चाईबासा नरसंहार / जदयू की सात सदस्यीय टीम ने बुरुगुलीकेरा में की पड़ताल, पूर्व सांसद बोले- पत्थलगड़ी विवाद में ही हुआ था नरसंहार

चाईबासा नरसंहार पीड़ितों से बातचीत करते सालखन मुर्मू। चाईबासा नरसंहार पीड़ितों से बातचीत करते सालखन मुर्मू।
चाईबासा नरसंहार पीड़ित परिवार के सदस्यों के साथ सालखन मुर्मू। चाईबासा नरसंहार पीड़ित परिवार के सदस्यों के साथ सालखन मुर्मू।
X
चाईबासा नरसंहार पीड़ितों से बातचीत करते सालखन मुर्मू।चाईबासा नरसंहार पीड़ितों से बातचीत करते सालखन मुर्मू।
चाईबासा नरसंहार पीड़ित परिवार के सदस्यों के साथ सालखन मुर्मू।चाईबासा नरसंहार पीड़ित परिवार के सदस्यों के साथ सालखन मुर्मू।

  • सालखन मुर्मू ने कहा- आदिवासियों को देश के खिलाफ भड़काकर फैलायी जा रही हिंसा 
  • एनआईए से हो जांच वरना राज्य सरकार और चर्च कर देंंगे झारखंड को बर्बाद: सालखन

दैनिक भास्कर

Feb 06, 2020, 01:29 PM IST

चाईबासा. बुरुगुलीकेरा नरसंहार के 16वें दिन जदयू प्रदेश अध्यक्ष सालखन मुर्मू के नेतृत्व में सात सदस्यीय टीम ने बुरुगुलीकेरा गांव पहुंचकर मामले की पड़ताल की। पड़ताल के बाद सालखन ने झारखंड सरकार और चर्च को निशाने पर लेते हुए कहा- भारत सरकार इस मामले पर एनआईए से जांच कराए, अन्यथा राज्य सरकार और चर्च झारखंड को बर्बाद कर देंगे।

जदयू प्रदेश अध्यक्ष के साथ आई टीम ने गांव में पीड़ित परिवारों के अलावा अन्य ग्रामीणों से मिलकर घटना की जानकारी ली। बुरुगुलीकेरा से लौटने के बाद जदयू प्रदेश अध्यक्ष ने सोनुआ बाजार में कहा- बुरुगुलीकेरा नरसंहार के पीछे पत्थलगड़ी समर्थक और विरोध का विवाद है। इस घटना में न तो पीएलएफआई है और न ही माओवादी। आपसी रंजिश से भी टीम ने इनकार किया। विवादित पत्थलगड़ी निश्चित रूप से भारत के संविधान और व्यवस्था के विरोधियों के सहयोग से संचालित है। इस पत्थलगड़ी में संविधान की गलत व्याख्या और प्रचार कर आदिवासियों को देश के खिलाफ भड़काकर हिंसा फैलाने का काम हो रहा है।

जदयू जांच टीम के रिपोर्ट के मायने 

  • विवादित पत्थलगड़ी के टशन में हुआ है नरसंहार ।
  • पत्थलगड़ी केस वापस लेने से समर्थकों का मन बढ़ा।
  • चर्च और विदेशी ताकतों का समर्थन पत्थलगड़ी को।
  • आदिवासियों को देश के खिलाफ भड़काया जा रहा।

प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से हेमंत सरकार दोषी
जदयू प्रदेश अध्यक्ष ने कहा- बुरुगुलीकेरा नरसंहार के लिए प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से हेमंत सरकार दोषी है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शपथ लेते ही पत्थलगड़ी से संबंधित सभी मुकदमों को वापस लेने की घोषणा कर संविधान विरोधियों को उत्साहित किया। विवादित पत्थलगड़ी को बढ़ावा देने में चर्च और विदेशी ताकतों का भी हाथ हो सकता है।

मृतकों के आश्रितों को प्रशासन ने सौंपा 50-50 हजार का चेक
बुधवार को जिला प्रशासन की ओर से गुलीकेरा पंचायत भवन में मृतकों के आश्रितों के बीच 50-50 हजार रुपए का चेक वितरित किया गया। डीसीएलआर एजाज अनवर, डालसा के सचिव कुमारी जीऊ और गुदड़ी बीडीओ सुनील वर्मा ने सभी सात मृतकों के आश्रित को चेक सौंपा। इसके अलावा महिला स्वावलंबन योजना के तहत उपमुखिया जेम्स बुढ़, जावरा लोमगा और निर्मल बूढ़ की विधवाओं को पांच-पांच बकरी और खेती के लिए बीज उपलब्ध कराए। बीडीओ सुनील वर्मा ने बताया- डालसा की तरफ से आश्रितों को 25-25 हजार रुपए जल्द दिए जाएंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना