इंटरव्यू / मांडू विधानसभा सीट से भाजपा और झामुमो से चुनाव लड़ रहे दो सगे भाई दोनों से सवाल एक, जवाब अलग-अलग

जय प्रकाश, राम प्रकाश जय प्रकाश, राम प्रकाश
X
जय प्रकाश, राम प्रकाशजय प्रकाश, राम प्रकाश

  • मांडू की जनता टेकलाल महतो के नाम पर वोट करती रही है, दाे भाइयाें के चुनावी संग्राम में किसकाे चुने?
  • जय प्रकाश : पिताजी के विचारों को लाेगों तक पहुंचाया है, जनता मेरे साथ ही रहेगी
  • राम प्रकाश : पिताजी मुझे विधायक बनाना चाहते थे, इसलिए लोग मेरा समर्थन करेंंगे

दैनिक भास्कर

Dec 04, 2019, 12:44 AM IST

हजारीबाग. मांडू विधानसभा सीट की राजनीतिक विरासत पर कब्जा जमाने के लिए दो सगे भाई दो दलों से चुनाव के मैदान में हैं। पूर्व विधायक स्व. टेकलाल महतो के बड़े बेटे राम प्रकाश भाई पटेल झामुमाे के उम्मीदवार हैं ताे छाेटे बेटे जय प्रकाश पटेल भाजपा से चुनाव लड़ रहे हैं। पिता के गिरिडीह से सांसद चुने जाने के बाद राम प्रकाश ने 2005 में मांडू से बताैर झामुमो प्रत्याशी चुनाव लड़ा और हार गए थे। 

2009 विधानसभा चुनाव में उनके पिता टेकलाल महतो जीते। उनके निधन के बाद 2011 में मांडू उपचुनाव हुअा। इसमें जय प्रकाश झामुमो के टिकट पर चुनाव जीते। जय प्रकाश 2014 चुनाव में भी झामुमो से विधायक बने। 2019 लाेकसभा चुनाव में झामुमो के अंदर वैचारिक मतभेद के कारण जय प्रकाश ने भाजपा के पक्ष में प्रचार किया। इस चुनाव से ठीक पहले वे भाजपा में शामिल हो गए और मांडू से चुनाव लड़ रहे हैं। झामुमो ने उनके बड़े भाई रामप्रकाश को मैदान में उतारा है। मांडू की राजनीति, दाे भाइयाें में चुनावी संघर्ष, क्षेत्र के मुद्दाें पर जय प्रकाश पटेल अाैर राम प्रकाश पटेल से भास्कर के हजारीबाग ब्यूराे चीफ उमेश राणा की बातचीत के प्रमुख अंश...।

सवाल- आपको ऐसा नहीं लगता है कि विधानसभा चुनाव भाजपा और कांग्रेस के बीच का नहीं, यह दो भाइयों की लड़ाई हो गई है

जय प्रकाश : यह विचारों की लड़ाई है। मुझे लगता है कि मैं एक समृद्ध विचारधारा से जुड़ चुका हूं। इसको भाइयों की लड़ाई से नहीं जोड़ा जा सकता है। काम करने के लिए क्षेत्र में कई सारे मुद्दे हैं। मेरा फोकस उन पर है। मैं बहुत कुछ करना चाहता था, पर कर नहीं पाया। इसलिए भाजपा से जुड़ा हूं, ताकि सबका साथ-सबका विकास कर सकूं। मैं काम पर विश्वास रखता हूं।

राम प्रकाश: यह राजनीतिक विचारधारा की लड़ाई है, दो भाइयों की नहीं। चुनाव है, जाे भी जीते या जाे हारे, इससे पारिवारिक माहाैल पर असर नहीं पड़ेगा। हमारी पारिवारिक पृष्ठभूमि पर गौर करें तो हमलोग झामुमो से जुड़े रहे हैं। पिताजी झारखंड अलग राज्य के आंदोलनकारियों में रहे हैं। इसलिए मेरी विचारधारा झामुमाे से मेल खाती है। एक बार चुनाव में हार गया था। इस बार जीत मिलेगी।

सवाल- चुनाव जीतने के बाद आप पहला काम क्या करेंगे 

जय प्रकाश : जैसा कि भाजपा का नारा है सबका साथ सबका विकास... तो मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराना मेरी पहली प्राथमिकता होगी।

राम प्रकाश: मांडू विधानसभा क्षेत्र की बेरोजगारी दूर करेंगे। पूरे इलाके का सर्वांगीण विकास करेंगे। मांडू में विकास कार्य ठहर गया है। इसमें तेजी लाएंगे।

सवाल- आप में ऐसी क्या बात है कि मांडू की जनता आपका साथ दे, क्या आपको लगता है कि विधानसभा चुनाव जीत रहे हैं

जय प्रकाश : काम के प्रति मेरा जुनून देखकर जनता सपोर्ट करेगी। मैं चुनाव जीत रहा हूं।

राम प्रकाश: यह रघुवर सरकार काे सत्ता से हटाने की लड़ाई है इसलिए मेरी ही जीत होगी।

सवाल- मांडू से आप दो भाइयों के चुनावी मैदान में उतरने के कारण पुराने कार्यकर्ता असमंजस में हैं,  वे किसका साथ दे रहे हैं 

जय प्रकाश : उच्च विचार और इलाके का विकास के पक्षधर सभी कार्यकर्ता मेरे साथ हैं। उनके साथ क्षेत्र की सूरत बदलनी है। यहां के लोग सबका साथ-सबका विकास पर यकीन कर रहे हैं।

राम प्रकाश: झामुमो के सभी कार्यकर्ता एकजुट हैं। सभी हमारे साथ हैं। झामुमाे काॅडर बेस पार्टी है। यह दूसरी पार्टियाें की तरह नहीं है। सिद्धांताें की लड़ाई में सभी मेरे साथ हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना