झारखंड / स्वास्थ्य मंत्री ने मेडिका अस्पताल में भर्ती मरीज के इलाज का खर्च कम कराया

जनता दरबार में समस्याएं सुनते स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता। जनता दरबार में समस्याएं सुनते स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता।
X
जनता दरबार में समस्याएं सुनते स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता।जनता दरबार में समस्याएं सुनते स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता।

  • कांग्रेस भवन में स्वास्थ्य मंत्री ने लगाया जनता दरबार, 25 मामले अाए सामने

Dainik Bhaskar

Feb 17, 2020, 12:02 PM IST

रांची. कोडरमा की सरिता देवी ने स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता से शुक्रवार काे गुहार लगायी कि मेरे जीजा का ब्रेन हेमरेज हो गया है। वे मेडिका में भर्ती हैं। इलाज में अबतक करीब दो लाख रुपए खर्च हो चुके हैं। हमारे पास आयुष्मान कार्ड है, लेकिन अस्पताल का कहना है कि आयुष्मान योजना के तहत न्यूरो सर्जरी नहीं हो सकती है। अब पैसा भी खत्म हो गया है। अस्पताल का अभी भी 50 हजार रुपए से ज्यादा का बिल है। कुछ मदद कर दें। स्वास्थ्य मंत्री ने मेडिका प्रबंधन को फोन लगाया। तब प्रबंधन ने 35 हजार रुपए का बिल माफ करने की बात कही। 

इसके बाद मंत्री ने रांची सिविल सर्जन को भी फोन लगाकर सरिता देवी की मदद का निर्देश दिया। स्वास्थ्य मंत्री ने कांग्रेस भवन में जनता दरबार लगाया था। यहां 25 से अधिक लोगों ने अपनी समस्याएं बतायीं और लिखित आवेदन भी दिया। मंत्री ने सभी की समस्याएं सुनने के बाद कहा कि निदान नहीं हुआ तो सात दिनों के अंदर सीधे पार्टी कार्यालय में आकर संपर्क कर सकते हैं।
 
पारा मेडिकल के छात्र-छात्राओं का दो साल से नहीं हो पा रहा निबंधन
कलावती नर्सिंग कॉलेज सिदरौल कुछ छात्राओं ने जनता दरबार में स्वास्थ्य मंत्री से शिकायत की कि 190 आदिम जनजाति और अनुसूचित जाति के पारा मेडिकल के छात्र-छात्राओं का निबंधन पिछले दो साल से नहीं हो पा रहा है। ऐसे में गरीब छात्रों का भविष्य प्रभावित हो रहा है। आवेदन देकर मंत्री को बताया कि वाईवीएन विवि द्वारा विभिन्न कोर्स में उत्तीर्ण छात्रों का निबंधन शुल्क के साथ झारखंड पारामेडिकल परिषद को भेजा गया है। लेकिन परिषद की ओर से निबंधन नहीं किया जा रहा है। सरकार के कल्याण विभाग की पहल पर सोशल वेलफेयर सोसायटी के माध्यम से प्रशिक्षण दिया गया है। 

सभी प्रशिक्षित छात्र आउट सोर्सिंग के मध्यम से सरकारी व गैर सरकारी अस्पतालों में कार्य कर रहे हैं। आउट सोर्सिंग कंपनी द्वारा निबंधन की कॉपी मांगी जा रही है। निबंधन नहीं होने के कारण सभी को काम करने मे दिक्कत हो रही है। मंत्री ने परिषद से बात कर उचित निर्णय लेंगे। कांग्रेस के पलामू जिलाध्यक्ष बिट्टू पाठक ने जिले के सदर अस्पताल में अनियमितता और डॉक्टरों के प्राइवेट प्रैक्टिस का मामला उठाते हुए सिविल सर्जन पर कार्रवाई की मांग की।

गरीब को कोई तकलीफ नहीं होने दें, इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे: स्वास्थ्य मंत्री
स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि किसी भी गरीब को कोई तकलीफ नहीं होने दें अन्यथा वे इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। कहा कि वे किसी पर कार्रवाई करने की मंशा लेकर नहीं आये हैं। हम न भ्रष्टाचार करेंगे और न ही किसी को करने देंगे। जनता दरबार के बाद वे कांग्रेस भवन में मीडिया से बात कर रहे थे। कहा कि सरकार और संगठन दोनों मिलकर काम कर रहे हैं। समस्या का समाधान करने का प्रयास हो रहा है। गठबंधन की सरकार पोस्टर बैनर में प्रचार प्रसार के बजाये धरातल पर काम करने में विश्वास रखती है। हम अपनी कथनी और करनी में अंतर नहीं रखते हैं। रिम्स की खामी को दूर करना है। हम मंत्री नहीं सहयोगी की हैसियत से काम कर रहे हैं। मैंने मरीज को खुद खून देकर एक सांकेतिक प्रयास शुरू किया है। रिम्स में ब्लड बैंक के विभागाध्यक्ष से कहा कि किसी गरीब की बेबसी का फायदा नहीं उठायें। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना