झारखंड / एनआरपी-एनआरसी के जरिए जल, जंगल और जमीन को छीनने की तैयारी: कन्हैया कुमार

सभा को संबोधित करते कन्हैया कुमार। सभा को संबोधित करते कन्हैया कुमार।
X
सभा को संबोधित करते कन्हैया कुमार।सभा को संबोधित करते कन्हैया कुमार।

  • जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया ने रांची के कडरू ईदगाह मैदान में लोगों को किया संबोधित

दैनिक भास्कर

Feb 29, 2020, 10:02 AM IST

रांची. झारखंड की सरकार अगर एनपीआर-एनआरसी अगर लागू करती है, तो सबसे बड़ा खामियाजा यहां के लोगों को उठाना पड़ेगा। जब वे अपने पुरखों का कागज नहीं दे पाएंगे, उनका जंगल-जमीन छीनने की तैयारी की जा रही है। ये बातें जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने शुक्रवार को कडरू ईदगाह मैदान में आयोजित कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि एक डेलीगेशन झारखंड सरकार से मिलिए। जैसे हमारा डेलीगेशन बिहार सरकार से मिला था। बिहार के लोगों ने इस साजिश को समझा कि इस कानून से नुकसान दलित, पिछड़ों, अति पिछड़ों व गरीब को उठाना पड़ेगा। उसी तरह इस कानून से झारखंड के लोगों को भी नुकसान उठाना पड़ सकता है, यह समझना होगा। 

कन्हैया ने कहा कि एनआरसी-एनपीआर है क्या? कागज मांग कर आपकी नागरिकता साबित करने कहा जाएगा। जब कागज की गलतियों के कारण नागरिकता साबित नहीं कर पाएंगे तो जल-जंगल जमीन छीन लिया जाएगा। दरअसल एनपीआर वह बांस है, जिससे एनआरसी की बांसुरी बजाकर ये सीएए नाम की बीन से हिंदू-मुस्लाम का धुन बजाना चाहते हैं। एनपीआर का बांस ही इनसे छिन लेना है। इसके खिलाफ राज्य सरकार से बात करें कि रेज्युलेशन पास करंे। अगर सरकार ने नहीं मानेगी तो अपनी पंचायतों से इसे पास कराएं। इससे पूर्व डॉ. कैसर अली खान (पूर्व महासचिव बिहार कांग्रेस स्टेट कमेटी) ने कहा कि नफरत को नफरत से नहीं, मुहब्बत से खत्म करना होगा। जबकि, शकील अहमद खान (विधायक कदवा कटिहार, बिहार विस) ने कहा कि भाजपा से डराकर इलेक्शन में वोट लिया जाता है। इस पर ध्यान मत देना। कार्यक्रम से पूर्व स्वागत भाषण अंजुमन इस्लामिया के अध्यक्ष इबरार अहमद ने दी।

जगह मिलने के बाद मिला परमिशन
कडरू हज हाउस के समीप शाहीनबाग में कन्हैया कुमार के कार्यक्रम की अनुमति हम भारत के लोग संस्था के लाडले खान ने एसडीओ से मांगी थी। लेकिन विधि-व्यवस्था व ट्रैफिक व्यवस्था को लेकर एसडीओ ने परमिशन नहीं दिया था। कहा था कि जगह बदलने के बाद परमिशन ले सकते हैं। इसके बाद कार्यक्रम कडरू ईदगाह में करने की अनुमति एसडीओ से मांगी। 12 शर्ताें पर कार्यक्रम करने की अनुमति एसडीओ ने दी। उन्होंने स्पष्ट कहा कि किसी प्रकार का जुलूस रैली का आयोजन नहीं कर सकते। आम लोगों को कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना