• Hindi News
  • National
  • धर्म परिवर्तन का प्रयास करने के 4 आरोपी धराए, जेल

धर्म परिवर्तन का प्रयास करने के 4 आरोपी धराए, जेल

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जेल भेजे गए लोगों में शिकायत करने वाले की बेटी और उसका प्रेमी भी

भास्कर न्यूज़ | बोलबा

बोलबा पुलिस ने जबरन धर्म परिवर्तन कराने का प्रयास करने के चार आरोपियों को बुधवार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। गिरफ्तार आरोपियों में सुमंती कुमारी, रूपेश मांझी, सुदर्शन मांझी और नीलम देवी शामिल हैं।

प्रखंड के अवगा पोंड़खेर निवासी 65 वर्षीय बुजुर्ग सोमारु मांझी ने अपनी बेटी, उसके प्रेमी और दो ईसाई धर्म प्रचारकों पर सरना धर्म से ईसाई धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाने और मारपीट करने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया था। इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। धर्म परिवर्तन मामले में प्रखंड में यह पहली गिरफ्तारी है। बोलबा के थाना प्रभारी रवि शंकर ने बताया कि 29 मई को अवगा पोंड़खेर निवासी सोमारू मांझी ने पंचायत के मुखिया और गांव के कई लोगों के साथ थाना में आकर यह शिकायत की थी कि उनकी बेटी सुमंती कुमारी, उसका प्रेमी रूपेश मांझी और दो ईसाई धर्म प्रचारक सुदर्शन मांझी तथा नीलम देवी ईसाई धर्म अपनाने के लिए दबाव बना रहे हैं। इन लोगों ने मेरे ही घर में मुझे ईसाई धर्म अपनाने के लिए लाठी-डंडे से और लात-मुक्के से पीटा है। गांववालों ने मुझे बचाया और गांववालों के सहयोग से मैं थाना पहुंचा हूं। वृद्ध ने कहा कि कुरडेग प्रखंड के हेठमा निवासी रूपेश मांझी मेरी बेटी से प्यार करता है। वह ईसाई धर्म मानता है और मेरी बेटी भी उसके चक्कर में ईसाई धर्म को मानने लगी है। कुंदुरमुंडा अंबाटोली निवासी और ईसाई धर्म प्रचारक सुदर्शन मांझी और अवगा पोंड़खेर के नीलम देवी ने भी धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाया। मेरी बेटी और उसका प्रेमी 30 मई को ईसाई संस्कृति से शादी करना चाहते थे। परंतु मैंने सरना धर्म के तहत ही शादी करने की बात कही। साथ ही कहा कि मैं अपने पूर्वजों का सरना धर्म नहीं बदलूंगा। जिसके बाद चारों ने मेरी पिटाई की।

खबरें और भी हैं...