विज्ञापन

घर के दरवाजे पर पहुंची बारात, DJ पर डांस कर रहे थे बाराती, तभी घर के अंदर से आई एक खबर ने सारा माहौल शांत कर दिया-रोने लगे माता-पिता, दोस्तों के साथ चुपचाप खड़ा रहा दूल्हा

Dainik Bhaskar

Mar 15, 2019, 12:49 PM IST

बिना दुल्हन के ही वापस लौटी बारात, लड़की के साहस की सभी लोग कर रहे हैं तारीफ

  • comment

रांची (झारखंड़)। राजधानी के जामू गांव की 17 वर्षीय बेटी कविता ने बुधवार रात हिम्मत का परिचय देते हुए शादी करने से इनकार कर दिया। अभी उसने मैट्रिक की परीक्षा दी है और आगे पढ़ाई करना चाहती है। बुधवार रात घर पर बारात पहुंच गई थी। डीजे पर बाराती नाच-गा रहे थे, लेकिन कविता पीछे के दरवाजे से शादी के जोड़े में भाग कर थाने पहुंच गई। रोते हुए उसने पुलिसकर्मियों से कहा- सर! प्लीज मुझे बचा लीजिए। मैं पढ़ना चाहती हूं, शादी नहीं करना चाहती। पुलिस ने सीडब्ल्यूसी से संपर्क कर किशोरी को उसे सौंप दिया। फिलहाल कविता को चाइल्डलाइन में रखा गया है। नाबालिग ने अपनी सूझबूझ से खुद को बालिका वधु होने से बचाया। दरवाजे पर पहुंची बारात बिना दुल्हन के ही वापस लौट गई।

प्रखंड के जामू गांव निवासी सीताराम शर्मा ने अपनी बेटी कविता (17) का विवाह राहुल से तय किया था। बुधवार को बारात आई थी। लेकिन मौका देखकर कविता फरार हो गई। उसके घर में नहीं होने की खबर मिलते ही सभी के होश उड़ गए। जब घर के अंदर से लड़की के गायब होने की खबर मिली तो शादी में नाच-गा रहे बाराती अचानक शांत हो गए। दुल्हन के माता-पिता दहाड़े मारकर रोने लगे। दूल्हा भी कुछ समझ नहीं पा रहा था। वो भी अपने दोस्तों के साथ चुपचाप खड़ा रहा और कुछ देर इंतजार करने के बाद दूल्हा बारात लेकर लौट गया।

थाने पहुंचकर नाबालिग बोली - सर प्लीज मुझे बचा लीजिए, मैं पढ़ना चाहती हूं

नाबालिग कविता ने थाना पहुंच कर थाना प्रभारी शाहिद रजा से फरियाद की। कहा, प्लीज मुझे इस शादी से बचा लीजिए। मैं अभी पढ़ना चाहती हूं। नाबालिग ने बताया कि उसके घर वाले जबरदस्ती उसकी शादी कराना चाह रहे हैं। पुलिस ने सीडब्ल्यूसी को इसकी जानकारी दी। फिर सीडब्ल्यूसी टीम के सदस्य नूतन कुमारी व जितेंद्र कुमार थाने पहुंचकर नाबालिग को अपने साथ लेते गए। इधर वर-वधु पक्ष के लोग भी आनन-फानन में सुबह होते ही शादी के लिए लगाए गए टेंट व सजावट के समान को समेट कर वापस भेज दिया। जब मीडियाकर्मियों ने उनसे इस संबंध में बात करने का प्रयास किया, ताे दोनों पक्ष के लोगों ने कुछ भी बताने से इनकार कर दिया।

माता-पिता ने मर्जी के खिलाफ शादी तय कर दी थी : कविता

थाने में कविता ने बताया कि पढ़ाई पूरी करने के बाद वह अपने पसंद के लड़के के साथ शादी करना चाहती है। माता -पिता ने उसकी मर्जी के खिलाफ उसकी शादी तय कर दी थी। उसने इस वर्ष मैट्रिक की परीक्षा दी है। वह घर में भी शादी का विरोध कर रही थी, लेकिन परिवार वाले उसकी बात नहीं सुन रहे थे। सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष रूपा सामंता ने बताया कि नाबालिग को फिलहाल चाइल्ड लाइन में रखा गया है।

X
COMMENT
Astrology
विज्ञापन
विज्ञापन