कोरोनावायरस / रांची के कई गांव में बाहरी लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध; बैरिकेटिंग की, पोस्टर भी लगाए

गांव के बाहर लगाया गया बैरियर। गांव के बाहर लगाया गया बैरियर।
बेड़ों के गांवों में लगाया गया पोस्टर। बेड़ों के गांवों में लगाया गया पोस्टर।
अनगड़ा में लगाया गया पोस्टर। अनगड़ा में लगाया गया पोस्टर।
संक्रमण के डर से गांव के बाहर लगाया गया बैरियर। संक्रमण के डर से गांव के बाहर लगाया गया बैरियर।
X
गांव के बाहर लगाया गया बैरियर।गांव के बाहर लगाया गया बैरियर।
बेड़ों के गांवों में लगाया गया पोस्टर।बेड़ों के गांवों में लगाया गया पोस्टर।
अनगड़ा में लगाया गया पोस्टर।अनगड़ा में लगाया गया पोस्टर।
संक्रमण के डर से गांव के बाहर लगाया गया बैरियर।संक्रमण के डर से गांव के बाहर लगाया गया बैरियर।

  • महामारी से बचाव के लिए गांवों में जन-जागरुकता अभियान भी चलाया गया

दैनिक भास्कर

Mar 25, 2020, 07:32 PM IST

रांची. अनगड़ा, मेसरा, लापुंग थाना क्षेत्र के दोलैचा समेत अन्य गांव में कोरोनावायरस के खौफ के चलते गांव में बाहर से आने वाले लोगों के लिए रोक लगा दी गई है। दोलैचा गांव में ग्रामीणों ने दोलैचा से बेड़ो को जोड़ने वाली सड़क पर बैरिकेटिंग लगाकर बाहर के लोगों का गांव में प्रवेश वर्जित कर दिया है। ग्रामीणों ने कोरोना वायरस से होने वाले महामारी से बचाव के लोगों को पूरी तरह जागरूक रहने, बाहरी लोगों के संपर्क में ना आने, घर में रहने तथा नियमों का पालन करने के मामले को लेकर विचारों को साझा किया और जन जागरूकता अभियान चलाया। 

वहीं दूसरी ओर कचनपुर तथा रायटोली में भी जागरूकता अभियान चलाकर गांव में बाहरी लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया। कचनपुर में भाजपा के मंडल अध्यक्ष हरी मोहन साहू के नेतृत्व में ग्रामीणों ने बैठक का आयोजन किया और कोरोना से बचाव के लिए लॉक डाउन के नियमों का 21 दिनों तक पालन करने का निर्णय लिया। लापुंग प्रखंड के बोकरनदा पंचायत के कचनपुर गाँव में कोरोनावायरस के बारे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 21 दिन लॉकडाउन घोषणा के बाद कचनपुर गांव के लोगों ने बैठक की और निर्णय लिया कि गांव का कोई भी आदमी अब बाहर नहीं जायेगा और ना ही किसी बाहरी आदमी को प्रवेश की इजाजत दी जाएगी। 

जांच के बाद गांव में घुसने को लेकर पोस्टर लगाया
वहीं बेड़ो प्रखंड के कई गांवों केनाभिठा, डुमरी, गडरी, नेहलू, रोगो, जहानाबाज, पागलमेडी, खत्री खटंगा सहित कई गांव में कोरोनावायरस के संक्रमण से गांव के लोगों को बचाने के लिए गांव के लोगों ने लॉकडाउन का समर्थन किया। उन्होंने सड़क पर बैरियर व पोस्टर लगाकर गांव से बाहर के लोगों को प्रवेश पर रोक लगा दी। यहां तक कि गांव के लोग जो बाहर के राज्यों में काम करने गए हैं और जो वापस आ रहे हैं। उन्हें भी स्वास्थ्य जांच के बाद गांव में प्रवेश की अनुमति देने की बात कही है। ग्रामीणों का कहना है गांव के लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए गांव में प्रवेश की रोक लगायी है। जो बाहर आ रहे हैं उन्हें जांच के लिए अस्पताल भेजा जा रहा है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना