झारखंड / काेरोना कानून लागू; जांच करने-कराने से इनकार किया तो होगा केस, अफवाह फैलाने पर जेल

कोरोना को लेकर एतिहात के तौर पर बिरसा जू को बंद कर दिया गया है। कोरोना को लेकर एतिहात के तौर पर बिरसा जू को बंद कर दिया गया है।
X
कोरोना को लेकर एतिहात के तौर पर बिरसा जू को बंद कर दिया गया है।कोरोना को लेकर एतिहात के तौर पर बिरसा जू को बंद कर दिया गया है।

  • निजी इमारत भी बनाए जा सकते हैं आइसोलेशन वार्ड, निजी क्लिनिक नहीं कर सकते जांच
  • रांची की 2 मेडिकल स्टोर में छापा, निशा सर्जिकल के गोदाम में बिना बिल के बेचे गए सात हजार मास्क

दैनिक भास्कर

Mar 19, 2020, 09:38 AM IST

रांची. झारखंड सरकार ने काेरोना को महामारी घोषित करते हुए आदेश जारी किया है कि अब जांच या इलाज करने से मना करने वाले अस्पतालों और डॉक्टरों पर सख्त कार्रवाई होगी। वहीं जांच से इनकार करने पर संदिग्ध जेल भेजे जाएंगे। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ. नितिन कुलकर्णी ने बुधवार को ‘झारखंड महामारी रोग कोरोना-19 विनियम 2020’ लागू करने से संबंधित अधिसूचना जारी कर दी। इसमें यह भी कहा गया है कि संदिग्ध मरीजों को आइसोलेशन वार्ड में जबरन भी रखा जा सकेगा। इसके अलावा प्राधिकृत पदाधिकारी किसी भी घर, संस्थान में जाकर संदिग्ध की जांच कर सकते हैं। अफवाह फैलाने वाले को जेल भेजे जाएंगे। 

रिम्स: जांच मशीन पहुंची... काेराेना की जांच रिपाेर्ट का नहीं करना पड़ेगा इंतजार
काेराेना के संदिग्ध मरीजाें काे अब अपने रिपाेर्ट का ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। 5-6 घंटाें के अंदर ही उन्हें सैंपल जांच की रिपाेर्ट मिल जायेगी अाैर मरीज कन्फर्म हाे जायेगा कि वह संक्रमित है या नहीं। रिम्स में बुधवार काे काेराेना वायरस की जांच करने वाली रियल टाइम पीसीअार मशीन रिम्स पहुंची। यह मशीन बायाे-रैड कंपनी की है, जिसे बनारस से मंगवाया गया है। अभी मशीन माइक्राेबायाेलाॅजी विभाग के लैब में रखी हुई है। विभागाध्यक्ष डाॅ. मनाेज कुमार ने बताया कि मशीन काे अभी शुरू नहीं किया जा सकता। इसके फंक्शन काे इंस्टाॅल करने में इंजीनियर काे तीन दिन लगेगा। इसके बाद ही मशीन चालू की जाएगी। इस मशीन के लिए पिछले दाे साल से प्रक्रिया में लगे हुए थे। मशीन न हाेने के कारण जांच के लिए सैंपल काे जमशेदपुर भेजने में बहुत दिक्कत होती थी। लेकिन अब मशीन से कुछ घंटे में ही रिपोर्ट मिल जायेगी।

राज्य के सभी जेलों में बनेगा आइसोलेशन वार्ड
कोरोना को लेकर राज्य के सभी कारा, मंडल कारा, उप कारा, खुला जेल और महिला प्रोबेशन होम के लिए आईजी जेल शशि रंजन ने बुधवार को दिशा-निर्देश जारी किए हैं। जिसके तहत अब बंदियों से परिजनों की आमने-सामने की मुलाकात बंद कर दी गई है। सभी जेलों में आइसोलेशन वार्ड बनाने का निर्देश दिया गया है। बंदियों को भी मास्क उपलब्ध हो, इसके लिए जेल में ही मास्क तैयार किया जा रहा है। निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन करने को कहा गया है। कारा परिसर को रोजाना डिसइंफेक्ट किया जाएगा। कारा में प्रवेश करने वाले सभी कारा पदाधिकारी, कर्मी व अन्य आगंतुक को अनिवार्य रूप से सेनेटाइज किया जाएगा। कारा में आने वाले सभी नए बंदियों की पहले डॉक्टर जांच करेंगे, तब कारा में प्रवेश कराएंगे।

9 जगह, 9 रिपोर्टर  ये वायरस का खौफ नहीं, शहर को सावधान करो ना...
सड़कों पर सन्नाटा, मॉल में वीरानी, धार्मिक स्थल सुनसान...ये बता रहे हैं कि रांची के लोग कोरोना से जंग करने को तैयार हैं। ये वायरस का खौफ नहीं, बल्कि जागरूक शहरवासियों की पहचान है। लोग जानते हैं कि भीड़ से संक्रमण फैल सकता है, इसलिए जरूरी काम के लिए ही बाहर निकल रहे हैं। बुधवार को भास्कर के 9 रिपोर्टरों ने 9 जगहों पर 9 घंटे तक कोरोनावायरस की सच्चाई जानी। उद्देश्य आपको डराना नहीं, बल्कि वस्तुस्थिति बताना है...


