--Advertisement--

ट्रांजिट रिमांड / मानव तस्कर रोहित मुनि को लेकर सिमडेगा पहुंची पुलिस, पेशी आज



गिरफ्तारी के बाद कहलगांव थाने में रोहित मुनि (लाल शर्ट में)। गिरफ्तारी के बाद कहलगांव थाने में रोहित मुनि (लाल शर्ट में)।
X
गिरफ्तारी के बाद कहलगांव थाने में रोहित मुनि (लाल शर्ट में)।गिरफ्तारी के बाद कहलगांव थाने में रोहित मुनि (लाल शर्ट में)।

  • गोड्डा की नाबालिग से दुष्कर्म समेत कई लड़कियों को दिल्ली में बेचने का है आरोपी 

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2018, 10:06 AM IST

सिमडेगा/रांची. ह्यूमन ट्रैफिकिंग समेत गोड्डा की नाबालिग से दुष्कर्म मामले में वांटेड रोहित मुनि को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर पुलिस भागलपुर के कहलगांव से सिमडेगा पहुंच चुकी है। शुक्रवार को एसपी संजीव कुमार ने रोहित से घंटों पूछताछ की। वहीं एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट उससे दर्ज मामलों के बारे में लगातार पूछताछ कर रही है। एसडीपीओ अमित कुमार सिंह ने बताया कि शनिवार को ट्रांजिट रिमांड की अवधि पूरी हो जाएगी। उसके बाद रोहित को कोर्ट में पेश किया जाएगा, जहां से उसे जेल भेज दिया जाएगा। रोहित को कहलगांव स्थित उसके पैतृक गांव त्रिमुहान से गुरुवार को गिरफ्तार किया गया था। 

रोहित और उसकी पत्नी के खिलाफ सिमडेगा में मामले दर्ज

  1. रोहित और उसकी पत्नी प्रभा मिंज के खिलाफ सिमडेगा के बानो थाना क्षेत्र से लड़कियों को बहला-फुसलाकर दिल्ली ले जाकर बेच देने के मामले दर्ज हैं। पुलिस को दोनों की लंबे समय से तलाश थी। रोहित का नाम उस समय सुर्खियों में आया, जब दिल्ली से ह्यूमन ट्रैफिकिंग की शिकार दर्जनों लड़कियों को रेस्क्यू कर रांची लाया गया था। उसी दौरान गोड्डा की एक नाबालिग ने रोहित मुनि, उसकी पत्नी व बेटी के खिलाफ दुष्कर्म और मारपीट करने का बयान दिया था। उसके बाद रोहित की गिरफ्तारी के लिए सिमडेगा पुलिस दिल्ली गई थी। हालांकि, बाद में गोड्डा की दुष्कर्म पीड़िता की रिम्स में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। 

  2. दिल्ली के वेस्ट पंजाबी बाग में रहता था रोहित, संस्था की आड़ में पत्नी करती थी मानव तस्करी

    रोहित मुनि अपने परिवार के साथ दिल्ली के वेस्ट पंजाबी बाग स्थित एक फ्लैट में रहता था। उसी फ्लैट में उसकी पत्नी कामगार सर्वेक्षण समिति नामक संस्था की आड़ में मानव तस्करी का धंधा करती थी। रोहित मुनि ने प्रभा मिंज से वर्ष 2000 में शादी की थी। उनकी तीन बेटियां और दो बेटे हैं। गिरफ्तार रोहित मुनि 1989 में कहलगांव के एक ट्रैक्टर गैराज में हेल्पर का काम करता था। एक गाड़ी मालिक की मदद से वह दिल्ली चला गया था। वहां जाकर वह दर्जी का काम करने लगा। इसी दौरान उसकी मुलाकात प्रभा से हुई थी। 

  3. फरार चल रहा था रोहित मुनि

    दिल्ली में प्राइवेट संस्था चलाने की आड़ में अपनी पत्नी प्रभा मुनि के साथ मानव तस्करी में लिप्त रोहित मुनि लंबे समय से फरार चल रहा था। पुलिस ने गुरुवार को जब उसे उसके पैतृक गांव त्रिमुहान से गिरफ्तार किया, तब वह दीपावली मानने के लिए अपनी बेटियों के साथ वहां गया हुआ था। रोहित मुनि और उसकी पत्नी पर सिमडेगा में कई किशोरियों को दिल्ली ले जाकर बेचने का मामला दर्ज है। सिमडेगा के जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा 27 जून 2018 को उसकी गिरफ्तारी का वारंट जारी किया गया था। 

  4. आगे क्या

    चूंकि, रोहित मुनि पर काम दिलाने के बहाने लड़कियों को दिल्ली ले जाकर बेचने समेत कई और गंभीर अपराध हैं। इसलिए शनिवार को कोर्ट में पेशी के बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेजा जाएगा। उसे फिर से रिमांड पर लेने के लिए पुलिस कोर्ट में आवेदन दाखिल कर सकती है। मंजूरी मिलने के बाद रोहित को रिमांड पर लेकर विस्तृत पूछताछ की जाएगी।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..