झारखंड / चुनाव आयोग जयंत सिन्हा के चुनाव लड़ने पर रोक लगाए: झामुमो

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 06:58 PM IST


Election commission Update news Jharkhand
X
Election commission Update news Jharkhand
  • comment

  • मुख्यमंत्री भी कर रहे हैं आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन

रांची. झारखंड मुक्ति मोर्चा ने 16 मार्च को आईआईएम के दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि के पद से केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा द्वारा दिए गए चुनावी भाषण को आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन बताया है। साथ ही निर्वाचन आयोग को पत्र लिख कर जयंत सिन्हा के चुनाव लड़ने की पात्रता पर रोक लगाने की मांग की है।

 

जयंत सिन्हा ने केंद्र और राज्य सरकार ही नहीं अपनी उपलब्धियां गिनाई
झामुमो के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि आदर्श चुनाव आचार संहिता में यह स्पष्ट है कि केंद्र अथवा राज्य सरकार का कोई भी मंत्री किसी भी शैक्षणिक संस्थान या विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शामिल होने से बचेगा। अगर जरूरी हुआ तो वह उस समारोह में किसी प्रकार की राजनीतिक भाषा, सरकार की उपलब्धियां और चुनावी भाषा का उपयोग नहीं करेगा। लेकिन आईआईएम के दीक्षांत समारोह में जयंत सिन्हा ने केंद्र और राज्य सरकार ही नहीं अपनी उपलब्धियां गिनाई। वोट देने की छात्रों से अपील की। नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने की भी बात कही।

 

सरकारी हेलीकॉप्टर अब भाजपा का प्रचार वाहन बन गया
सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि 10 मार्च को पूरे देश में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद कोई भी मुख्यमंत्री या मंत्री सरकारी वाहन का प्रयोग नहीं करेंगे। लेकिन मुख्यमंत्री 11 मार्च को हेलीकॉप्टर से जमशेदपुर से रांची आए। राजनीतिक कार्यक्रमों में शामिल हुए। 13 मार्च को फिर भाजपा विधायकों के साथ विधायक जानकी यादव के पुत्र के मांगलिक कार्यक्रम में हेलीकॉप्टर से गए। स्थिति यह है कि सरकारी हेलीकॉप्टर अब भाजपा का प्रचार वाहन बन गया है। उन्होंने फिर यह मुद्दा उठाया कि राज्य के डीजीपी, एडीजी के मामले में अब तक आयोग द्वारा किसी तरह की कार्रवाई सूचना नहीं है। मुख्य सचिव भी एक्सटेंशन पर चल रहे हैं। कई जिलों में एसपी अपने गृह जिले में पदस्थापित हैं। साहेबगंज में जिला प्रोग्राम पदाधिकारी पिछले चार साल से पदस्थापित है। उन्होंने कहा कि अगर इसी तरह से सरकार चलती रही तो चुनाव एक प्रहसन बन कर रह जाएगा। इसलिए झामुमो उम्मीद करता है कि चुनाव आयोग निष्पक्ष और भयमुक्त चुनाव कराने में महती भूमिका निभाएगा। कानून सम्मत कार्रवाई करेगा।

 

गिरिडीह चुनाव के बाद आजसू की चौकीदारी हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी
आजसू पार्टी के अध्यक्ष सुदेश महतो द्वारा अपने को चौकीदार बताने पर झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि वह तो ऐसा बोलेंगे ही। क्योंकि सरकार में रह कर आजसू के मंत्री कैबिनेट में स्थानीय और नियोजन नीति का समर्थन करते रहे और बाहर नौटंकी करते रहे। ये लोग उसी बिरादरी के लोग हैं जो लूट लाओ-कूट खाओ की नीति में विश्वास करते हैं। उन्होंने आगे कहा कि चौकीदार अगर अच्छा होता तो सिल्ली की जनता चौकीदार को बाहर नहीं करती। लेकिन जनता ने चौकीदार को सिल्ली के बाद गोमिया में भी बाहर कर दिया। अब गिरिडीह के लोकसभा चुनाव के बाद चौकीदार को हमेशा के लिए बाहर कर देगी।

 

होली के बाद सीटों की घोषणा, कहीं रंग में खलल न पड़े
होली के बाद महागठबंधन के सीटों का एलान क्यों, के जवाब में सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि शिबू सोरेन अभिभावक हैं। कांग्रेस, राजद, झाविमो की इच्छा है कि गुरुजी रांची में घोषणा करें। फिलहाल सबका अपना अपना कार्यक्रम भी है। वैसे होली के रंग में कोई खलल न पड़े, इसका भी ध्यान रखा गया है।

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन