झारखंड / महिला सशक्तिकरण की दिशा में सरकार के प्रयासों का सार्थक परिणाम अा रहा सामने: आरती सिंह



पत्रकारों से बातचीत करती आरती सिंह व अन्य। पत्रकारों से बातचीत करती आरती सिंह व अन्य।
X
पत्रकारों से बातचीत करती आरती सिंह व अन्य।पत्रकारों से बातचीत करती आरती सिंह व अन्य।

  • राज्य में लड़कियों का अनुपात 951 से बढ़कर 996 होने का श्रेय मोदी सरकार और रघुवर सरकार को

Dainik Bhaskar

Oct 11, 2019, 07:11 PM IST

रांची. भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष आरती सिंह ने कहा कि महिला सशक्तिकरण की दिशा में सरकार के प्रयासों का सार्थक परिणाम सामने अा रहा है। राज्य में लड़कियों का अनुपात 951 से बढ़कर 996 होने का श्रेय मोदी सरकार और रघुवर सरकार को जाता है। दोनों नेताओं के सार्थक प्रयासों से बेटियों के लिए बनाई गई सरकार की योजनाएं धरातल पर उतरी है। उन्होंने बताया कि 2014 से 2018 के बीच लड़कों की संख्या में 63 हजार का इजाफा हुआ जबकि लड़कियों की संख्या में 1 लाख 34 हजार की भारी वृद्धि हुई, जो कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के धरातलीय सफलता का परिणाम है। आरती सिंह शुक्रवार काे प्रदेश भाजपा मुख्यालय में मीडिया से बात कर रही थीं। 

 

बेटियों की शिक्षा से लेकर शादी और स्वावलंबन की जिम्मेदारी सरकार ने उठाई
अारती सिंह ने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ सरकारी कार्यक्रम नहीं बल्कि एक सामाजिक अभियान बना, जिसके अंतर्गत बेटियों की शिक्षा से लेकर शादी और स्वालंबन तक की जिम्मेदारी सरकार ने उठाई। मुख्यमंत्री सुकन्या योजना एवं मुख्यमंत्री कन्यादान योजना महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में एक ऐतिहासिक प्रयास रहा। उन्होंने कहा कि 1 रुपये में जमीन-मकान की रजिस्ट्री ने आज महिलाओं को संपत्ति की मालकिन बनाया, यही कारण है कि अब 80 फीसदी रजिस्ट्री महिलाओं के नाम पर हो रही है। उन्होंने रघुवर सरकार को बधाई देते हुए कहा कि जिस तरह इस सरकार में सखी मंडल की संख्या 40 हजार से बढ़कर 2.5 लाख तक पहुंची तथा अलग-अलग क्षेत्रों में 20 लाख महिलाओं को सखी मंडल के माध्यम से रोज़गार के अवसर मिले यह प्रसंशनीय है।

 

बेटियां हर क्षेत्र में निकल रहीं आगे: सीमा पात्रा
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ प्रकल्प की प्रदेश संयोजक सीमा पात्रा ने कहा कि बेटियों के सुरक्षित जन्म के लिए प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत 50 लाख गर्भवती महिलाओं को 6000 रुपये सालाना की आर्थिक राशि जबकि प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व योजना के तहत 90 लाख गर्भवती महिलाओं का रक्षण किया गया जो कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की दिशा में उठाया गया एक सशक्त कदम है। उन्होंने बताया कि छात्राओं के लिए कक्षा 1 से पीजी तक कि पढ़ाई निःशुल्क की गई है एवं 12वीं कक्षा तक छात्राओं को किताब, पोशाक और छात्रावास भी निःशुल्क दिया जाता है जिससे आज बेटियां बेटों से हर क्षेत्र में आगे निकल कर आ रही हैं। इस अवसर पर महिला मोर्चा की महामंत्री काजल प्रधान भी मौजूद थीं।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना