रांची लोकसभा सीट / कांग्रेस नेता सुबोधकांत सहाय ने भरा पर्चा, महागठबंधन के नेता रहे मौजूद



नामांकन दाखिल करते सुबोधकांत सहाय। नामांकन दाखिल करते सुबोधकांत सहाय।
X
नामांकन दाखिल करते सुबोधकांत सहाय।नामांकन दाखिल करते सुबोधकांत सहाय।

  • दो सेट में सुबोधकांत ने दाखिल किया नामांकन, कहा- महागठबंधन एकजुट है

Dainik Bhaskar

Apr 16, 2019, 02:46 PM IST

रांची. लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के प्रत्याशी के रूप में मंगलवार को कांग्रेस प्रत्याशी सुबोधकांत सहाय ने नामांकन दाखिल किया। धुर्वा मैदान से रैली निकालकर विभिन्न इलाकों में घूमते हुए करीब 12:30 बजे कलेक्ट्रेट पहुंचे। उनके पहुंचने से करीब आधा घंटा पहले ही जेएमएम और जेवीएम के दर्जनों कार्यकर्ता मुख्य गेट के पास जमा हो चुके थे। सुबोधकांत नामांकन दाखिल करने के लिए जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह डीसी राय महिमापत रे के कमरे में पहुंचे। इस दौरान उनके साथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार जेवीएम नेता बंधु तिर्की और अन्य लोग मौजूद थे। दो सेट में उन्होंने अपना नामांकन दाखिल किया। 

 

सुबोध की उम्र उनकी संपत्ति से ज्यादा तेजी से बढ़ी 
सुबोधकांत की उम्र उनकी संपत्ति से ज्यादा तेजी से बढ़ी है। शपथ पत्र तो यही बताता है। पांच साल में उनकी कुल संपत्ति में तो करीब 1.96 करोड़ का इजाफा हुआ है पर इसी दौरान उनकी उम्र 5 की बजाय 7 साल बढ़ गई। 2014 के लोस चुनाव में दायर शपथ पत्र में उनकी कुल संपत्ति 5.89 करोड़ रुपए और उम्र 60 साल थी। इस हिसाब से अब उनकी उम्र 65 साल होनी चाहिए, जबकि मंगलवार को दायर शपथ पत्र में उन्होंने अपनी उम्र 67 वर्ष दिखाई है। अब उनकी कुल संपत्ति 7.85 करोड़ हो चुकी है। 


बेटी के पास 10.83 लाख के हीरे गिफ्ट की कीमत नहीं बताई 
सुबोधकांत खुद अब भी 2014 की तरह ही 1.65 लाख की हीरे की अंगूठी पहन रहे हैं और पत्नी के पास भी अब तक 9.42 लाख के ही गहने हैं। बेटी के पास पहले 1390 ग्राम सोना था। अब 1083303 रुपए के हीरे के गहने, 332.64 ग्राम सोना और 245 चांदी के सिक्के हैं, जो गिफ्ट मिले थे। इनकी कीमत नहीं बताई है। 


5 साल में चल संपत्ति एक करोड़ से ज्यादा बढ़ी, अचल संपत्ति 41 लाख ही बढ़ी : सुबोधकांत की कुल संपत्ति 7.85 करोड़ की है। इसमें चल संपत्ति 3.82 करोड़ की है। 2014 के शपथ पत्र के मुताबिक चल संपत्ति 2.77 करोड़ रुपए थी। 

 

सहाय ने कहा- महागठबंधन है एकजुट
नामांकन दाखिल करने से पूर्व सुबोधकांत सहाय ने कहा कि महागठबंधन एकजुट है और साम्प्रदायिक ताकतों को सत्ता से हटाने के लिए प्रतिबद्ध है। देश की जनता मोदी के झूठ से ऊब गयी है। उनके जुमलेबाजी से ठगी गयी है। रांची झारखंड और पूरे देश मे महागठबंधन विजयी होगा। महागठबंधन की ये एकता विधान सभा मे भी जारी रहेगी। हर गांव के गरीब किसान मजदूर सब महागठबंधन पर उम्मीद लगाए बैठे है। उनसे पहले तीन निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी मंगलवार को अपना नामांकन दाखिल किया। 

 

यह उनकी नहीं देश की एकता-अखंडता एवं संविधान बचाने की लड़ाई है : सुबोधकांत
यूपीए महा गठबंधन के साझा कांग्रेस प्रत्याशी सुबोधकांत सहाय ने हरमू मैदान में चुनावी सभा किया। इस सभा में कांग्रेस के बड़े दिग्गज नेता समेत सभी दल के बड़े पदाधिकारी एवं नेताओं ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में सुबोधकांत सहाय ने कहा कि उनकी नहीं देश को बचाने एवं एकता-अखंडता की लड़ाई है। केवल रांची नहीं बल्कि झारखंड के सभी 14 सीटों को जीत कर यूपीए के खाते में डालना है। ताकि राहुल गांधी पीएम बन सकें। उन्होंने कहा कि गांधी परिवार शहीदों का परिवार है। इसके एक-एक परिवार के सदस्य ने देश के अपनी कुर्बानी दे दी। मगर मोदी इनपर हमले कर रही है। इससे कांग्रेस परिवार डरने वाले नहीं है। राहुल गांधी के अब प्रियंका गांधी साड़ी बांधकर निकल पड़ी है अपनी दादी इंदिरा की राह पर। उन्होंने मोदी चोर है के नारे लगवाते हुए कहा कि राहुल गांधी जाने कहते हैं जो करते हैं। न्याय योजना लागू करके गरीबी को समाप्त करना चाहते हैं। आज मोदी सरकार देश के सभी संवैधानिक संस्थाओं को हाई जैक कर रही है। सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश को कहना पड़ता है कि सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। आज जब कपिल सिब्बल मोदी के घोटाले के पर्दाफाश कर रहे थे तब देश के मीडिया का नेटवर्क कट कर दिया गया। मोदी ने जिस प्रकार से मीडिया को हाई जैक करने का प्रयास किया है, वैसा देश के आजादी के इतने वर्षों में नहीं हुआ। उन्होंने संजय सेठ का नाम लिए बिना कहा कि रांची में रघुवर दास का चमचा चुनाव लड़ रहा है। 

 

किसने क्या कहा-

  • राजद युवा अध्यक्ष अभय सिंह ने कहा कि रांची का यह चुनाव रघुवर एवं सुबोधकांत के बीच का है। इसलिए इस चुनाव में रघुवर को हराकर उन्हें विधानसभा चुनाव के पूर्व ही झारखंड से भगाने का कार्य करें।
  • पूर्व मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि इतिहास गवाह है कि आरएसएस वाले लोग जो लंबे समय तक अपने मुख्यालय में तिरंगा नहीं फहराया। आज तथाकथित राष्ट्रवादी बन गए हैं। इतिहास गवाह है कि भाजपा एवं आरएसएस के लोग देश के लिए खून तो क्या एक नाखुन तक नहीं दिया।
  • पूर्व मंत्री राजेंदर सिंह ने कहा कि सुबोधकांत सहाय रांची नहीं बल्कि पूरे झारखंड की शान है। इन्हें जितने पर पूरे झारखंड का मान-सम्मान बढ़ेगा और राज्य से रघुवर सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी
  • पूर्व मंत्री ददई दूबे ने कहा कि अगर इस बार मोदी आ गए तो देश में अंग्रेजी शासन आ जाएगा। देश के संविधान एवं संवैधानिक संस्थाओं को बचाने के लिए भाजपा को भागना जरूरी है। 
  • झामुमो के पूर्व विधायक अमित महतो ने कहा कि जब देश मोदी सरकार एवं राज्य में रघुवर सरकार आयी है तब से झारखंड की अस्मिता खतरे में पड़ गया है। चाहे वह स्थानीय नीति हो, भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल या फिर सीएनटी-एसपीटी मेंं संशोधन का प्रयास। हर लोग पर प्रहार हो रहा है। 
  • कांग्रेस विधायक डा इरफान अंसारी ने कहा कि देश एवं राज्य को बचाने के लिए भाजपा को भगाना जरूरी है। रांची के प्रत्याशी सुबोधकांत सहाय ऐसे नेता हैं जो जन-जन के बीच छाए रहते हैं। इसलिए इन्हें जीताकर संसद भेजने का काम करें।
  • झाविमो केंद्रीय महासचिव बंधु तिर्की ने कहा कि यह चुनाव राष्ट्रवाद नहीं बल्कि देश के तिरंगे एवं संविधान बचाने की लड़ाई है। केंद्र की भाजपा सरकार तिरंगा एवं संविधान की मूल आत्म को ही समाप्त करने पर तुली है। इस चुनाव में भाजपा का दफन करने का संकल्प लेना है। 
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना