रांची / बेटे के पार्थिव शरीर को देखते ही मां बोलीं- अंजू तुम्हें सैल्यूट



रांची एयरपोर्ट पर अपने शहीद बेटे लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला को सैल्यूट करतीं मां उषा शुक्ला। रांची एयरपोर्ट पर अपने शहीद बेटे लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला को सैल्यूट करतीं मां उषा शुक्ला।
X
रांची एयरपोर्ट पर अपने शहीद बेटे लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला को सैल्यूट करतीं मां उषा शुक्ला।रांची एयरपोर्ट पर अपने शहीद बेटे लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला को सैल्यूट करतीं मां उषा शुक्ला।

  • तीन दोस्तों को बचाने में शहीद हो गए थे ले. अनुराग शुक्ला 
  • एक सप्ताह पहले ही तय हुई थी शहीद अनुराग की शादी, दिसबंर में थी बारात 

Dainik Bhaskar

Apr 22, 2019, 08:01 AM IST

रांची. पलामू के लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला (23) ने राजस्थान के श्रीगंगानगर में अपने तीन दाेस्ताें काे बचाने के लिए जान दांव पर लगा दी। तीनाें दाेस्ताें काे ताे बचा लिया, लेकिन खुद शहीद हाे गए। रविवार शाम उनका पार्थिव शरीर रांची एयरपाेर्ट पहुंचा। वहां पहले से ही मां उषा शुक्ला और अन्य परिजन माैजूद थे।

 

शहीद के अंतिम दर्शन के लिए एयरपाेर्ट पर 500 से ज्यादा लाेग थे। बेटे का पार्थिव शरीर देखते ही मां बाेलीं-अंजू तुम्हें सैल्यूट। और चीत्कार मारकर राेने लगीं। बहनें सुप्रिया शुक्ला व राेशनी शुक्ला भी अंजू-अंजू कहकर फफकने लगीं। यह देखकर सेना के अधिकारी, जवान और सीआईएसएफ के अधिकारियाें के भी आंसू निकल पड़े। पिता जीतेंद्र शुक्ला ने परिवार काे ढांढ़स बंधाया। फिर नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, रांची डीसी राय महिमापत रे और एसएसपी अनीश गुप्ता और सेना के जवानाें ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। यहां से पार्थिव शरीर अरगाेड़ा कटहल माेड़ स्थित आवास पर ले जाया गया। साेमवार काे पलामू के सिंघारा गांव में अंतिम संस्कार होगा।

 

एक सप्ताह पहले ही तय हुई थी शहीद अनुराग की शादी, दिसबंर में थी बारात 

शहीद अनुराग शुक्ला का एक सप्ताह पहले ही शादी फाइनल हुआ था और शादी की तारीख भी दिसंबर में रखी गई थी। शादी ठीक हाेने के बाद से ही घर में खुशी का माहाैल था। इकलाैते बेटे की शादी के लिए धूमधाम से शादी की तैयारी करने के लिए कई तरह के प्लान बनाया जा रहा था। अनुराग ऐसे व्यक्तित्व वाले थे कि अपमान करने वाले काे भी गले लगा लेते थे। अपने हाे या पराया। काेई पर भी बात कर लें ताे दाे मिनट में अपना बना लेते थे। जनवरी में पहली पाेस्टिंग अनुराग की राजस्थान के श्रीगंगानगर में हुई। उससे पहले वह दिसंबर में रांची आए थे।

 
अनुराग की बहन सुप्रिया शुक्ला के देवर ऋषभ राज तिवारी ने कहा कि घटना से एक दिन पहले व्हाटसएप पर बात हुई। मुझे प्राेजेक्ट के लिए लैपटाॅप लेना था। इसी संदर्भ में उनसे काफी देर बात हुई। सुप्रिया की सास रत्नावली तिवारी ने कहा कि बेटा की तरह रहता था। वह मुझे मां कहता था। मैंने उससे कहा था कि मेरी भी उम्र तुम्हें लग जाए। इतना खुश मिजाज लड़का मैंने कभी नहीं देखा, जाे हर किसी के दिल का टुकड़ा था। विश्वास नहीं हाे रहा है कि अब वाे हमारे बीच नहीं है। सुप्रिया के ससुर अधिवक्ता एलके तिवारी ने कहा कि उसकी शादी तय हाे गई थी। इसी साल दिसंबर में शादी हाेना थी। स्थिति ऐसी हाे गई कि समझ में नहीं आ रहा है कि अब क्या करें।

 
रांची एयरपोर्ट पर दी श्रद्धाजंलि : बिरसा मुंडा एयरपाेर्ट पर शहीद अनुराग शुक्ला के शव के पास जाेरदार नारे लगे। राष्ट्रीय युवा शक्ति की अाेर से पार्थिव शरीर के पास दीप जलाकर श्रद्धांजलि दी गई। मौके पर राष्ट्रीय शक्ति के प्रधान महासचिव दिलीप गुप्ता, जय प्रकाश यादव, माेनू विशवकर्मा, विजू वर्मा, कुलदीप यादव, नीरज कुमार,राजू साहू, मनाेज कुमार, छाेटू वर्मा, अखिलेश गुप्ता, राजेश वर्मा सहित दर्जनाें लाेग माैजूद थे। 

 

संत जेवियर्स कॉलेज से हुई पढ़ाई: अनुराग ने 10 वीं तक की पढ़ाई डीएवी डालटनगंज से की। इसके बाद रांची आ गए और संत जेवियर्स काॅलेज से इकॉनामिक्स से ग्रेजुएशन किया। फिर सीडीएस क्रैक करने के बाद भारतीय सेना में अफसर बने। अनुराग स्कूल के दौरान से ही पढ़ाई में अव्वल आते थे। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना