महागठबंधन व राजग में लोस चुनाव को ले तस्वीर साफ नहीं

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लोकसभा चुनाव को लेकर पक्ष-विपक्ष दोनों में उहापोह की स्थिति है। महागठबंधन के दल यह दावा तो जरूर कर रहे हैं कि राज्य में लोस चुनाव महागठबंधन लड़ेगा। भाजपा को हराने के लिए यह आवश्यक है, लेकिन सीट शेयरिंग को लेकर अबतक कोई फार्मूला तय नहीं हुआ है। दूसरी ओर, राजग में भाजपा अकेले ही लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है, जबकि सत्ता में उसकी सहयोगी आजसू पार्टी भी ताल ठोक रही है। आजसू गिरिडीह से चुनाव लड़ने की घोषणा कर चुकी है। रांची व हजारीबाग पर वह मंथन कर रही है। महागठबंधन में दलों के बीच एक ओर जहां अपने हिस्से में कुल लोकसभा क्षेत्र की संख्या को लेकर खींचतान चल रही है, वहीं दूसरी ओर खास लोकसभा क्षेत्र को भी अपने हिस्से में लेने के की आजमाइश हो रही है। झामुमो का तो राजमहल व दुमका सीट स्वाभाविक रूप से आरक्षित है लेकिन उसे गिरिडीह, खूंटी, पूर्वी सिंहभूम और चाईबासा सीट में से दो या तीन सीट चाहिए। राजद को चतरा के साथ ही पलामू और कोडरमा में से दो सीट चाहिए। झाविमो का पहला सीट गोड्डा है जो उसे हर हाल में चाहिए। इसके अलावा कोडरमा और पलामू पर भी झाविमो का दावा है। इधर कांग्रेस हर हाल में गोड्डा सीट अपने पास रखना चाहती है। इसके अलावा चाईबासा, पूर्वी सिंहभूम , रांची, हजारीबाग, खूंटी, लोहरदगा, गिरिडीह सीट, धनबाद में से सात सीटों को अपने पास रखना चाहती है।

खबरें और भी हैं...