Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» अपनी क्रिएटिविटी दिखा नगमा हसन बनी मधुरिमा बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट क्वीन, सुष्मिता मंडल रहीं फर्स्ट रनरअप

अपनी क्रिएटिविटी दिखा नगमा हसन बनी मधुरिमा बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट क्वीन, सुष्मिता मंडल रहीं फर्स्ट रनरअप

कहते हैं रचनात्मकता और उम्र का कोई संबंध नहीं होता है। यदि आपकी प्रवृति रचनात्मक है, यदि आप लीक से हट कर कुछ अलग...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:40 AM IST

  • अपनी क्रिएटिविटी दिखा नगमा हसन बनी मधुरिमा बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट क्वीन, सुष्मिता मंडल रहीं फर्स्ट रनरअप
    +3और स्लाइड देखें
    कहते हैं रचनात्मकता और उम्र का कोई संबंध नहीं होता है। यदि आपकी प्रवृति रचनात्मक है, यदि आप लीक से हट कर कुछ अलग सोचते हैं या कुछ अलग करने का प्रयास करते हैं, तो न सिर्फ आप सफल होते हैं बल्कि दूसरों के लिए प्रेरणा भी बनते हैं। ऐसा ही कुछ नजारा देखने को मिला सोमवार को द होटल काव्स में आयोजित दैनिक भास्कर बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट कांटेस्ट में। जहां 14 साल से लेकर 80 साल की महिलाओं ने भाग लिया और अपनी क्रिएटिविटी से ज्यूरी को भी सोचने पर विवश कर दिया। कुछ प्रतिभागियों ने जहां अपनी क्रिएटिविटी के माध्यम से पर्यावरण बचाने और ग्रीनरी का संदेश दिया, वहीं कुछ प्रतिभाशाली प्रतिभागियों ने बेकार पड़ी चीजों का ऐसे इस्तेमाल कर बताया, मानो वो इसी उपयोग के लिए बनी हों।

    कार्यक्रम को सफल बनाने में इनकी रही भूमिका - इस कार्यक्रम को सफल बनाने में हॉस्पिटैलिटी पार्टनर द काव्स रेस्टोरेंट, सिल्वर लाइनिंग की हर्षिता सिन्हा तथा एंकर निहारिका आनंद की अत्यंत सराहनीय भूमिका रही। सबकी मदद से कार्यक्रम को सफल बनाने में हमें कामयाबी मिली।

    ज्यूरी में शामिल सदस्यों ने कहा प्रतिभा उम्र की मोहताज नहीं

    भास्कर मधुरिमा क्लब वास्तव में महिलाओं को एक ऐसा मंच देता है, जहां वे अपने हुनर का प्रदर्शन कर सकें। 14 वर्ष से लेकर 80 वर्ष तक की आयु की प्रतिभागियों को देखकर इसकी पहुंच और असर का अंदाजा लगाया जा सकता है। इन लोगों ने साबित किया कि प्रतिभा उम्र की मोहताज नहीं होती, बस आपके अंदर कुछ करने का जुनून होना चाहिए। यहां आने वाले सभी प्रतिभागी विजेता हैं। धनंजय, कलाकृति स्कूल ऑफ आ‌र्ट्स

    बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट फन और क्रिएटिविटी का सबसे बड़ा माध्यम है। यह रीसाइकलिंग की भी एक प्रक्रिया है। रजनी कुमारी, असिस्टेंट डायरेक्टर, कलाकृति स्कूल ऑफ आर्ट

    बनें दैनिक भास्कर मधुरिमा क्लब वाट्सएप ग्रुप के मेंबर : दैनिक भास्कर मधुरिमा क्लब से जुड़ कर आप भी अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित कर सकते हैं। बेहतर बनाने के लिए सुझाव भी दे सकते हैं। इससे जुड़ने के लिए 9431767129 / 9304875303/ 9308513369 पर वाट्सएप करें।

    सभी प्रतिभागियों ने अपनी क्रिएटिविटी का शानदार नमूना पेश किया। ज्यूरी के तौर पर हमारे लिए जजमेंट करना बहुत ही मुश्किल था। हमने आइडिया, वेस्ट मैटीरियल का प्रयोग और उसकी उपयोगिता तथा प्रजेंटेशन के आधार पर मार्किंग की। मधुरिमा को बहुत-बहुत धन्यवाद कि इसने प्रतिभागियों को इस तरह के मंच उपलब्ध कराए हैं। दीपांकर कर्मकार, युगांतर आर्ट क्राफ्ट एंड कल्चर फाउंडेशन

    ये बने विनर

    तीन सदस्यीय ज्यूरी पैनल द्वारा तीन अलग-अलग पैरामीटर 1. यूज ऑफ वेस्ट मैटीरियल 2. क्रिएटिविटी 3 उपयोगिता और प्रजेंटेशन के आधार पर मार्किंग की गई। कोल्ड ड्रिंक के बेकार पड़े बॉटल और कार्ड बोर्ड का इस्तेमाल कर नाइट लैंप तथा पुराने अखबार से बास्केट बीन बनाने वाली नगमा हसन ने मधुरिमा बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट का खिताब जीता। बेस्टे बॉटल से किचन गार्डेनिंग का कॉन्सेप्ट देकर, पुरानी चायछकनी को आइना का रूप देकर तथा बेकार सीडी में अपनी क्रिएटिविटी दिखाकर सुष्मिता मंडल फर्स्ट रनरअप रहीं। कपड़ों के कतरन से मोबाइल पाउच, बेबी बैग्स, मिसलेनियस होल्डर जैसी चीजें बनाने वाली लक्ष्यम फाउंडेशन की ज्योति गुप्ता सेकेंड रनर अप रहीं। दीया स्टैंड और अन्य डेकोरेटिव आइटम बना कर बेस्ट इनोवेशन का खिताब 14 साल की दीक्षा ने जीता। पुराने कपड़े, कॉटन, मोती का इस्तेमाल कर देवी-देवताओं का निर्माण कर 80 वर्षीय सीता राम जैन ने ज्यूरी च्वाइस का अवार्ड जीता।

    विजेताओं कहा थैक्यू भास्कर

    नगमा हसन ने कहा कि ड्राइंग का शौक पहले से था किंतु पहली बार बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट में भाग लिया। इसकी विजेता बन काफी खुश हूं। धन्यवाद नगमा हसन, विनर, मधुरिमा बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट।

    पहली बार किसी कंपीटिशन में भाग ली हूं। काफी अच्छा लगा, बाकी प्रतिभागियों से भी काफी कुछ सीखने को मिला। मैं आगे भी इस तरह के प्रोग्राम में भाग लूंगी। सुष्मिता मंडल फर्स्ट रनर अप

    80 वर्षीय सीता राम जैन ने कहा कि यदि आपके हुनर को एक बड़े प्लेटफार्म पर सम्मान मिलता है, तो आपका हौसला और बढ़ जाता है। थैक्यू भास्कर सीता राम जैन, ज्यूरी च्वाइस बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट

    दैनिक भास्कर मधुरिमा क्लब ने एक मौका दिया, जहां हम अपनी कला प्रदर्शित कर सके। हमारा आत्मविश्वास भी बढ़ा। ज्योति गुप्ता, सेकेंड रनरअप

    आज मेरे इस क्रिएटिविटी को इतने बड़े प्लेटफार्म पर सराहा गया, इसके लिए मैं बहुत खुश हूं। दीक्षा, मोस्ट इनोवेटिव मधुरिमा बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट

  • अपनी क्रिएटिविटी दिखा नगमा हसन बनी मधुरिमा बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट क्वीन, सुष्मिता मंडल रहीं फर्स्ट रनरअप
    +3और स्लाइड देखें
  • अपनी क्रिएटिविटी दिखा नगमा हसन बनी मधुरिमा बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट क्वीन, सुष्मिता मंडल रहीं फर्स्ट रनरअप
    +3और स्लाइड देखें
  • अपनी क्रिएटिविटी दिखा नगमा हसन बनी मधुरिमा बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट क्वीन, सुष्मिता मंडल रहीं फर्स्ट रनरअप
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×