• Home
  • Jharkhand News
  • Ranchi
  • News
  • नि:स्वार्थ प्रेम से ईश्वर ही नहीं संसार को भी जीत सकते हैं : सुमन किशोरी
--Advertisement--

नि:स्वार्थ प्रेम से ईश्वर ही नहीं संसार को भी जीत सकते हैं : सुमन किशोरी

श्रीमदभागवत ज्ञान महायज्ञ के तीसरे दिन का भागवत सत्संग बड़े ही भक्तिभाव के साथ संपन्न हुआ। अपराह्न तीन बजे से...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 03:15 AM IST
श्रीमदभागवत ज्ञान महायज्ञ के तीसरे दिन का भागवत सत्संग बड़े ही भक्तिभाव के साथ संपन्न हुआ। अपराह्न तीन बजे से कथावाचिका सुमन किशोरी का भागवत व धर्म से संबंधित प्रवचन हुआ। उन्होंने बताया कि नि:स्वार्थ प्रेम से ईश्वर ही नहीं संसार को भी जीता जा सकता है। प्रेम से मानव जीवन धन्य हो जाता है। आज विकृति फैल गई है, मनुष्य-मनुष्य से डर रहा है। इस विकृति को दूर करना ही मानवता है। ईश्वर को पाने के लिए कलियुग में केवल भगवान नाम को ही आधार माना गया है। उन्होंने बताया कि सतयुग में मानव जीवन एक लाख वर्ष, त्रेता में 10 हजार वर्ष, द्वापर में 1000 वर्ष होता था। जबकि कलियुग में मात्र 100 वर्ष है। सभी युगों में तपस्या अनुष्ठान कई तरह के धार्मिक कार्य किए जाते थे, लेकिन कलियुग में नाम से ही मनुष्य तर जाता है। चंचल मन को भगवान में लगाने के लिए आसन में बैठना ब्रह्म मुहूर्त में उठना, माता-पिता व धरती को प्रणाम करना और सत्संग करना जरूरी है।

इसके पूर्व महिला समिति द्वारा ठाकुर जी, भागवत और सुमन किशोरी को माल्यार्पण किया गया। मुख्य अतिथि झारखंड प्रदेश किसान मोर्चा के महामंत्री पंकज नाथ शाहदेव को समिति की ओर से माला और पाटिका देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के सफल आयोजन में तपेश्वर केसरी, केदारनाथ भगत, हेमंत केसरी, चुड़ामणि महतो, द्वारिका केसरी, दौलतराम केसरी, शीला देवी, शांति चौधरी सहित समिति के पदाधिकारियों का योगदान रहा।

श्रीमदभागवत ज्ञान महायज्ञ में कथावाचन करतीं सुमन किशोरी।

शिव व हनुमान मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा शुरू

पिस्का नगड़ी | पदमपुर गांव में सोमवार को नवनिर्मित शिव व हनुमान मंदिर के पांच दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम कलश यात्रा के साथ शुरू हुई। 501 महिलाओं व कन्याओं ने पदमपुर से लगभग 10 किमी दूर स्थित स्वर्णरेखा के उद्गम स्थल रानी चुआं पहुंचे, जहां कलश में जलभर कर पुन: बजरंग बली के जयकारे के साथ वापस मंदिर परिसर पहुंचे। पंडित सोनू पाठक द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के बीच कलश पूजन, वरुण पूजन, पंचांग पूजन सह मंडप प्रवेश कार्यक्रम किए गए। पांच दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा समारोह का समापन 20 अप्रैल को प्राण प्रतिष्ठा, रुद्राभिषेक, देवता आह्वान, विसर्जन व विशाल भंडारा के साथ कार्यक्रम का समापन होगा। प्रतिदिन रात में पंडित मुकेश शास्त्री व रामरेखा धाम के महंत उमाशंकर का प्रवचन होगा। कार्यक्रम के संचालन में युगेश्वर महतो, चमरा महतो, कुलदीप महतो, लखन महतो, प्रकाश महतो, लक्ष्मण महतो, जीतेंद्र महतो, ननकू महतो, करमा महतो सहित समिति के सभी लोग शामिल है।

रोहिणी में हनुमान मंदिर के स्थापना दिवस मनाने को लेकर कमेटी गठित

खलारी | रोहिणी में हनुमान मंदिर के स्थापना दिवस मनाने को लेकर परियोजना पदाधिकारी एमके अग्रवाल की अध्यक्षता में बैठक की गई। 20 मई को मंदिर का स्थापना दिवस सौहार्दपूर्ण वातावरण में मनाने का निर्णय लिया गया। स्थापना दिवस को लेकर एक कमेटी का गठन किया गया।

कमेटी में अध्यक्ष परियोजना पदाधिकारी एमके अग्रवाल, उपाध्यक्ष विमल कुमार, संजय कुमार पांडेय, दीपक कुमार सोनवानी, प्रभु प्रसाद साहू, सत्येंद्र कुमार, सचिव आरपी वर्मा, रामा उरांव, राजनाथ सिंह, प्यहारी भगत, बसंत प्रसाद, सहसचिव अवधबिहारी पांडेय, एसपी सिंह, गुलाब राजभर, वरुण कुमार गोराई, संजय प्रसाद, कोषाध्यक्ष कर्मजीत प्रसाद, रितेश वर्मा, रामस्वरूप राम, रवि वर्मा, बालमुकुंद पांडेय, सहकोषाध्यक्ष अनिल कुमार, अवतार सिंह, तुषार प्रसाद, बुधनाथ, आनंद कुमार पांडेय, संगठन सचिव गौतम गिरि, नरेश प्रसाद, मोहन पांडेय, संजय पांडेय, राकेश कुमार, संरक्षक में नागेंद्र सिंह, रामदरस, सुंदर कुमार, राजेंद्र करमाली, अभय राम, यशवंत, लालकिशोर, उदय, दिनेश मंडल, महेश प्रजापति, नेपाल राम रवानी के साथ ही 24 लोगों को कार्यकारिणी सदस्यों के रूप में रखा गया है।