रांची / फेसबुक पर फिलीपींस की जेनेलिन को मनोहरपुर के युवक से हुआ प्यार, शिव मंदिर में की शादी



Philippines girl married to Indian youth
X
Philippines girl married to Indian youth

  • विवाह की सारी रस्में हिंदू रीति-रिवाज से संपन्न हुईं, 2017 में हुई थी दोनों की दोस्ती
  • घर में विदेशी बहू के आने से खुश हैं परिवारवाले, कहा- बहू नहीं जेनेलिन हमारी बेटी है

Dainik Bhaskar

May 18, 2019, 06:25 AM IST

मनोहरपुर (अमित राज). माना जाता है कि प्यार में सारी कायनात छुपी है। ढाई अक्षर का यह शब्द न तो जात-पात, न धर्म और न ही मजहब देखता है। यही कारण है कि सात समंदर पार फिलीपींस की 30 वर्षीय जेनेलिन बेरोनिला अपने झारखंड राज्य के मनोहरपुर जैसे छोटे से शहर के छोटे से गांव उन्धन निवासी 27 वर्षीय दीपक करवार के साथ परिणय सूत्र में बंध गई। सबसे बड़ी बात तो यह है कि इसमें फेसबुक की भूमिका सबसे अहम रही है। 


6 मई को दोनों का ब्याह कोलकाता के एक शिव मंदिर में हिंदू रीति-रिवाज से संपन्न हुआ। जबकि उन्धन में भी बाकी की औपचारिकताएं हिंदू रीति-रिवाज से संपन्न हुईं। अपने घर में विदेशी बहू के आने से दीपक के पिता शिवशंकर महतो, माता मीनाक्षी देवी व परिवार के अन्य सदस्य काफी खुश हैं। बताते चलें कि मीनाक्षी देवी मनोहरपुर में इंदिरा आदिवासी महिला विकास समिति की संस्थापक व सचिव हैं।  

 

दो साल पहले फेसबुक ने बढ़ाई नजदीकियां

दीपक ओमान के ग्लोबल रेस्टोरेंट ग्रुप अमेरिकाना में स्टोर मैनेजर हैं। जबकि फिलीपींस निवासी जेनेलिन भी ओमान के एक शहर सलाला में पर्सनल नर्सिंग की नौकरी करती हैं। दोनों की दोस्ती साल 2017 में फेसबुक के जरिए हुई। चैटिंग के जरिए बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ। फिर दोनों छुट्टियों के दिनाें में  आपस में मिलने-जुलने लगे। इस दौरान दोनों ने एक-दूसरे को समझा और शादी करने का निर्णय लिया। बीते साल  दिसंबर  में जब दीपक घर आया, तो घरवालाें  शादी के लिए लड़की देखने की बात कही। पर दीपक न टाल दिया।बाद में सच्चाई बता दी।

 

जेनेलिन को भारत आने में हुई दिक्कत

इधर, शादी को लेकर जेनेलिन को भारत आने में कागजी प्रक्रिया की वजह से काफी दिक्कतें पेश आईं। फिलीपींस एयरपोर्ट पर उन्हें रोक दिया गया। उसके बाद 8 घंटे का सफर तय कर वह मलेशिया गईं और वहां से वह कोलकाता आईं।

 

अब भारत की नागरिकता के लिए होगी कोशिश

जेनेलिन की नागरिकता को लेकर दीपक व उनका परिवार कोशिश में जुट गया है। दीपक ने जरूरत पड़ने पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मदद मांगने की बात कही है। वहीं नवदंपती ने आनेवाले समय में अपने गांव उन्धन में ही बसेंगे और करियर की नई शुरुआत करने की बात कही है। जानकारी के अनुसार, जेनेलिन चार बहनों में सबसे छोटी है। उनके पिता फिलीपींस में एक साधारण किसान हैं। वहीं दीपक के पिता शिक्षक हैं। परिवार के लोगों ने कहा- विदेशी बहू जेनेलिन से हम सभी काफी खुश हैं। वह न सिर्फ बहू, बल्कि अब हमारी बेटी है।

 

23 मई को देखिए सबसे तेज चुनाव नतीजे भास्कर APP पर 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना