सफलता / प्रेमी-प्रेमिका ने की शादी, लड़की के पिता ने करवाई दूल्हे की हत्या



जानकारी देते एसडीपीओ मनोज कुमार महतो व पीछे खड़े आरोपी। जानकारी देते एसडीपीओ मनोज कुमार महतो व पीछे खड़े आरोपी।
X
जानकारी देते एसडीपीओ मनोज कुमार महतो व पीछे खड़े आरोपी।जानकारी देते एसडीपीओ मनोज कुमार महतो व पीछे खड़े आरोपी।

  • हत्यारे पिता सहित चार लोग गिरफ्तार, पुलिस ने सभी आरोपियों को भेजा जेल

Dainik Bhaskar

Aug 05, 2019, 06:20 PM IST

गढ़वा. भंडरिया पुलिस ने अरविंद कोरवा की हत्या का खुलासा करते हुए पांच अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस के मुताबिक, प्रेम प्रसंग के मामले में युवक की हत्या की गई थी। इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी कृष्णा कुमार ने बताया कि मृतक अरविंद कोरवा के भाई राजेश कोरवा के द्वारा गांव के ही जनु कोरवा के खिलाफ हत्या की प्राथमिकी भंडरिया थाने में दर्ज कराई गई थी। इसी के आधार पर जनु कोरवा को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। इस दौरान उसने गुनाह कबूल करते हुए हत्या में शामिल अन्य चार आरोपियों की जानकारी दी जिसके बाद जुनु कोरवा के भतीजे अखलेश कोरवा, गांव के ही गोदम कोरवा, मिठू सिंह व हत्या के मास्टरमाइंड राजकुमार उर्फ नन्द कुमार तूरी को गिरफ्तार कर लिया गया। चारों आरोपियों की गिरफ्तारी बहेराखाड़ के दिलवाही टोला से की गई है। 

 

हत्या में प्रयुक्त कुल्हाड़ी को किया गया बरामद
सभी आरोपियों की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त कुल्हाड़ी को पुलिस ने राजकुमार तुरी के घर से बरामद कर लिया। कृष्णा कुमार ने बताया कि जुनु कोरवा की पुत्री व मृतक अरविंद कोरवा का पिछले दो वर्षों से प्रेम प्रसंग चल रहा था। जो जुनु कोरवा को नागवार गुजर रहा था। वह इसका विरोध करता था। छह से सात महीने पहले दोनों घर से भाग गये थे। कुछ दिनों के बाद अपने घर बहेरा खाड़ लौटने के बाद फरवरी माह में प्रेमी-प्रेमिका के खिलाफ पंचायत बुलाई गई। पंचायत में दोनो ने एक साथ रहने की बात कही। एक ही जाति के कारण पंचायत ने दोनों को साथ रहने की इजाजत दे दी। 

 

28 जुलाई को हुई थी हत्या
घटना के कुछ दिन पूर्व जुनु कोरवा अपनी पुत्री को अपने साथ घर ले गया था। इसके बाद अरविंद कोरवा की हत्या के लिए उसने गांव के ही राजकुमार तुरी उर्फ नन्द कुमार तुरी को तीन हजार रुपए की सुपारी दी। राजकुमार तुरी अपने अन्य सहयोगी अखलेश कोरवा, गोदम कोरवा व मिठू सिंह के साथ मिलकर अरविंद कोरवा की हत्या की रणनीति तैयार की। 28 जुलाई को राजकुमार तुरी, अरविंद कोरवा को बड़गड़ में रविवार को लगने वाले सप्ताहिक हाट बाजार में मुर्गा खिलाने और शराब पिलाने की बात कहकर उसे बड़गड़ बाजार ले गया। यहां राजकुमार ने अरविंद को काफी मात्रा में शराब पिला दी। इसके बाद दोनों बड़गड़ बाजार से एक ऑटो पर सवार होकर परसवार आ गए। परसवार में पहले से ही तीन आरोपी रुके थे। वहां भी उक्त लोगों ने शराब पी और इसके बाद पैदल ही परसवार से बहेरा खाड़ के लिए निकल गए। रास्ते में आमा झरिया नाला के समीप अंधेरे का फायदा उठाते हुए उक्त सभी आरोपियों ने साजिश के तहत अरविंद का हाथ गमछा से बांधते हुए मुंह में कपड़ा डाल दिया और लाठी डंडे से उसकी पिटाई करने लगे। पिटाई के दौरान जब अरविंद बेहोश हो गया तो आरोपियों ने अरविंद के सिर को पत्थर से कुचल दिया जिससे उसकी मौत हो गई। 

 

हत्या के बाद कुल्हाड़ी से काट दिया हाथ पैर
पत्थर से कुचलकर हत्या के बाद आरोपियों ने कुल्हाड़ी से अरविंद का हाथ पैर काट दिया और घटनास्थल से फरार हो गए। रविवार की सुबह भंडरिया पुलिस ने सूचना के आधार पर भंडरिया थाना क्षेत्र के बहेरा खाड़ व परसवार के बीच पड़ने वाले जंगल में आमा झरिया नाला के समीप क्षत विक्षत शव बरामद किया था। शव की पहचान भंडरिया थाना क्षेत्र के बहेरा खाड़ गांव निवासी 19 वर्षीय अरविंद कोरवा के रुप में की गई थी। मृतक अरविंद कोरवा के बड़े भाई राजेश कोरवा ने गांव के ही जुनु कोरवा व अन्य अज्ञात पर हत्या कर शव को जंगल में फेंके जाने की प्राथमिकी भंडरिया थाने में दर्ज कराई थी। इसके आधार पर भंडरिया पुलिस ने छानबीन करते हुए घटना में शामिल सभी आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना