पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

2014 के विधानसभा चुनाव में 732 प्रत्याशियों को मिले थे नोटा से भी कम वोट

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • लोकसभा चुनाव के बाद विधानसभा चुनाव-2014 में पहली बार ईवीएम में आया नोटा का विकल्प
  • नोटा को सबसे कम वोट रांची में- 717 और सबसे ज्यादा चतरा में 7724
Advertisement
Advertisement

धनबाद (लोकेश). पहली बार ईवीएम में नोटा (नन ऑफ द एबव) का विकल्प 2014 में दिया गया। झारखंड विधानसभा चुनाव 2014 में विधायक पद के उम्मीदवारों को पहली बार नोटा का सामना करना पड़ा था। प्रदेश में कुल 1136 उम्मीदवारों ने अपनी किस्मत आजमाई थी, जिनमें से 732 को नोटा को से कम वोट मिले थे।
 
चुनाव आयोग के सांख्यिकीय आंकड़ों के अनुसार, झारखंड में चतरा विधानसभा सीट पर सबसे ज्यादा मतदाताओं ने नोटा का विकल्प चुना। वहां नोटा को 7724 वोट मिले थे। चतरा में नोटा चौथे नंबर पर रहा। चतरा से लगे सिमरिया सीट पर भी नोटा को 7619 वोट मिले थे। जबकि रांची विधानसभा सीट पर नोटा को 717 वोट मिले थे, जो पूरे प्रदेश में सबसे कम है। यहां रोचक तथ्य यह है कि इसके बाद भी रांची के कुल 18 उम्मीदवारों में नोटा 6वें स्थान पर रहा। यानी 12 उम्मीदवारों को नोटा से भी कम वोट मिले थे। 2014 विस चुनाव में पूरे प्रदेश में कुल 235039 मत नोटा के खाते में थे।
 

इसलिए नोटा का विकल्प
ईवीएम आने के बाद नोटा की मांग उठना शुरू हुई। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई। 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को ईवीएम में नोटा के विकल्प का बटन देने का निर्देश दिया था। इसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में इसे लागू किया गया। उसी साल झारखंड में विधानसभा चुनाव में यह पहली बार लागू किया गया था।
 

नोटा ज्यादा तो दाेबारा चुनाव 
अगर किसी भी विधानसभा क्षेत्र में प्रत्याशियों से अधिक नोटा को वोट मिल जाता है तो इसके लिए आगे की व्यवस्था भी सुनिश्चित की गई है। नोटा को मिला वोट प्रतिशत यदि 33% से अधिक रहता है तो वहां चुनाव स्वत: रद्द हो जाएगा। फिर से चुनाव कराया जाएगा। चुनाव में वे प्रत्याशी ही होंगे, जो पहले से तय हैं, लेकिन अब किसी प्रत्याशी का चुना जाना अनिवार्य होगा।
 

10 विधानसभा सीटें, जहां जीत  का अंतर नोटा से भी कम थ
 
 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement