दो बार प्रयास किया हेमंत ने बात नहीं की

Ranchi News - झारखंड काे 19 साल के बाद अपना विधानसभा भवन मिला। शुक्रवार काे नए विधानसभा भवन में एक दिन का विशेष सत्र बुलाया गया।...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 08:10 AM IST
Ranchi News - hemant did not talk twice
झारखंड काे 19 साल के बाद अपना विधानसभा भवन मिला। शुक्रवार काे नए विधानसभा भवन में एक दिन का विशेष सत्र बुलाया गया। लेकिन प्रमुख विपक्षी दल झामुमाे ने इसका बहिष्कार कर दिया। झामुमाे से निष्कासित एकमात्र विधायक जयप्रकाश भाई पटेल इस सत्र में शामिल हुए। सत्र के दौरान झाविमो के प्रदीप यादव ने यह मुद्दा उठाया। वे बोले कि सत्ता पक्ष को नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन को बुलाना चाहिए था। इस पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा-संसदीय कार्यमंत्री ने हेमंत साेरेन से दाे बार बात करने की काेशिश की। उनके पीए ने बात कराने का अाश्वासन भी दिया। लेकिन बात नहीं कराई।

जब विधानसभा में विशेष सत्र चल रहा था, उसी समय नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने अपने आवास पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हाईकाेर्ट का अादेश है कि किसी अर्द्धनिर्मित भवन का कंपलिशन सर्टिफिकेट जारी नहीं किया जाएगा। इसके बावजूद उद्घाटन करवा दिया गया। मैं नियम विरुद्ध उद्घाटन कराए गए विधानसभा भवन के सत्र का हिस्सेदार नहीं बनना चाहता था। इसलिए सत्र में नहीं गया।

मुख्यमंत्री रघुवर दास बोले...

सदन में झाविमो ने उठाया मुद्दा...कहा-नेता प्रतिपक्ष को बुलाना चाहिए था

मुख्यमंत्री रघुवर बोले-यहां प्रतिस्पर्धा नहीं होनी चाहिए

राजनीति में प्रतिद्वंद्विता हाेती है। लेकिन राज्य की जनता की अास्था के प्रतीक लाेकतंत्र के इस मंदिर से प्रतिस्पर्धा नहीं हाेनी चाहिए। सदन के सदस्य से एेसे व्यवहार की अपेक्षा नहीं, जाे गरिमा काे ठेस पहुंचाए।

सरकार ने नियम तोड़े तभी बहिष्कार किया

हेमंत सोरेन ने कहा-सरकार को प्रोटोकॉल का ज्ञान नहीं

विधानसभा के उद्घाटन में मंच पर राज्यपाल, स्पीकर अाैर संसदीय कार्यमंत्री माैजूद थे। इन्हें बाेलने नहीं दिया गया। मेयर काे ताे मंच पर जगह नहीं दी गई। यह उनका अपमान है। सरकार काे प्राेटाेकाॅल का ज्ञान नहीं है।

नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन बोले...

सत्ता पक्ष मौजूद, विपक्ष की सीटें खाली रहीं

राज्यपाल बाेलीं- विधायक सचेत अाैर जवाबदेह बनें : सत्र काे संबाेधित करते हुए राज्यपाल द्राैपदी मुर्मू ने कहा- विधायकाें का कर्तव्य है कि वह कार्यपालिका के कार्य निष्पादन की िनगरानी करें। लाेगाें की समस्याअाें के प्रति सचेत व जवाबदेह रहें। सरकार से जनहित की काेई बात छूटे ताे विपक्ष काे प्रभावी ढंग से रखना चाहिए, लेकिन ध्यान रहे कि सदन की गरिमा काे ठेस न पहुंचे।

X
Ranchi News - hemant did not talk twice
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना