झारखंड / राष्ट्रपति के दौरे को लेकर गुमला में सुरक्षा व्यवस्था का डीजीपी ने लिया जायजा, देवघर में चार हेलीकाॅप्टरों ने एयरपोर्ट पर किया लैंडिंग ट्रायल

देवघर में लैंडिग ट्रायल के दौरान वायुसेना का हैलिकॉप्टर। देवघर में लैंडिग ट्रायल के दौरान वायुसेना का हैलिकॉप्टर।
तैयारियों का जायजा लेते पुलिस अधिकारी। तैयारियों का जायजा लेते पुलिस अधिकारी।
X
देवघर में लैंडिग ट्रायल के दौरान वायुसेना का हैलिकॉप्टर।देवघर में लैंडिग ट्रायल के दौरान वायुसेना का हैलिकॉप्टर।
तैयारियों का जायजा लेते पुलिस अधिकारी।तैयारियों का जायजा लेते पुलिस अधिकारी।

  • राष्ट्रपति 28 फरवरी को रांची के सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समाराेह में लेंगे हिस्सा, 29 को जाएंगे गुमला
  • निरीक्षण के दौरान डीजीपी, एडीजी अभियान, डीआईजी, आईजी, एसपी समेत पुलिस अधिकारी रहे मौजूद

दैनिक भास्कर

Feb 27, 2020, 04:54 PM IST

गुमला. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 29 फरवरी को गुमला आएंगे। राष्ट्रपति के दौरा को लेकर गुरुवार को पुलिस अधिकारियों ने सुरक्षा का जायजा लिया। राष्ट्रपति के आगमन को लेकर जिले के बिशुनपुर के विद्या मंदिर हैलीपैड पर अधिकारी पहुंचे थे। इस दौरान विशेष दिशा निर्देश भी दिए गए। सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने पहुंचे अधिकारियों में डीजीपी कमल नयन चौबे, एडीजी अभियान मुरारीलाल मीणा, आईजी नवीन सिंह, डीआईजी एवी होमकर, गुमला एसपी अंजनी कुमार झा मौजूद रहे। उधर, देवघर में वायु सेना के चार हेलीकाॅप्टरों ने एयरपोर्ट पर लैंडिंग ट्रायल किया।

गुमला में एडीजी अभियान मुरारीलाल मीणा ने बताया कि तमाम पुलिस पदाधिकारी पुलिस मुख्यालय से यहां तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे थे। हैलीपैड से लेकर कार्यक्रम स्थल तक की तैयारियों का जायजा लिया गया है। राष्ट्रपति के आगमन को लेकर किसी को भी किसी तरह की परेशानी नहीं होगी। आवश्यक जगह पर पुलिस की तैनाती की जाएगी। उन्होंने कहा कि जब भी इस तरह का मूवमेंट होता है तो जनता भी इसमें पार्टिसिपेट करती है और उनका भी सहयोग रहता है।

विकास भारती के सचिव सह अशोक भगत ने कहा कि ऐसा पहली बार हो रहा है जब कोई राष्ट्रपति जंगली इलाके में आकर आदिवासियों से मिल रहे हैं, उनके दुख-दर्द को समझने की कोशिश करेंगे। किसी भी दूरस्थ स्थान में कोई भी राष्ट्रपति कभी नहीं गया होगा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की सोच रही है कि वे हर साल ऐसे स्थान पर जाते हैं, जहां गरीब-पिछले लोगों से वे मिल सके। यहां विकास भारती माध्यम बना। वे हमारे मित्र हैं, उन्होंने हमारे आग्रह को स्वीकार किया है और यहां आ रहे हैं। पिछले साल उनका कार्यक्रम रद्द हो गया था। 

बिशुनपुर में हेलीपैड से मेन रोड तक बनेगी अस्थाई सड़क : उपायुक्त
राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के प्रस्तावित आगमन के मद्देनजर उपायुक्त शशि रंजन ने भी तैयारियों का जायजा लिया। डीसी ने हेलीपैड निर्माण कार्य का जायजा लेते हुए यहां बने तीनों हैलीपैड से मुख्य सड़क तक अस्थाई सड़क का निर्माण करने का निर्देश कार्यकारी एजेंसी को दिया। उन्होंने हैलीपैड के आसपास के मलबों को हटाने को कहा है। हैलीपैड के चारों तरफ बैरिकेडिंग का कार्य जल्द से जल्द पूरा करने का निर्देश कार्यपालक अभियंता भवन प्रमण्डल को दिया गया है। साथ ही बीडीओ को निर्देश दिया कि कार्यक्रम स्थल एवं भ्रमण स्थल के आसपास साफ-सफाई का विशेष ध्यान दिया जाए। उन्होंने सभी सरकारी कार्यालय भवनों, बाजार-हाटों की साफ-सफाई तथा दुकानों को भी साफ-सुथरा रखने का निर्देश दिया। 

उधर, 29 फरवरी 2020 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के आगमन से पहले गुरुवार को वायु सेना के चार हेलिकाॅप्टरों ने ट्रायल लैंडिंग किया। ज्ञात हो कि हेलीकाॅप्टर लैंडिंग के लिए पूर्व में हीं ब्लू बुक में दिये गए निर्देशों के आलोक में सारी तैयारियां एयरपोर्ट पर जिला प्रशासन द्वारा की गयी थी। इस दौरान चार हेलीकॉप्टरों द्वारा लैंडिंग ट्रायल लिया गया जो पायलटों ने सफल बताया है। इसके पश्चात वायु सेना के अधिकारियों द्वारा हेलीपेड स्थल का निरीक्षण कर सुरक्षा संबंधी बिन्दुओं पर विस्तृत चर्चा की गयी।


रांची से गुमला आएंगे राष्ट्रपति कोविंद
राष्ट्रपति 28 फरवरी को दोपहर 1 बजकर 35 मिनट पर रांची के बिरसा मुण्डा एयरपोर्ट पंहुचेंगे। फिर वे दोपहर 4:40 बजे से 5:30 बजे तक रांची के चेरी मनातू स्थित सेंट्रल यूनिवर्सिटी, झारखंड के कार्यक्रम में भाग लेंगे। वे यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह का हिस्सा बनेंगे और उसके नवनिर्मित भवन का उद्घाटन करेंगे। फिर वे राजभवन में रात्रि विश्राम करेंगे।

शनिवार सुबह यानी 29 फरवरी को राष्ट्रपति गुमला जिले के बिशुनपुर में 10:20 बजे से 11:30 बजे तक विकास भारती के कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। राष्ट्रपति का हेलीकॉप्टर विद्या मंदिर बहेराटांड में लैंड करेगा। जिसके बाद राष्ट्रपति सड़क मार्ग से विकास भारती प्रखंड मुख्यालय पहुंचेंगे। जहां पर पद्मश्री अशोक अशोक भगत उनका स्वागत कर विकास भारती में संचालित विभिन्न योजनाओं को बताएंगे। साथी ही विकास भारती परिसर में महिला समूह, बढ़ई गिरी, मलार गिरी, आदिम जनजाति द्वारा निर्मित लोहा निर्माण, खादी संबंधित कई स्कूल का भी अवलोकन करते हुए आदिवासी ट्राईबल सेंटर पहुंचेगे। जहां पर आदिवासियों के रहन-सहन सहित अन्य चीजों की जानकारी लेंगे। जिसके बाद कैंपस अंदर से ही ज्ञान निकेतन पहुंचेंगे। जहां पर अनाथ आदिम जनजाति व जनजाति बच्चों से मुलाकात करेंगे। फिर उसी दिन दोपहर एक बजे वे देवघर पहुंच कर बाबा वैद्यनाथ की पूजा-अर्चना करेंगे। राष्ट्रपति 01 मार्च की सुबह 10 बजे रायपुर के लिए प्रस्थान करेंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना