--Advertisement--

कार्रवाई / कांके पीएनबी में डाका डालने वाले पांच अपराधी गिरफ्तार, 4.32 लाख में से 1.36 लाख ही बरामद



पुलिस हिरासत में आरोपी पुलिस हिरासत में आरोपी

पांच अन्य बैंकलूट में भी रहे हैं शामिल, दो देसी पिस्टल, तीन देसी कट्टा, सात कारतूस, दो बाइक जब्त

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 06:26 AM IST

रांची. रांची पुलिस ने कांके स्थित पीएनबी में डकैती समेत लूट, हत्या, रंगदारी आदि मामलों के पांच फरार अपराधियों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों में मास्टर माइंड रंजीत तिर्की उर्फ अमर उर्फ मोटा उर्फ बाबा मुंडा है। उसने अलग-अलग अपराधियों के साथ 15 कांडों को अंजाम दिया है।

 

12 साल में छह बैंक डकैती को भी अंजाम दिया है। मंगलवार को सीनियर एसपी अनीस गुप्ता ने बताया कि 10 सितंबर को पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ अपराधी किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए पतराटोली के एंजेल ढाबा के पास जुटे हैं। इसकी सूचना पर एक पुलिस टीम बनाई गई।

 

इसके बाद जब एंजेल ढाबा के पास छापेमारी की तो वहां से कई लोग भागने लगे। पुलिस ने खदेड़ कर पांच लोगों को पकड़ा। जब उनकी तलाशी ली गई तो उनके पास से दो देसी पिस्टल, तीन देसी कट्टा, सात कारतूस, दो बाइक, पांच मोबाइल और कांके स्थित पीएनबी बैंक लूटकांड के 4.32 लाख रुपए में से 1.36 लाख जब्त बरामद किए गए। एसएसपी बताया कि पकड़े गए सभी अभियुक्तों का पुराना आपराधिक रिकार्ड है।

 

गिरफ्तार अपराधियों में रांची के 4 व रामगढ़ का : रंजीत तिर्की (40), टुंगरी टोली, रातू, वर्तमान पता- पीपरटोली अरगोड़ा,  चुंदा खलखो (27), भीठा टोली रातू, वर्तमान पता- चापू टोली अरगोड़ा,  राजकुमार मुंडा (30), सोसई रोलटोली, बुढ़मू, लाल मुंडा (22), चोरघारा भदानीनगर, रामगढ़,  रमेश मुंडा (29), हीरिंग बुढमू।

 

इन कांडों में भी थी संलिप्तता : 2009 में बेड़ो के प्रदीप कुमार राय को गोली मारकर ढाई लाख रुपए की लूट की थी। इसमें रंजीत के साथ अजय टोप्पो, अनिल मिंज भी शामिल थे। नामकुम पोस्ट ऑफिस में रंजीत ने रजत तिड़ू, संजय पटेल, राजू खान, जगमोहन उरांव, राकेश बरजो के साथ मिलकर लूट की थी। 2004 में रंजीत ने खूंटी के एलआईसी ऑफिस में डाका डाला था। इस कांड में राकेश बरजो, सुरेंद्र कच्छप, महावीर उरांव, इरशाद आलम शामिल थे।  

 

इन दुकानों में भी लूटपाट के हैं आरोपी : मई 2018 में अरगोड़ा के चापू टोली में छड़ दुकान में 10 हजार लूटे थे। फरवरी 2018 में अरगोड़ा पीपरटोली स्थित जेवर दुकान से लूटपाट। मई 2018 में पुंदाग में सेनेटरी दुकान से लूट। जनवरी 2018 में पुंदाग में ही राशन दुकान से लूट।  दिसंबर 2017 में पुंदाग ओपी के पीछे राशन दुकान में लूटपाट।

 

इन बैंक लूट कांडों को दिया है अंजाम : 2016 में रातू के झारखंड ग्रामीण बैंक में लूटपाट। 2016 में टाटीसिलवे स्थित ओवरसीज बैंक में लूटपाट। 2014 में कटहल मोड़ स्थित ग्रामीण बैंक से 5.45 लाख रुपए की लूट। 2007 में बैंक ऑफ बड़ौदा ईरबा शाखा में 12.20 लाख की लूट। 2006 में खूंटी के ओवरसीज बैंक से 22 लाख रुपए की लूट। 

--Advertisement--