झारखंड / सबसे ज्यादा फायदा देने के बाद भी रेलवे ने प्रदेश को बनाया डंपिंग यार्ड : हेमंत सोरेन

हेमंत सोरेन। (फाइल फोटो) हेमंत सोरेन। (फाइल फोटो)
X
हेमंत सोरेन। (फाइल फोटो)हेमंत सोरेन। (फाइल फोटो)

  • सीएम ने कहा- झारखंड के लोगों की सुविधा के अनुरूप ट्रेनों की संख्या नहीं

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2020, 11:26 AM IST

रांची. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने रेलवे के वरीय अधिकारियों से कहा है कि रेलवे झारखंड को डंपिंग यार्ड न बनाए। देश में झारखंड एक ऐसा राज्य है, जो रेलवे को सबसे अधिक लाभ देता है। लेकिन रेलवे अपनी ओर से ऐसा रिस्पॉन्स नहीं करती है। झारखंड के लोगों की सुविधा के अनुरूप ट्रेनों की संख्या नहीं है। जो ट्रेने हैं उनमें अधिकांश की गुणवत्ता अच्छी नहीं है। एसी कोच वाली ट्रेनों में एसी की क्वालिटी अच्छी नहीं होती। मुख्यमंत्री शुक्रवार को दक्षिण पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक संजय कुमार मोहंती के साथ झारखंड की जरूरत और योजनाओं पर बात कर रहे थे।

दुमका-रांची ट्रेन में एसी फर्स्ट-एसी टू के कोच लगाएं
मुख्यमंत्री ने कहा कि दुमका- रांची ट्रेन और वनांचल एक्सप्रेस में भी एसी फर्स्ट और एसी टू के कम्पोजिट कोच लगाए जाएं। उन्होंने कहा कि झारखंड के सभी ट्रेनों में इस प्रकार की सुविधा दी जाए, जिससे हर श्रेणियों में यात्रा करने वाले यात्रियों को सुविधा मिले।

विकास के लिए रेलवे को प्रस्ताव देने को कहा 
सीएम ने कहा कि रेलवे को राज्य में विकास की दृष्टि से पेड़ों के काटने की अनुमति की आवश्यकता है, तो इसके लिए समेकित प्रस्ताव बनाकर भेजे ताकि वन विभाग का क्लियरेन्स प्राप्त किया जा सके।

रेलवे ओवरब्रिज और एप्रोच रोड बनाने पर हुई बात 
सीएम ने कहा कि आरओबी या तो रेलवे या राज्य सरकार बनाये। ऐसा देखने में आता है कि आरओबी रेलवे बनाती है, एप्रोच रोड राज्य सरकार। इससे पुल व एप्रोच रोड का एलाइनमेंट सुगम नहीं रह पाता है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना