कोडरमा / स्कूल से लौट रही नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म की कोशिश नाकाम होने पर कर दी थी हत्या, अब कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद

प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • 7 जनवरी 2019 को स्कूल से लौट रही छात्रा से दुष्कर्म का किया प्रयास
  • दुष्कर्म में विफल होने पर धारदार हथियार से छात्रा की हत्या कर दी थी

दैनिक भास्कर

Mar 07, 2020, 06:00 PM IST

कोडरमा. नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म की कोशिश और फिर हत्या करने के मामले में तीन लोगों को जिला कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रथम रामाशंकर सिंह की अदालत ने यह फैसला सुनाया है। सजा पाने वालों में सिमरिया के रहने वाले परमेश्वर चौधरी उर्फ भट्‌टू पासी, विनोद राणा उर्फ मुन्ना राणा और अरुण ठाकुर के नाम शामिल हैं। घटना 7 जनवरी 2019 की है। 

सुनवाई में 22 गवाहों का कराया परीक्षण
कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने और अभिलेख के साक्ष्यों के आधार पर अभियुक्तों को भादवी की धारा 302, 376डी, 511 और 201 के तहत सजा सुनाई है। सुनवाई के दौरान 22 गवाहों का परीक्षण कराया। अभियोजन पक्ष की ओर से अपर लोक अभियोजक विनोद कुमार और बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता वासिफ बख्तावर खान, कामेश्वर यादव और अनवर हुसैन ने दलीलें रखी।

क्या था मामला
दशारो खुर्द की एक नाबालिग छात्रा मध्य विद्यालय सिमरिया में पढ़ने गई थी। स्कूल से लौटने के दौरान 7 जनवरी 2019 को परमेश्वर चौधरी, विनोद राणा और अरूण ठाकुर नाबालिग छात्रा का अपहरण कर खेत की ओर ले गए, जहां उसके साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया। छात्रा की ओर से विरोध और दुष्कर्म करने में असफल रहने पर तीनों ने गुस्से में धारदार हथियार से छात्रा का गला रेत कर हत्या कर दी थी। 8 जनवरी को छात्रा के पिता ने मरकच्चो थाना में मामला दर्ज कराया। 9 जनवरी को नाबालिग का शव खगरवा टांड के परसौनियां की एक सड़क के पास सुनसान खेत से बरामद किया। नाबालिग के शव के कई हिस्सों को आवारा कुत्ताें और जंगली जानवरों ने नोंच कर खा लिया था।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना