• Hindi News
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Father Stan Swamy: MH Police's raid in Fr Stan Swamy House in Ranchi In Bhima Koregaon Violence Case; Seizes Computer ha

भीमा कोरेगांव हिंसा / फादर स्टेन स्वामी के घर महाराष्ट्र पुलिस का छापा, कंप्यूटर की हार्ड डिस्क जब्त

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 10:50 AM IST



नामकुम बागीचा स्थित फादर स्टेन स्वामी के घर पर महाराष्ट्र पुलिस ने छापेमारी की। रांची पुलिस भी साथ थी। नामकुम बागीचा स्थित फादर स्टेन स्वामी के घर पर महाराष्ट्र पुलिस ने छापेमारी की। रांची पुलिस भी साथ थी।
X
नामकुम बागीचा स्थित फादर स्टेन स्वामी के घर पर महाराष्ट्र पुलिस ने छापेमारी की। रांची पुलिस भी साथ थी।नामकुम बागीचा स्थित फादर स्टेन स्वामी के घर पर महाराष्ट्र पुलिस ने छापेमारी की। रांची पुलिस भी साथ थी।

  • बतौर सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी कई दशकों से झारखंड के आदिवासी क्षेत्र में काम कर रहे हैं 
  • 28 अगस्त 2018 को भी स्वामी के घर पर महाराष्ट्र पुलिस ने छापेमारी की थी

रांची.  भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में बुधवार सुबह यहां नामकुम बगईचा स्थित सामाजिक कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी के घर पर महाराष्ट्र पुलिस व एटीएस की टीम ने छापा मारा। इस दौरान पुलिस ने स्टेन स्वामी से कई जानकारियां ली और उनसे उनके ईमेल और फेसबुक के पासवर्ड भी लिए। इसके अलावे कंप्यूटर के हार्ड डिस्क और इंटरनेट माॅडेम भी ले गए। भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में उनके घर दूसरी बार छापा पड़ा है। इससे पहले 28 अगस्त 2018 को भी महाराष्ट्र पुलिस ने उनके घर पर छापेमारी की थी।

 

जानकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र पुलिस मंगलवार शाम ही रांची पहुंच गई थी। सुबह स्वामी के आवास पर छापेमारी शुरू कर दी। इस दौरान स्थानीय पुलिस भी मौके पर मौजूद रही। मीडिया को स्वामी के घर से बाहर रोक दिया गया था।  28 अगस्त को की गई छापेमारी में पुलिस ने उनके घर से एक लैपटॉप, दो टैब, कुछ सीडी और दस्तावेज जब्त किए थे। उस दौरान पुणे पुलिस ने उन्हें मराठी में सर्च वारंट थमाया तो उन्होंने हस्ताक्षर से इनकार कर दिया था। बाद में अनुवाद करने के बाद उन्होंने हस्ताक्षर किए थे।

 

फादर स्टेन स्वामी। (फाइल)

कौन हैं फादर स्टेन स्वामी
तमिलनाडु में जन्मे स्टेन स्वामी की पहचान एक ख्याति प्राप्त सामाजिक कार्यकर्ता के तौर पर है। वह पिछले कई दशकों से झारखंड के आदिवासी क्षेत्र में काम कर रहे हैं। उन्होंने विस्थापन, भूमि अधिग्रहण जैसे मुद्दों को लेकर संघर्ष किया। उनका दावा है कि नक्सली के नाम पर जेल में बंद 3000 विचाराधीन लोगों के लिए उन्होंने हाईकोर्ट में पीआईएल दाखिल की है। 

COMMENT