--Advertisement--

जेएन कॉलेज को स्थापना के 46 वर्ष बाद अब मिलेगी 10 एकड़ जमीन

Ranchi News - जगन्नाथनगर कॉलेज (जेएन कॉलेज) के लिए अच्छी खबर है। कॉलेज का नए साल में अपना कैंपस हो जाएगा। भूमि को लेकर चल रहा...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 03:40 AM IST
Ranchi News - jn college will now get 10 acres of land after 46 years of establishment
जगन्नाथनगर कॉलेज (जेएन कॉलेज) के लिए अच्छी खबर है। कॉलेज का नए साल में अपना कैंपस हो जाएगा। भूमि को लेकर चल रहा प्रयास अंतिम चरण में है। 46 साल पहले स्थापित इस सरकारी कॉलेज को लगभग दस एकड़ जमीन मिल रही है। इसके लिए एचईसी प्रबंधन ने सहमति प्रदान कर दी है। भूमि के एवज में बाजार भाव से मूल्य का भुगतान होगा और एचईसी की भूमि कॉलेज की हो जाएगी।

इस कॉलेज में वर्तमान में लगभग छह हजार स्टूडेंट्स पढ़ते हैं। लेकिन 1972 में स्थापित इस कॉलेज के पास अपनी एक इंच भी भूमि नहीं है। इसका सीधा प्रभाव कॉलेज के डेवलपमेंट वर्क पर पड़ रहा था। छात्रों की संख्या के अनुसार, इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप करने में मुश्किल आ रही थी। बताते चलें कि नैक एक्रीडेशन में कॉलेज को बी ग्रेड मिला है।

1975 से जमीन के लिए चल रहा था प्रयास

एचईसी एरिया में कॉलेज की स्थापना की अनुमति केंद्रीय उद्योग मंत्रालय ने दी थी। तब एचईसी की पूरी जमीन भी इसी मंत्रालय के अधीन थी। कॉलेज की स्थापना के तीन साल के बाद 1975 में कॉलेज प्रशासन ने रांची यूनिवर्सिटी के तत्कालीन कुलपति आरएस मंडल से जमीन के लिए प्रस्ताव भेजा था। उनका कार्यकाल नवंबर 1975 में खत्म हुआ, तो डॉ. एके. धान वीसी बने। उन्होंने भी जेएन कॉलेज को जमीन दिलाने की कमान संभाली। इसके बावजूद कोई सफलता हाथ नहीं लगी।

छात्रों की संख्या बढ़ी पर संसाधन यथावत

कॉलेज के पास अपनी जमीन नहीं होने के कारण इसके विकास कार्य बाधित थे। प्रत्येक वर्ष छात्रों की संख्या बढ़ रही थी, लेकिन इंफ्रास्ट्रक्चर यथावत था। इससे पढ़ाई संचालित करने में कठिनाई हो रही थी। यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (यूजीसी) और राज्य सरकार से किसी प्रकार का अनुदान नहीं मिलता है, क्योंकि इस कॉलेज के पास अपनी जमीन थी। 46 वर्ष से इस कॉलेज के साथ अनदेखी हो रही थी।

जेएन कॉलेज की पुरानी बिल्डिंग, जहां वर्तमान में छह हजार स्टूडेंट्स पढ़ाई कर रहे हैं।

भव्य बिल्डिंग का निर्माण किया जाएगा

जेएन कॉलेज का भवन काफी पुराना और जर्जर हो चुका है। इसे तोड़ कर नया भवन बनाया जाएगा। इसमें एक मल्टीपर्पस हॉल, एक एकड़ जमीन पर गार्डेन, दो लाख किताबें रखने और एक साथ 500 लोगों के बैठने की क्षमता वाली लाइब्रेरी, अलग से गर्ल्स के लिए कॉमन रूम, शिक्षकों के लिए स्टाफ रूम, डिस्पेंसरी, वाटर ट्रीटमेंट प्लांट समेत अन्य विकास कार्य किए जाएंगे।

वर्तमान वीसी के प्रयास से मिली सफलता

वर्तमान वीसी डॉ. रमेश कुमार पांडेय ने कॉलेज की भूमि को लेकर प्रयास शुरू किया। एचईसी प्रबंधन और संबंधित विभाग के अधिकारियों के साथ व्यक्तिगत रुचि लेते हुए मिले और कॉलेज की भूमि के लिए प्रयास किया। इस क्रम में अधिकारियों के साथ कई बार बैठकें भी की। इसके बाद एचईसी ने उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग को पत्र लिखकर मौजूदा बाजार दर पर भूमि देने की सहमति प्रदान कर दी है। यह जेएन कॉलेज के लिए एक नई शुरुआत है।

इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास करना हो जाएगा आसान


X
Ranchi News - jn college will now get 10 acres of land after 46 years of establishment
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..