लातेहार में दो बच्चों की बलि के 72 घंटे बाद भी पुलिस नहीं ढूंढ़ पाई मृत बच्ची का सिर

Ranchi News - मनिका थाना क्षेत्र के माइल गांव के सेमरहट टोला में बुधवार की रात दो मासूम बच्चों की बलि मामले में अभी भी पुलिस के...

Jul 14, 2019, 07:50 AM IST
Ranchi News - police can not find 72 hours after the sacrifice of two children in latehar dead child39s head
मनिका थाना क्षेत्र के माइल गांव के सेमरहट टोला में बुधवार की रात दो मासूम बच्चों की बलि मामले में अभी भी पुलिस के हाथ खाली हैं। धड़ मिलने के 72 घंटे बाद भी पुलिस बच्ची शीला का सिर नहीं ढूंढ़ पाई है। हालांकि एक बच्चे का सिर पुलिस ने बरामद कर लिया था। पुलिस ने शुक्रवार रात को भी आरोपी के घर के आसपास के इलाके की खुदाई करवाई, लेकिन बच्ची का सिर बरामद करने में कामयाब नहीं हो पाई।

उधर, हत्या के आरोपी सुनील उरांव को मेडिकल जांच के बाद इलाज के लिए रिनपास रांची भेज दिया गया है। पूछताछ में उसने पुलिस को यह नहीं बताया कि बच्ची का सिर कहां छिपाया है।

बच्चों के धड़ के पास मिले थे 13 मिट्टी के दीये, धान, सिंदूर और अरवा चावल

पुलिस को दोनों शव जहां से मिले थे वहां 13 मिट्टी के दीये, धान, बोदी, खीरा, मक्का, अरवा चावल, सिंदूर भी मिले हैं।

नेताओं ने परिजनों से ली जानकारी

झारखंड विकास मोर्चा, कांग्रेस व माकपा की टीम ने शनिवार को मनिका थाना क्षेत्र के सेमरहट गांव का दौरा किया। इस टीम में झाविमो के जिला अध्यक्ष शम्शुल होदा, माकपा के पूर्व जिला सचिव अयूब खान, कांग्रेस के चंदवा प्रखंड अध्यक्ष असगर खान के अलावा बाबर खान, सिकेश्वर राम, ओम प्रकाश प्रसाद, मो. इरफान सज्जू, रामसेवक यादव, जाकीर अंसारी, मो. अख्तर, मो. मिस्टर शामिल थे। इन लोगों ने बच्चों के परिजनों व ग्रामीणों से मुलाकात कर जानकारी हासिल की।

पुलिस ने किया खुलासा, दो लोग गिरफ्तार

गुमला में झाड़-फूंक के शक में की गई थी राजमिस्त्री की हत्या


भास्कर न्यूज | गुमला

सदर थाना अंतर्गत बरगांव बरवाटोली निवासी राज मिस्त्री माघो उरांव की हत्या अंधविश्वास में गोली मारकर की गई थी। इसका खुलासा शनिवार को हत्याकांड में शामिल आरोपी इसी गांव के राजू उरांव व केसीपारा के बिट्टू साहू की गिरफ्तारी के बाद हुआ। गुमला पुलिस की ओर से सदर थाना परिसर में बुलाई गई प्रेसवार्ता में एसडीपीओ नागेश्वर सिंह व थाना प्रभारी शंकर ठाकुर ने संयुक्त रूप से बताया कि आरोपी राजू का बड़ा भाई विनय उरांव काफी दिनों से बीमार था और इलाज के बावजूद ठीक नहीं हो रहा था। इसपर राजू को शक हुआ कि माघो ने ही कुछ कर दिया है, जिसके कारण उसका भाई ठीक नहीं हो रहा है।

माघो झाड़-फूंक का काम करता था। इसी शक पर राजू ने अपने साथी बिट्टू के साथ मिलकर शुक्रवार को गुमला-पालकोट रोड स्थित उर्मी ढलान के पास माघो की कनपट्टी में गोली मारकर हत्या कर दी। उस समय माघो काम के लिए कॉलेज की तरफ आ रहा था।

X
Ranchi News - police can not find 72 hours after the sacrifice of two children in latehar dead child39s head
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना