विज्ञापन

सफलता / गोदाम में छुपा कर रखा चार किलो अफीम, दो देसी कट्टा और तीन कारतूस बरामद

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 06:49 PM IST


बरामद अफीम व हथियार की जानकारी देते एसडीपीओ। बरामद अफीम व हथियार की जानकारी देते एसडीपीओ।
X
बरामद अफीम व हथियार की जानकारी देते एसडीपीओ।बरामद अफीम व हथियार की जानकारी देते एसडीपीओ।
  • comment

  • बरामदगी के तीसरे दिन रात में किया गया प्रेस कांफ्रेंस
  • गिरफ्तार किए गए आरोपियों को पीआर बांड पर छोड़ा, पुलिस की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में

लातेहार. बालूमाथ पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर मंगलवार को रहमत नगर में छापामारी अभियान चलाकर मोहम्मद नासिर और मोहम्मद इमरान के घर के गोदाम से साढ़े चार किलोग्राम अफीम, दो देसी कट्टा व तीन जिंदा कारतूस बरामद किया गया है। बालूमाथ एसडीपीओ नितिन खंडेलवाल ने गुरुवार को प्रेस वार्ता में बताया कि जब्त अफीम की कीमत स्थानीय बाजार मेंं लगभग साढ़े चार लाख रुपए है। एसडीपीओ ने बताया कि मामला दर्ज कर अनुसंधान कर रही है।

बरामदगी के तीसरे दिन प्रेसवार्ता कर दी जानकारी

  1. अफीम व हथियार बरामदगी के दौरान पुलिस ने मो. नासिर एवं उसके पुत्र मो. इमरान को पुलिस ने गिरफ्तार भी किया था, जिसे मंगलवार की ही रात्रि 10:30 बजे पीआर बांड भरवाकर छोड़ दिया। पूूूूरे मामले में पुलिस के कार्य शैली कई सवालों को जन्म दे रही है। लोगों में यह चर्चा का विषय बना हुआ है कि अगर मंगलवार को अफीम व हथियार बरामद हुआ था तो गुरुवार की रात्रि सात बजे तक पुलिस क्यों छुपाकर रखी एवं तीन दिन बाद प्राथमिकी दर्ज क्यों की गई?  

  2. थानेदार ने सामग्री जब्त किए जाने की बात से कर दिया इनकार

    अफीम व हथियार के साथ दो को गिरफ्तार किए जाने की चर्चा हर ओर थी। बुधवार को पत्रकारों को थाना प्रभारी सनोज कुमार चौधरी ने स्पष्ट शब्दों में कहा था कि नासिर मियां के घर से कोई भी सामाग्री जब्त नहीं की गई है। जब गुरुवार को लगभग तीन बजे एसडीपीओ खंडेलवाल से पत्रकारों ने इस बावत जानकारी मांगी तो उन्होंने पत्रकारों को गुमराह करते हुए कहा था कि नामजद अभियुक्त मो जाहिद के केस के अनुसंधान में 15 लोगों का नाम आया था। उसी अनुसंधान के क्रम में मो. नासिर व मो. इमरान को पूछताछ के लिए पुलिस लाई थी। एसडीपीओ द्वारा यह कहा गया था कि मो. नासिर के घर से कोई भी सामान बरामदगी नहीं हुई है, जबकि गुरुवार की संध्या सात बजे आनन-फानन में प्रेसवार्ता बुलाकर उन्हीं के द्वारा यह जानकारी दी गई। 

  3. सोशल मीडिया की खबर को एसडीपीओ ने झुठलाया था

    बुधवार को ही सोशल मीडिया पर भी अफीम व हथियार की बरामदगी के साथ दो के गिरफ्तार होने की खबर वायरल हुई थी। इस ग्रुप में एसडीपीओ नितिन खंडेलवाल भी हैं। उन्होंने तत्काल यह प्रतिक्रिया दी थी कि यह भ्रामक व तथ्यहीन खबर है। इसके बाद इस खबर को ग्रुप से डिलीट कर दिया गया था। अब वही एसडीपीओ इस खबर को सच बता रहे हैं। ऐसे में उनकी कार्यप्रणाली समझी जा सकती है। 

  4. एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई का है प्रावधान

    एनडीपीएस एक्ट के मुताबिक गांव में अगर पोस्ते की खेती होती है और इसकी सूचना जनप्रतिनिधि या सरकारी कर्मचारी को पुलिस को देनी है। जो पोस्ते की खेती करने वाले का सहयोग करता है तो उस पर भी एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई का प्रावधान है। कानूनी जानकारों के अनुसार थाना से उन्हीं अभियुक्तों को पीआर बांड भरवा कर छोड़ा जाता है, जो केश जमानतीय हो। लेकिन, मो. नासिर के घर के गोदाम से अफीम व हथियार बरामद होने के बाद उसे थाना से छोड़ देना व प्राथमिकी दर्ज होने के बाद भी अभियुक्त को गिरफ्तार न करना कई सवालों का जन्म दे रहा है।

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन