बिहार के अफार खान और महाराष्ट्र के दशरथ गाेराडे केस का हवाला देते हुए कहा कि ऐसे रेपिस्ट काे फिर से समाज में घूमने नहीं दिया जाना चाहिए। बचाव पक्ष के वकील से कहा-आप अभियुक्ताें की कम उम्र की दुहाई दे रहे हैं ताे आप ही बताइए कि आपने पीड़िता की उम्र नहीं देखी, जाे महज छह साल की थी। कोर्ट ने एसपी वाईएस रमेश और केस से जुड़े सभी अधिकारियों की तारीफ की। कहा- इनके सहयोग से ही जल्दी न्याय हो पाया।

ऐसे 28 दिन में आया फैसला

05 फरवरी : बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या हुई। शव दफनाया।
07 फरवरी: मिठू राय के खिलाफ केस दर्ज, उसी दिन शव मिला।
11 फरवरी : मुख्य अाराेपी मिठू राय कल्याण से गिरफ्तार।
13 फरवरी : मिठू की निशानदेही पर दाे अन्य अाराेपी अशाेक राय अाैर पंकज राय पाेड़ैयाहाट से गिरफ्तार।
27 फरवरी : काेर्ट ने आरोपियों पर आरोप गठन कर दिया।
28 फरवरी : गवाही शुरू हुई जाे लगातार चली। पहली बार रात में भी काेर्ट बैठी अौर सुनवाई की।
28-29 फरवरी : 6 और 2-3 मार्च काे 16 गवाहाें के बयान दर्ज।
03 मार्च : काेर्ट ने तीनों दोषियों को फांसी की सजा सुनाई।

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना