चतरा / झोलाछाप डाक्टर की लापरवाही से हुई प्रसूता की मौत, पुलिस ने कही जांच की बात



नवजात के साथ मृतका के परिजन। नवजात के साथ मृतका के परिजन।
X
नवजात के साथ मृतका के परिजन।नवजात के साथ मृतका के परिजन।

  • अत्याधिक रक्तस्राव और डाक्टर के लापारवाही बनी महिला की मौत का कारण 

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2019, 06:29 PM IST

चतरा. प्रतापपुर मुख्यालय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से कुछ दूरी पर अवैध रूप से संचालित नर्सिंग होम के झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही से एक प्रसूता की मौत हो गई। घटना एक सप्ताह पूर्व की है। आरोपी डॉक्टर की पहचान रविंद्र कुमार रवि के रूप में हुई है। शनिवार को मृतका का पति रिंकू दास ने थाने में आवेदन दिया है। आवेदन में डॉक्टर पर जानबूझ कर इलाज में लापरवाही बरतने एवं मौत के बाद आनन फानन में प्रसूता को रेफर करने का आरोप लगाया गया है।

 

प्रसव के बाद रुपए की मांग की, लेकिन परिजन नहीं दे सके
मृतका की पहचान हंटरगंज प्रखंड के सलैया गांव निवासी 27 वर्षीय रेखा देवी के रूप में हुई है। वर्तमान समय में रेखा देवी हंटरगंज प्रखंड के पिंडरा (सरदम) गांव में अपने माइके में रह रही थी। रेखा देवी को एक सप्ताह पूर्व प्रसव पीड़ा हुई थी। उसके परिजन उसे रविंद्र कुमार रवि के पास ले गये। डॉक्टर ने किसी तरह प्रसव तो करवा दिया, लेकिन रेखा देवी के लगातार हो रहे रक्तस्राव को वह रोक नहीं सका। आवेदन में लिखा गया है कि झोलाछाप डॉक्टर ने प्रसव कराने के बदले रुपए की मांग की जिसे परिजन नहीं दे पाए। फिर डॉक्टर लगातार परिजनों को सब कुछ ठीक होने का आश्वासन दे रहा था। लेकिन रातभर रक्तस्राव होने के कारण मरीज की हालत गंभीर होती गयी आैर 4 अक्टूबर की सुबह करीब 10 बजे उसकी मौत हो गयी। 

 

मौत के बाद डॉक्टर ने मरीज को किया रेफर
मौत के आधा घंटे बाद डॉक्टर ने गंभीर स्थिति का हवाला देकर उसे बाहर ले जाने के लिये रेफर कर दिया। उसने एक सहिया को भी साथ में भेजा। इसके बीच रास्ते में सहिया ने परिजनों को बताया कि मरीज की मौत हो चुकी है। फिर डॉक्टर ने बचने के लिए मृतका के परिजनों को कुछ रुपए देकर तत्काल रेखा देवी का दाह संस्कार करवा दिया। मृतक महिला की एक 12 वर्षीय लड़की पहले से ही है। घटना के बाद से डॉक्टर का क्लिनिक बंद है। आरोप है कि डॉक्टर रवि राजागढ़ तालाब के बगल में अपने निजी आवास पर मरीजों का इलाज कर रहा है। इस संबंध में थाना प्रभारी पीसी सिन्हा ने बताया कि प्रसूता की मौत से संबंधित आवेदन मिला है। घटना की जांच की जाएगी।

 

अवैध नर्सिंग होम को सील के लिए बनी है टॉस्क फोर्स : सीएस 
इस संबंध मे चतरा सीएस अरूण पासवान ने बताया कि छोलाछाप डॉक्टर पर प्रतिबंध लगाने एवं उनके अवैध क्लिनिक को सील करने के लिए हर प्रखंड में टॉस्क फोर्स का गठन किया गया है। इस टॉस्क फोर्स मे बीडीओ, चिकित्सा पदाधिकारी एवं थाना प्रभारी शामिल हैं।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना