कोरोनावायरस / चिकित्सकों ने स्वास्थ्य मंत्री को दिया रिम्स को स्टेट कोरोना सेंटर बनाने का प्रस्ताव

कोरोनावायरस के संक्रमण के उपायों को लेकर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने की रिम्स में उच्चस्तरीय बैठक। कोरोनावायरस के संक्रमण के उपायों को लेकर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने की रिम्स में उच्चस्तरीय बैठक।
X
कोरोनावायरस के संक्रमण के उपायों को लेकर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने की रिम्स में उच्चस्तरीय बैठक।कोरोनावायरस के संक्रमण के उपायों को लेकर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने की रिम्स में उच्चस्तरीय बैठक।

  • स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- इस आपदा की घड़ी में एक सहकर्मी की हैसियत से अपने साथियों का हौसला बढ़ाने आया हूं

दैनिक भास्कर

Mar 25, 2020, 06:33 PM IST

रांची.  स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने बुधवार को कोरोना के रोकथाम और रिम्स में किए गए उपायों की समीक्षा की। बैठक में चिकित्सकों ने विभिन्न प्रकार की समस्याओं से स्वास्थ्य मंत्री को अवगत कराया। साथ ही अभी तक की तैयारियों के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी। रिम्स के चिकित्सकों ने स्वास्थ्य मंत्री को सुझाव दिया कि रिम्स को पूरे राज्य का एकीकृत कोरोना सेंटर बनाया जा सकता है, ताकि पूरे राज्य से आए कोरोना के मरीजों का इलाज एक जगह हो सके। इससे इलाज की सुविधा भी होगी और संक्रमण फैलने का खतरा भी कम रहेगा।

सामान्य मरीजों को कोरोना का संक्रमण न हो इससे बचने के लिए प्राइवेट और सदर अस्पताल में ट्रांसफर करने की जरूरत है। इससे उनमे संक्रमण की संभावना भी कम होगी। साथ ही आपात स्थिति में रिम्स अस्पताल पर लोड भी कम होगा। चिकित्सकों ने बताया कि रिम्स के चिकित्सक वहां जाकर इनका इलाज करेंगे। स्वास्थ्य मंत्री ने इस विषय पर मुख्य सचिव डीके तिवारी से फोन पर चर्चा की और साथ ही मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के पास प्रस्ताव रखने का आश्वासन दिया। बैठक में रिम्स निदेशक, रिम्स सुपरिटेंडेंट समेत अन्य विभागों के एचओडी उपस्थित थे।

रिम्स के चिकित्सकों और कर्मचारियों को लॉक डाउन तक रिम्स के नजदीक किसी होटल या गेस्ट हाउस में रखा जाए
बैठक में मामला उठा कि रिम्स में जो चिकित्सक या चिकित्साकर्मी दूर से आते हैं, उन्हें लॉकडाउन तक रिम्स के नजदीक ही अस्थायी तौर पर रहने और खाने का इंतजाम किया जाए। ताकि वे उपलब्ध भी रहे और उनसे संक्रमण फैलने का खतरा भी न हो। बैठक में चिकित्सकों ने एन-95 और पीपीई गाउन की मांग की। ताकि इलाज के समय चिकित्सक संक्रमित होने से बचे और उन्हें सुरक्षा भी मिल सके। स्वास्थ्य मंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया कि जल्द ही मास्क और गाउन उपलब्ध कराने की कोशिश की जाएगी।

डिस्चार्ज हुए मरीजों के लिए विशेष बसों का होगा इंतजाम
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि लॉकडाउन के बाद बहुत से ऐसे मरीज हैं, जो बाहरी जिलों से आए हैं और जो डिसचार्ज हो गए हैं। लेकिन, लॉक डाउन के कारण उन्हें अपने जिलों और घरों तक जाने के लिए परिवहन की व्यवस्था नहीं मिल पा रही हैं, ऐसे मरीजों के लिए छह रूट में 6 बसों का इंतजाम किया जाएगा ताकि उन्हें घर पहुंचने में दिक्कत न हो, साथ ही रिम्स के प्रोटोकॉल ऑफिसर को हिदायत दी गई हैं कि कोई भी बाहरी जिला का एम्बुलेंस मरीज लेकर आए तो वे सुनिश्चित करें कि लौटने के वक्त डिस्चार्ज हुए उसी जिले या रूट के मरीज को लेकर वापस जाए।

आईएमए और रिटायर्ड चिकित्सकों को मानवीय संवेदना के आधार पर सेवा करने का अनुरोध
स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सदस्यों और रिटायर्ड चिकित्सकों से अनुरोध किया है कि संभव हो सके तो वे इस विपदा की घड़ी में मानवता के नाते या नहीं तो इंसेंटिव लेकर रिम्स में अपनी सेवा दे ताकि विकट परिस्थितियों में चिकित्सकों की कमी न हो पाए। स्वास्थ्य मंत्री ने इस मुश्किल घड़ी में रेड क्रॉस सोसायटी, रोटरी क्लब, लायंस क्लब, एनएसएस समेत अन्य सामाजिक संगठनों से आगे आकर जरूरतमंदों की सेवा करने की अपील की है।

जमाखोरों को कड़ी चेतावनी, चेते नही तो जाएंगे जेल
स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने खाद्य पदार्थों, मास्क और सैनिटाइजर की कालाबाजारी करने वाले को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा है कि राष्ट्रीय आपदा के समय जमाखोरी करना और भ्रष्टाचार करना देशद्रोह के समान है, ड्रग निदेशक को ऐसे लोगों को छापामारी करने और जेल भेजने का निर्देश दिया है। बैठक के दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने मुख्य सचिव और गृह सचिव के अलावा स्वास्थ्य सचिव से फोन पर बात कर सभी मुद्दों को रखा और जनहित में न्याय संगत कार्यवाई करने की बात कही।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना