चारा घोटाला / झारखंड हाईकोर्ट ने लालू यादव की जमानत याचिका खारिज



फिलहाल रिम्स में भर्ती हैं लालू। (फाइल) फिलहाल रिम्स में भर्ती हैं लालू। (फाइल)
X
फिलहाल रिम्स में भर्ती हैं लालू। (फाइल)फिलहाल रिम्स में भर्ती हैं लालू। (फाइल)

  • पिछले हफ्ते सुनवाई के बाद कोर्ट ने फैसला रखा था सुरक्षित
  • इलाज के लिए 11 मई से 27 अगस्त तक जमानत पर रहे लालू, 30 अगस्त को किया था सरेंडर

Dainik Bhaskar

Jan 10, 2019, 02:55 PM IST

रांची. झारखंड हाईकोर्ट ने लालू प्रसाद की जमानत याचिका खारिज कर दी है। चारा घोटाले में दोषी करार दिए गए लालू प्रसाद ने दिसंबर में हाईकोर्ट में याचिका दायर कर जमानत की मांग की थी। गुरुवार को जस्टिस अपरेश सिंह ने इस मामले में फैसला सुनाया और कहा कि याचिका में लालू प्रसाद की ओर से कोई नया ग्राउंड नहीं दिया गया है, इसी ग्राउंड पर पिछली बार उनकी याचिका खारिज की गई थी। इसके अलावा उन्होंने सजा की आधी अवधि अभी जेल में नहीं बिताई है इसलिए उनकी याचिका अस्वीकार की गई।

 

गुरुवार को कोर्ट ने कहा कि मामले में लालू प्रसाद पर गंभीर आरोप हैं। ऐसे में उन्हें इस स्टेज में जमानत नहीं दी जा सकती। इस मामले में लालू प्रसाद और सीबीआई का पक्ष सुनने के बाद गत चार जनवरी को हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। सुनवाई के दौरान सीबीआई की ओर से एएसजीआई राजीव सिन्हा व अधिवक्ता नीरज कुमार ने जमानत याचिका का विरोध किया था और कहा था कि वे मुख्य आरोपी हैं, मामले की जानकारी उनके संज्ञान में आई इसके बाद भी वे चुप रहे और सरकारी खजाना को लूटने दिया। उन्हें जमानत नहीं दी जाए।

 

जमानत की अवधि 6 हफ्ते बढ़ाने की अपील की गई थी

याचिका में कहा गया था कि देवघर, चाईबासा और दुमका कोषागार से अवैध निकासी मामले में इससे पहले भी उनको जमानत मिल चुकी है। लिहाजा उन्हें इस बार भी जमानत की दी जाए। सिब्बल ने मुंबई के हॉस्पिटल के लालू यादव की बीमारियों से संबंधित सर्टिफकेट भी पेश किए। जमानत की अवधि 6 हफ्ते और बढ़ाने की नई याचिका में कहा गया था कि लालू गंभीर रूप से बीमार हैं। वह प्लेटलेट्स की कमी, ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर, हार्ट, किडनी और डिप्रेशन समेत कई गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं।

 

जमानत के लिए तीन आधार बताए गए
लालू की ओर से दायर याचिका में तीन बातों को आधार बनाया गया था। लालू के वकील की ओर से जिस पहली बात को आधार बनाया गया, उसमें कहा गया कि इसी मामले में अन्य दोषियों को जमानत मिल चुकी है, खुद लालू को भी पूर्व में जमानत मिली थी, लिहाजा बेल दी जाए। दूसरा लालू के मेडिकल ग्राउंड और तीसरा आधार उम्र को बनाया गया।

 

23 दिसंबर 2017 से जेल में हैं लालू यादव
लालू को चारा घोटाला के देवघर ट्रेजरी केस में 23 दिसम्बर 2017 को दोषी करार दिया था। तब से वह जेल में है। पिछले साल 17 मार्च को तबीयत बिगड़ने पर पहले रिम्स और फिर दिल्ली एम्स में भर्ती किया गया था। कोर्ट ने उन्हें 11 मई को इलाज के लिए छह हफ्ते की जमानत मंजूर की थी। इसे बढ़ाकर 14 और फिर 27 अगस्त तक किया। कोर्ट ने इसके बाद 30 अगस्त को लालू को कोर्ट में सरेंडर करने का निर्देश दिया था।

 

फिलहाल रिम्स में हैं भर्ती
लालू बीमार होने की वजह से अभी रिम्स में भर्ती हैं। वह देवघर, चाईबासा और दुमका तीन कोषागारों से अवैध रूप निकाली गई करोड़ों रुपये की राशि में दोषी करार दिए गए हैं। उन्होंने सीबीआई कोर्ट के फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती दी है। तीनों ही मामले में उन्होंने जमानत याचिका दायर कर कोर्ट से जमानत की मांग की थी। अपनी बढ़ती उम्र, बीमारियों और रिम्स में सही प्रकार से इलाज नहीं होने की जानकारी देते हुए जामनत मांगी थी। कोर्ट ने गुरुवार को स्पेशल लिस्टिंग कर उनके मामले को सुनवाई में रखा और फैसला सुनाया।

COMMENT