कोरोना वायरस का पैनिक शहर के बाजारों में जबरदस्त दिख रहा है। यहां के विभिन्न मॉल में ग्राहकों की संख्या एकदम से कम हाे गई है। मंडियों में भी लोग काफी कम संख्या में खरीदारी के लिए पहुंच रहे हैं। सड़कों पर सन्नाटा पसर गया है। विभिन्न मॉल की बिक्री आधी से भी कम हो गई है। हालांकि सभी मॉल में कोरोना वायरस के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। सेनेटाइजर की व्यवस्था लगभग सभी मॉल में की गई है। साफ-सफाई की भी मुकम्मल व्यवस्था है।

स्प्रिंग सिटी मॉल : आम दिनों की तुलना में मात्र 15% ग्राहक
स्प्रिंग सिटी मॉल के मुख्य प्रबंधक प्रियरंजन ने कहा कि मॉल में सभी जगह सेनेटाइजर रखे गए हैं। कर्मी मास्क पहने हुए हैं। केमिकल से साफ-सफाई की जा रही है। मॉल में प्रति दिन 3000 से ज्यादा लोग आते हैं। लेकिन बुधवार को कोरोना के खौफ का असर ज्यादा दिखा। यहां सिर्फ 15 प्रतिशत लोग ही पहुंचे।

रोस्पा टावर : सेल 40% घटी दुकानों को ग्राहकों का इंतजार
रोस्पा टावर की दुकानें भी ग्राहकों के इंतजार में रहीं। शॉपर्स मार्ट, आवरण व अन्य स्टोर्स में सेनेटाइजर व साफ-सफाई के साथ जागरूकता का भी काम किया जा रहा है। सभी स्थानों को सेनेटाइज किया जा रहा है। शॉपर्स मार्ट के संचालक विजय मिनोचा ने कहा कि बुधवार को सेल अाम दिनों की तुलना में 50% रही। आवरण के राकेश शर्मा ने कहा कि आम दिनों की तुलना में सेल 40% कम है।

फिरायालाल: सेल काफी घट गई, लोग बरत रहे सावधानी
रांची के केंद्र में स्थित फिरायालाल में लगभग सन्नाटा है। संस्थान के प्रकाश भाटिया ने कहा कि कोरोना वायरस के खौफ से सेल काफी कम हो गया है। लोग काफी जागरूक हैं। जरूरत के हिसाब से ही खरीदारी कर रहे हैं। 

अनुमान के अनुसार, रांची के प्रमुख मॉल्स में रोजाना कुल 20 करोड़ रुपए का कारोबार होता है। इसमें पिछले एक सप्ताह में 50% की गिरावट आई है। कई जगह तो एकदम सन्नाटा पसर गया है। सभी मल्टीप्लेक्स में करीब 80 लाख रुपए का कारोबार होता है, जो पूरी तरह से बंद हैं।


भास्कर अपील... रांची डरती नहीं लड़ती है
कोरोनावायरस से बचाव के लिए स्कूल-कॉलेज, सिनेमाघर, मॉल आदि बंद कर दिए गए हैं। शहर में कई इवेंट रद्द या आगे बढ़ाए गए हैं, क्योंकि भीड़ में संक्रमण फैलेगा। अभी कम से कम दो सप्ताह तक खतरा और बढ़ सकता है। दैनिक भास्कर शहरवासियों से अपील करता है कि धैर्य रखें। 


भीड़ का हिस्सा बनने से बचें
रेलवे स्टेशनों-बस स्टैंडों पर बेवजह भीड़ करना बीमारी को आमंत्रण देना है। जरूरी हो तभी सफर करें। किसी को लाने-छोड़ने में भी भीड़ करने से बचें। पब्लिक ट्रांसपोर्ट के साधनों से पूरी ऐहतियात के साथ ही सफर करें।


धरना और प्रदर्शन अभी ठीक नहीं
कोरोना का संक्रमण भीड़ में फैल सकता है। इसलिए अभी धरना-प्रदर्शन न करें और न इसमें शामिल हों। अपनी मांगों के लिए संघर्ष करें... मगर महामारी टालने के बाद। अभी सिर्फ वायरस की जद से बचे रहें।


