सफलता / पत्रकार हत्याकांड में दो आरोपी गिरफ्तार, खबर प्रकाशित करने के प्रतिशोध में हुई थी हत्या



पुलिस हिरासत में दोनों आरोपी। पुलिस हिरासत में दोनों आरोपी।
X
पुलिस हिरासत में दोनों आरोपी।पुलिस हिरासत में दोनों आरोपी।

  • हत्या में प्रयुक्त डंडे को पुलिस ने किया बरामद, घटनास्थल से कुछ दूरी पर पत्रकार का चश्मा मिला

Nov 01, 2018, 05:54 PM IST

चतरा. पत्थलगडा में पत्रकार चंदन तिवारी हत्याकांड का पुलिस ने गुरुवार को खुलासा कर दिया। मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है जबकि एक अन्य फरार आरोपी की तलाश की जा रही है। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक अखिलेश वी वारियर ने प्रेसवार्ता कर जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तालाब निर्माण की खबर प्रकाशित करने के प्रतिशोध में चंदन तिवारी की हत्या की गई थी। 

आरोपियों ने कबूला गुनाह

  1. एसपी ने बताया कि बुधवार रात छापेमारी कर जमुना प्रसाद और मुसाफिर राणा दोनों पत्थलगडा निवासी को छापेमारी कर गिरफ्तार किया गया। दोनों ने पूछताछ के दौरान स्वीकार किया कि उन्होंने एक अन्य सहयोगी पिंटू सिंह के साथ मिलकर चंदन तिवारी की हत्या की है। उन्होंने बताया कि पत्थलगडा में मनरेगा योजना के भुगतान को लेकर हुए विवाद में हत्याकांड को अंजाम दिया गया है। उन्होंने बताया कि पिंटू सिंह ने मनरेगा में 4.50 लाख के तालाब निर्माण का कार्य जेसीबी से करवाया था। इस संबंध में चंदन ने अनियमितता को लेकर खबर प्रकाशित की थी। 

  2. मरा समझकर सड़क किनारे फेंक कर भागे आरोपी

    दोनों आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि सोमवार देर शाम वे शराब पीकर होटल के बाहर निकले। बाहर उन्होंने चंदन को नशे में देखा। इस दौरान पिंटू सिंह चंदन के पास गया और कहा कि और दारू पीना है तो साथ  चलिए। फिर पिंटू ने बाइक पर चंदन को बिठाया और इस दौरान जमुना भी बाइक पर बैठ गया। जबकि दूसरे बाइक से मुसाफिर राणा पीछे-पीछे चलने लगा। तीनों चंदन को लेकर सौदावरी जंगल ले गए और वहां चंदन की लाठी-डंडों से पिटाई कर दी। इसके
    बाद चंदन को मरा समझ तीनों उसे बाइक से बलथरवा-मुड़मुड़ मोरंग रोड के किनारे फेंक कर भाग निकले।    

  3. सोमवार रात हुई थी पत्रकार की हत्या

    सोमवार की रात पत्थलगडा के पत्रकार चंदन तिवारी की हत्या पीट-पीटकर कर दी गई थी। घटना के बाद आम लोगों के साथ साथ पत्रकारों में भी काफी रोष है। विभिन्न राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता, सामाजिक कार्यकर्ता व पत्रकार इस मामले की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग कर रहे हैं। हत्या के दूसरे दिन मंगलवार को डीआईजी हजारीबाग प्रक्षेत्र पंकज कंबोज भी पत्थलगडा पहुंचकर मृतक के परिजनों से मुलाकात की व घटना की जानकारी ली थी। 

  4. एसपी ने विशेष जांच दल का किया था गठन

    पंकज कंबोज ने भी एसपी व अन्य पुलिस पदाधिकारियों को इस मामले का जल्द खुलासा करने का निर्देश दिया था। घटना के बाद एसपी ने सिमरिया एसडीपीओ प्रदीप पाल कश्यप के नेतृत्व में एक विशेष जांच दल गठित की गई थी। सूत्र बताते हैं कि मंगलवार की देर शाम पत्थलगडा व इसके आस-पास के गांव से एक दर्जन युवकों को उठाया गया था। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना