झारखंड / आजसू का 19 सीटों पर होगा दावा, 10 पर बन सकती है सहमति

आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो। (फाइल फोटो) आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो। (फाइल फोटो)
X
आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो। (फाइल फोटो)आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो। (फाइल फोटो)

  • पिछले चुनाव में आजसू को गठबंधन में मिली थीं 8 सीटें, इस बार और 11 सीटों पर पार्टी कर रही दावेदारी
  • आजसू और भाजपा कर सकती हैं कुछ सीटों की अदला-बदली 

दैनिक भास्कर

Sep 20, 2019, 11:54 AM IST

रांची (विनय चतुर्वेदी). भाजपा की सहयोगी पार्टी आजसू का आगामी विधानसभा चुनाव में 19 सीटों पर दावा होगा। संभावना है कि 10 सीटों पर सहमति बन सकती है। पिछली बार आजसू को आठ सीटें मिली थीं। इस बार आजसू और भाजपा कुछ सीटों की अदला-बदली भी कर सकती हैं। विधानसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे के संदर्भ में भाजपा-आजसू के बीच समझौता वार्ता अभी होनी है। कई ऐसी सीटें हैं, जहां दोनों पार्टियां लड़ना चाहती हैं। पर, दोनों एक बात पर सहमत हैं कि जिस सीट पर जीतने की संभावना जिसकी अधिक होगी, वही चुनाव लड़ेगा। आजसू को 2014 विधानसभा चुनाव में आठ सीटें मिली थीं, जिनमें से पार्टी ने पांच पर जीत हासिल की थी। 

 

इस बार आजसू को डबल डिजिट में सीट दे सकती है भाजपा
इस बार पार्टी की रणनीति 11 नई सीटों के साथ समझौता टेबल पर बैठने की है। उसकी दावेदारी 19 सीटों पर होगी। भाजपा के लिए इसे स्वीकार करना मुश्किल होगा। हालांकि मिल रही सूचना के अनुसार आजसू को इस बार भाजपा डबल डिजिट में सीट दे सकती है। वैसे भी प्रदेश भाजपा ने सार्वजनिक रूप से आजसू से लोहरदगा सीट छोड़ने को कहा है। चंदनकियारी सीट से जीते अमर बाउरी भी अब भाजपा के हो गए हैं। इस प्रकार वर्ष 2014 में आजसू को मिली आठ सीटों में से दो सीटों पर इस बार भाजपा खुद चुनाव लड़ेगी। ऐसा हुआ तो फिर इन दो सीटों की भरपाई के लिए आजसू गोमिया, पाकुड़, डुमरी और सिमरिया को अंत-अंत तक पाना चाहेगी। 

 

इन सीटों पर है आजसू की दावेदारी 
सिल्ली, रामगढ़, जुगसलाई, टुंडी, तमाड़, चंदनकियारी, बड़कागांव, लोहरदगा, मांडू, गोमिया, पाकुड़, पांकी, डुमरी, चक्रधरपुर, सिमरिया, सरायकेला, जरमुंडी, सिंदरी। इसके अलावा कांके, खिजरी, हटिया और ईचागढ़ में से कोई एक। 

 

इन 10 सीटों पर संभावना 
सिल्ली, रामगढ़, जुगसलाई, टुंडी, बड़कागांव, तमाड़, गोमिया, पाकुड़, डुमरी, सिमरिया। 

 

2019 विधानसभा चुनाव में आजसू की सीटों स्थिति और संभावना 
1. सिल्ली 
परिणाम : आजसू प्रमुख सुदेश महतो यहां से हारे थे। 
वर्तमान स्थिति : यह सीट आजसू जीते, इसके लिए आजसू और भाजपा दोनों पार्टियां लगातार मेहनत कर रही हैं। 
संभावना : आजसू उम्मीदवार ही यहां से चुनाव लड़ेंगे। 
2. रामगढ़ 
 परिणाम : चंद्रप्रकाश चौधरी यहां से जीते थे। 
 वर्तमान स्थिति : चंद्रप्रकाश चाैधरी की पत्नी सुनीता देवी ने यहां से चुनाव लड़ने की घोषणा की है। 
 संभावना : यह आजसू की पारंपरिक सीट है। उसे ही मिलेगी। 
3. जुगसलाई 
 परिणाम : वर्तमान मंत्री रामचंद्र सहिस यहां से जीते थे। 
 वर्तमान स्थिति : यहां पर आजसू की जोरदार चुनावी तैयारियां चल रही हैं। 
 संभावना : यह सीट आजसू के पास ही रहेगी।
4. टुंडी 
 परिणाम : यहां से आजसू नेता राजकिशोर महतो की जीत हुई थी। 
 वर्तमान स्थिति : इस सीट को आजसू अपना स्वभाविक सीट मानते हुए चुनावी तैयारी में व्यस्त है। 
 संभावना : यह सीट आजसू के पास ही रहने की संभावना है। 
5. बड़कागांव 
परिणाम : आजसू प्रत्याशी की हार हुई थी। 
वर्तमान स्थिति : यहां पर अपने संगठन को लगातार मजबूती दे रही है। 
संभाावना : यहां की सीट आजसू के पास रह सकती है। 
6. तमाड़ 
 परिणाम : आजसू के विकास मुंडा यहां से जीते थे। 
 वर्तमान स्थिति : अनुशासनहीनता के आरोप में आजसू ने विकास मुंडा को निलंबित कर दिया है। विकास की नजदीकियां झामुमो से बढ़ी है। 
 परिणाम : यह सीट आजसू के खाते में ही रह सकती है। 
7. सिमरिया 
 वर्तमान स्थिति : जेवीएम से चुनाव जीते गणेश गंझु भाजपा में शामिल हो चुके हैं। आजसू का कहना है कि वर्तमान विधायक की छवि अच्छी नहीं है। आजसू के पास जीतने वाला उम्मीदवार है। 
 संभावना : 1990, 1995 और 2005 विस चुनाव में भाजपा यहां से जीती है। दोनों दल जीत की संभावना पर विचार करते हुए फैसला लेंगे। 
8. डुमरी 
 वर्तमान स्थिति : झामुमो या क्षेत्रीय दल ही लगातार जीतते रहे हैं। भाजपा यहां पर कभी भी नहीं जीत पाई है। आजसू पार्टी इसी आधार पर यहां से चुनाव लड़ना चाहती है। 
 संभावना : भाजपा यहां पर पहले जीत की स्थिति टटोलेगी, फिर फैसला करेगी। 
9. गोमिया 
वर्तमान स्थिति : भाजपा प्रत्याशी की मौजूदगी के बावजूद 2018 उपचुनाव में आजसू उम्मीदवार लंबोदर महतो दूसरे स्थान पर रहे थे। 
संभावना : भाजपा यह सीट आजसू को दे सकती है। 
10. पाकुड़ 
 वर्तमान स्थिति : वर्ष 2000 विस चुनाव से कांग्रेस या फिर जेएमएम उम्मीदवार ही जीत रहे हैं। 65% मुसलमान वोटर हैं।
संभावना:  आजसू के टिकट पर जेएमएम के पूर्व विधायक अकील अख्तर चुनाव लड़ सकते हैं। 

 

DBApp

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना