पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Ranchi News Now Time Organic Farming Will Lead The Country In Our Jharkhand

अब समय ऑर्गेनिक खेती का, इसमें देश का नेतृत्व करेगा हमारा झारखंड

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
विनय चतुर्वेदी/ बिनोद ओझा | रांची

खेलगांव में आयोजित ग्लोबल एग्रीकल्चर और फूड समिट में केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह, मुख्यमंत्री रघुवर दास और राज्य के कृषि मंत्री रणधीर सिंह ने एक सुर में आर्गेनिक खेती की वकालत की। सीएम ने कहा कि आने वाला समय आर्गेनिक खेती का ही है। दुनिया भर में इसकी मांग है। झारखंड में इसके लिए सबसे अधिक स्कोप है। किसानों को इसपर फोकस करना चाहिए।

राधामोहन सिंह ने कहा कि अटलजी के समय कृषि रिफॉर्म के लिए जो भी कदम उठाए गए वे दस साल तक ठंडे बस्ते में पड़े रहे। मोदी सरकार आने के बाद किसानों के विकास के लिए काम हुआ। आजादी के बाद की सरकारों ने कृषि और किसानों के विकास के बारे में सिर्फ बोला, पर मोदी सरकार ने इसे कर दिखाया। किसी लोकतांत्रिक देश में ऐसा नहीं होगा जहां 48 साल तक एक ही परिवार का राज रहा हो। कांग्रेस का नाम लिये बिना कहा कि युवराज कृषि और किसानों के बारे में बड़ी-बड़ी बातें करते हैं। जब वे सत्ता में रहे तो स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू तक नहीं किया। 10 साल तक सिर्फ घोटाले में लगे रहे। मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में सब्जी उत्पादन पहले से ही अधिक है। ऑर्गेनिक सब्जी उत्पादन की दिशा में आगे बढ़ें। मार्केट की उपलब्धता झारखंड सरकार सुनिश्चित करेगी। कृषि हमारे देश की आत्मा है। खेती हमारी संस्कृति और परंपरा का आधार है। यही वजह है कि जितने भी पर्व और त्यौहार हम देश या राज्य में मनाते हैं तो रीतिरिवाज, खान-पान पूजा पद्धति कहीं ना कहीं से खेती से ही जुड़े हुए हैं। सरकार कृषि, पशुपालन, बागवानी, मत्स्य, बंजर भूमि विकास, ग्रामीण विकास के क्षेत्र में पर्याप्त धनराशि की व्यवस्था की है। हमने खाद्य प्रसंस्करण की नीति बनाई है और आज आधुनिकीकरण पर विशेष जोर है। समिट में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सुनील वर्णवाल और कृषि सचिव पूजा सिंघल भी मौजूद थीं।

271 करोड़ रुपए की 50 फूड प्रोसेसिंग यूनिट की रखी गई आधारशिला
मुख्यमंत्री रघुवर दास और कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने खेलगांव में आयोजित दो दिवसीय ग्लोबल एग्रीकल्चर फूड समिट का शुभारंभ किया। इसमेंं 50 फूड प्रोसेसिंग यूनिट की आधारशिला रखी गई। जैविक झारखंड ऑर्गेनिक ब्रांड और ट्रैक्टर देने के लिए एप की भी लॉन्चिंग की गई। मौके पर केंद्रीय मंत्री सुदर्शन भगत व राज्य के मंत्री मौजूद थे।

दस साल में राज्य को बनाएंगे जैविक झारखंड
दुनिया भर में मांग, ऑर्गेनिक खेती पर फोकस करें अब किसान : मुख्यमंत्री
कृषि मंत्री रणधीर सिंह ने कहा है कि वर्ष 2028 तक झारखंड में यूरिया-डीएपी समेत सभी रासायनिक खाद व कीटनाशकों का प्रयोग बंद हो जाएगा। 2028 तक जैविक झारखंड बनाना है। 2014 से शुरू हुए ओफाज (ऑरगेनिक फार्मिंग ऑथोरिटी ऑफ झारखंड) के प्रोत्साहन के बाद आज 28 हजार से ज्यादा किसान जैविक खेती कर रहे हैं। स्थिति यह है रासायनिक खाद से उत्पादन कम होते जा रहा है। हमें परंपरागत गाय आधारित कृषि अपनानी होगी।

2028 तक झारखंड में बंद हो जाएगा यूरिया-डीएपी का उपयोग : रणधीर
खबरें और भी हैं...