धार्मिक आयोजनों को टालिए
मंदिर-मस्जिद-गुरुद्वारा-चर्च में प्रार्थना करने वालों की भीड़ रहती है। कई राज्यों ने धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं से नहीं आने की अपील की है। संत्सग-कीर्तन, प्रवचन के आयोजन टाल दिए गए हैं। आप भी टालिए।


बिरसा जू में सन्नाटा, शेर व अन्य जानवर को मिली शांति
कोरोना से बचाव को लेकर सरकार के आदेश के बाद बिरसा जैविक उद्यान को 17 मार्च से बंद कर दिया गया है। बंद के कारण हमेशा पर्यटकों से गुलजार रहने वाले बिरसा जू में सन्नाटा पसर गया है। पर्यटकों के शोरगुल से दूर जू के शेर, बाघ व अन्य जीवों को भी जैसे थोड़ी शांति मिली है। वे भी आराम फरमा रहे हैं। वर्तमान में जू में प्रतिदिन 2500 पर्यटक आते थे, जबकि शनिवार व रविवार को पर्यटकों की संख्या पांच से छह हजार होती थी। केज कीपर रोज की तरह जानवरों को खाना खिलाकर केजों की साफ-सफाई कर रहे हैं। बाघ केज के कीपर संजय उरांव कहते हैं कि दो दिन से पर्यटक नहीं आ रहे हैं। बाघ-बाघिन भी आराम कर रहे हैं। पर्यटकों के आने से हमारा काम बढ़ जाता है, लेकिन अच्छा भी लगता है। पर्यटक नहीं आने से मन नहीं लग रहा। वहीं, शेर के केज कीपर एतवा उरांव कहते हैं कि पर्यटकों के नहीं आने से ऐसा लग रहा है मानो जू में मातम छा गया है। काम तो कर ही रहे हैं, लेकिन मन उदास है। उद्यान बंद होेने से दर्जनों ठेला खोमचा व ऑटो वालों की कमाई ठप हो गई है। 

बेदम हुअा चिकन काराेबार राेज डेढ़ कराेड़ रु. का घाटा 
शहर के किसी भी कोने में चिकन की दुकान पर सुबह या शाम अब वैसी भीड़ नहीं जुटती, जैसी पंद्रह-बीस दिनों पहले हुआ करती थी। इसका सबब बनी है कोरोना वायरस के चिकन से फैलने की अफवाह। थोक व्यापारी हों या खुदरा दुकानदार या पोल्ट्री फॉर्म चलाने वाले। सभी कारोबार के मंदा पड़ने का रोना रो रहे हैं। प्रदीप महतो की दुकान बूटी मोड़ में है। घर के पास गोदाम है। लेकिन उन्हें दुकान बंद कर देनी पड़ी है। बताते हैं कि पहले जहां वह रिटेल में कम से कम 95 रुपए किलो चिकन बेच लेते थे, अब 20 से 25 रुपए में भी मुश्किल से बिक पा रही है। बड़ा तालाब के पास छोटी पोल्ट्री और थोक कारोबारी हैं। इनमें से एक कारोबारी मो. तबरेज के मुताबिक उनके यहां से औसत बिक्री 20 क्विंटल प्रतिदिन की थी, जो अब 5 क्विंटल पर आ गई है। इस पर भी रेट अाधे से अधिक घट गया है। 100 रु किग्रा की जगह 35 रुपए किग्रा बेचना पड़ रहा है।

सरकारी बस डिपो में यात्रियों की जानकारी रजिस्टर में दर्ज
रांची के स्टेशन रोड स्थित सरकारी बस डिपो में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव को लेकर जिला रोड सेफ्टी की ओर से यात्रियों का डिटॉल से हाथ धुलवाया गया। डिपो में खड़ी सभी बसों के सीट और गेट जहां लोग हाथ रखेंगे, उसे डिटॉल से साफ किया गया। इसके अलावा सभी यात्रियों का नाम, पता और मोबाइल नंबर भी रजिस्टर में दर्ज किया गया। दरअसल संयुक्त परिवहन आयुक्त के निर्देश पर रोड सेफ्टी की टीम ने सरकारी बस डिपो में यह अभियान चलाया। रोड सेफ्टी के दीपक कुमार ने बताया कि डिटॉल को हैंड सेनेटाइजर के रूप में इस्तेमाल किया गया। मौके पर लोगों को कोरोना वायरस से बचाव का तरीका भी बताया गया। अब प्रत्येक ट्रिप में बस संचालकों को रजिस्टर मेंटेन करना है कि कौन-कौन यात्री रांची से गए और कौन-कौन रांची आए। सभी यात्रियों के हाथ हर हाल में धुलवाना है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना