--Advertisement--

पर्यावरण संतुलन के लिए गौरैया का बचाव जरूरी

जिले के जुरिया करमटोली स्थित एमबी डीएवी सीनियर सेकेंड्री पब्लिक स्कूल में गुरुवार को विश्व गौरेया दिवस के पूर्व...

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 03:25 AM IST
पर्यावरण संतुलन के लिए गौरैया का बचाव जरूरी
जिले के जुरिया करमटोली स्थित एमबी डीएवी सीनियर सेकेंड्री पब्लिक स्कूल में गुरुवार को विश्व गौरेया दिवस के पूर्व सप्ताह पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर मानव निर्मित गौरेया के घोसलों का वितरण किया गया। डीएफओ विकास कुमार उज्जवल ने कहा कि पर्यावरण संतुलन और स्वास्थ एकोलॉजी के निर्माण के लिए लुप्त हो रही गौरैया का बचाव करना जरूरी है। डीएफओ ने छात्र छात्राओं द्वारा आईएएस बनने के सवाल पर सटीक व सफलता के गुर बताए। स्कूल के प्राचार्य की सहमति से सभी छात्र छात्राओं को गौरेया का बचाव पर होमवर्क करने को कहा। झारखंड के बर्डमैन और विश्व प्रसिद्ध बर्ड वाचर सालीम अली की परंपरा का निर्वहन करने वाले पन्ना लाल ने 20 से अधिक पक्षियों की आवाज निकालकर छात्र-छात्राओं को गौरेया संरक्षण करने के लिए प्रेरित किया। विद्यालय के प्राचार्य कल्यान चंदर ने कहा कि मानव जाति सहित अन्य वन पक्षियों के संरक्षण के लिए पर्यावरण संरक्षण पर कार्य करनी चाहिए। इस मौके पर विद्यालय के शिक्षक एमके झा, एके अम्बट, पीके सिंह, वाल्मिकी सिंह, एके वर्मा, एम बसु, यूसी दास, गोपाल कुमार, अमित कुमार, वन विभाग के पदाधिकारी गायत्री देवी, किशोरनंद कुमार, राजेन्द्र उरांव, अनुप शाहदेव सहित स्कूल के छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

X
पर्यावरण संतुलन के लिए गौरैया का बचाव जरूरी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..