पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ट्रैफिकिंग की शिकार नाबालिग चार साल बाद अपने परिजनों से मिली

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
खूंटी | ट्रैफिकिंग की शिकार नाबालिग को आखिरकार 4 वर्षों के बाद परिजनों से मिलने का मौका मिल गया। वह पिछले 2 वर्षों से सहयोग विलेज के नारी निकेतन में रह रही थी। उसे दिल्ली से रेस्क्यू कर लाया गया था। वह दो साल दिल्ली में रही। बाल कल्याण समिति, जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी मो.अल्ताफ एवं सहयोग विलेज के संस्थापक डॉ मनजीत सिंह के अथक प्रयास से नाबालिग के परिजनों का पता लगाया गया। उसके बाद उन्हें सहयोग विलेज स्थित नारी निकेतन में बुलाया गया। 4 वर्षों के बाद अपने बेटी को देखकर परिजन हैरान रह गए। उनकी खुशी का ठिकाना नहीं था। सहयोग विलेज के द्वारा तीन सदस्यीय टीम का गठन कर नाबालिग को उसके परिजन के साथ साहेबगंज भेजा गया। टीम में दो महिला पुलिसकर्मी एवं सहयोग विलेज की कर्मी मोहिनी कुमारी को शामिल किया गया था। जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी अल्ताफ ने बताया कि बच्ची को साहेबगंज कानूनी प्रक्रियाएं पुरी करने के बाद भेजा गया।

खबरें और भी हैं...