--Advertisement--

कई बूथों पर सूची में नाम नहीं होने पर लौटे मतदाता

News - रांची | हिंदपीढ़ी स्थित इस्लामी मरकज की गली में सुबह-सुबह जफर आलम दिखे। बोले- बताएं बूथ की वोटर लिस्ट में मेरा नाम...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 03:20 AM IST
कई बूथों पर सूची में नाम नहीं होने पर लौटे मतदाता
रांची | हिंदपीढ़ी स्थित इस्लामी मरकज की गली में सुबह-सुबह जफर आलम दिखे। बोले- बताएं बूथ की वोटर लिस्ट में मेरा नाम ही नहीं है। जबकि हर चुनाव में यहीं वोट करते थे। इसी बूथ पर अधिवक्ता मो. शहनवाज मिले, उनका भी दर्द यही था। इसी से दो-चार बशीर अहमद गुरुनानक स्कूल में मिले। ऐसे वोटरों की संख्या हिंदपीढ़ी, आजाद बस्ती से लेकर पुरानी रांची इलाके के लगभग हर बूथ पर नजर आई, जो सूची में नाम नहीं होने के कारण निराश लौट रहे थे। वे इस बूथ से उस बूथ पर भटकते रहे। मारवाड़ी कॉलेज के पास खेत मोहल्ला के एसएम सोनू मिले। उनके परिवार के तीन लोगों के नाम वोटर लिस्ट में नहीं हैं। पुरानी रांची के एस अली की परेशानी का सबब भी यही था।

एटीआई बूथ पर सबसे अधिक वीआईपी वोटर, शाम 4.30 बजे तक 20% भी वोटिंग नहीं : एटीआई मतदान केंद्र पर वीआईपी वोटरों की संख्या अन्य बूथों की अपेक्षा अधिक है। यहां दो मतदान केंद्र बनाए गए थे। शाम 4.30 बजे तक दोनों बूथों पर काफी कम वोट पड़े। एक बूथ पर कुल 1161 में से सिर्फ 205 मतदाताओं ने वोट डाले थे। यानी 17.65 प्रतिशत ही। वहीं दूसरे बूथ पर 611 मतदाताओं में से सिर्फ 119 ने वोट ही डाले थे।

किड्जी स्कूल में ढाई घंटे देर से शुरू हुआ मतदान, मात्र 373 वोट पड़े : रानी बागान स्थित किड्जी स्कूल में सुबह में ढाई घंटे विलंब से मतदान शुरू हुआ। इस कारण यहां हो-हंगामा भी हुआ। यहां मतदाताओं की संख्या 1183 है। लेकिन, शाम तक सिर्फ 373 वोट ही पड़े थे। पूछने पर पीठासीन पदाधिकारी ने कहा कि देर शाम तक वोटिंग बढ़ेगी। हालांकि यहां मतदाता पहुंचे ही नहीं।

ईवीएम उठाने से रोका : रामलखन सिंह यादव कॉलेज मतदान केंद्र पर कुछ प्रत्याशियों के समर्थकों ने दूसरे प्रत्याशी के लोगों द्वारा बार-बार किए जा रहे मतदान का विरोध किया। प्रशासन की मिलीभगत का आरोप लगाते हुए मतदान की समाप्ति के बाद प्रशासन के लोगों को ईवीएम मशीन उठाने से रोक दिया। बाद मेंे जाने दिया।

वाेट नहीं दे सकीं राज्यपाल : एटीआई बूथ पर द्रौपदी मुर्मू मतदान नहीं कर सकीं। उनका नाम वोटर लिस्ट में नहीं था। नाम जोड़ने के लिए डीसी की ओर से फॉर्म-6 भेजा गया था, लेकिन राजभवन की ओर से बताया गया कि राज्यपाल द्रौपदी मूर्मू का का नाम ओड़िशा की वोटर लिस्ट में है।

X
कई बूथों पर सूची में नाम नहीं होने पर लौटे मतदाता
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..