पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पांच वर्षों में निवेश इवेंट पर कितने खर्च हुए, कितने उद्योग लगे और कितने बंद हुए, श्वेत पत्र जारी हो: बाबूलाल मरांडी

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने की प्रेसवार्ता।
  • मोमेंटम झारखंड के नाम पर आई 600 कंपनी, 900 करोड़ खर्च हुए, पर न तो एक फैक्ट्री खुली और न ही मिला रोजगार
  • अब चुनाव सिर पर, अपनी घोषणा के अनुरूप पायी-पायी के खर्च का हिसाब दे मुख्यमंत्री

रांची. पूर्व सीएम एवं झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने कहा कि अब सरकार के पांच वर्ष पूरे होने को हैं। इसलिए समय आ गया है कि मुख्यमंत्री अपनी घोषणा के अनुरूप पाई-पाई का खर्च जनता को दें। सरकार को अब यह बताना चाहिए कि विगत पांच वर्षों में निवेश इवेंट के नाम पर कितने खर्च हुए, कितने उद्योग एवं फैक्ट्री लगे, कितने को रोजगार मिला और कितने उद्योग बंद हुए। उद्योग विभाग को इस पर श्वेत पत्र जारी करना चाहिए। केवल मोमेंटम झारखंड के नाम से 900 करोड़ रुपए जनता की गाढ़ी कमाई के खर्च हुए, 300 कंपनी आई मगर एक न तो फैक्ट्री खुली और न ही लोगों को रोजगार मिला। बदले में सैकड़ों फैक्ट्री एवं उद्योग में ताले लग गए। यह बातें बाबूलाल मरांडी ने बुधवार को पार्टी कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान कही।
 
उन्होंने कहा कि केवल आदित्यपुर जो मुख्यमंत्री के गृह क्षेत्र में है, एक हजार से अधिक फैक्ट्री बंद हो गई। 20 लाख से अधिक लोग बेरोजगार हो गए। टेल्को जैसी कंपनी पर खतरा मंडरा रहा है। रामगढ़ में कई फैक्ट्री बंद हो गई। हिंडाल्को की स्थिति अच्छी नहीं है। 5000 से अधिक लोगों की छंटनी हो गई। गिरिडीह में स्पंज आयरन का उत्पादन अब आधे से अधिक रह गया है।
 
उन्होंने कहा- माइनिंग इंडस्ट्रीज भी बंदी के कगार पर है। मतलब पांच वर्षों में एक भी उद्योग एवं फैक्ट्री नहीं लगे मगर हजारों बंद हो गए। उन्होंने कहा कि एमओयू का नया दौर झारखंड में पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा के समय शुरू हुआ, जो अब भी जारी है। एमओयू के नाम पर जनता की गाढ़ी कमाई को लुटाना और बदले में कुछ नहीं आना, यह सरकार की फितरत बन गई है। अगर सरकार ने इसका जवाब नहीं दिया तो झाविमो इसे जनता के बीच लेकर जाएगी।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। वैसे भी आज आपको हर काम में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इसलिए पूरी मेहनत से अपने कार्य को संपन्न करें। सामाजिक गतिविधियों में भी आप...

और पढ़ें