रांची / झारखंड कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा, ली हार की नैतिक जिम्मेदारी



डॉक्टर अजय कुमार। (फाइल फोटो) डॉक्टर अजय कुमार। (फाइल फोटो)
X
डॉक्टर अजय कुमार। (फाइल फोटो)डॉक्टर अजय कुमार। (फाइल फोटो)

  • डॉक्टर अजय कुमार ने कांग्रेस आलाकमान को सौंपा इस्तीफा, कांग्रेस प्रवक्ता राजीव रंजन की पुष्टि
  • झारखंड में सात सीटों में से एक सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी को मिली थी जीत

Dainik Bhaskar

May 27, 2019, 10:06 AM IST

रांची/जमशेदपुर. झारखंड लोकसभा चुनाव में महागठबंधन की करारी हार के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर अजय कुमार ने इस्तीफा दे दिया है। हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए डॉक्टर अजय ने अपना इस्तीफा दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय में सौंपा। डॉक्टर अजय के मुताबिक उन्होंने अपना इस्तीफा 24 मई को दे दिया था। झारखंड प्रदेश के प्रभारी आरपीएन सिंह को उन्होंने अपना इस्तीफा सौंपा है। अबतक कांग्रेस आलाकमान ने कोई फैसला नहीं लिया है। माना जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान डॉक्टर अजय कुमार का इस्तीफा स्वीकार कर सकता है। इस वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते ही जल्द ही इसपर फैसला लिया जा सकता है। 

 

अजय ने कहा- हार की जिम्मेदारी मेरी
2017 में झारखंड प्रदेश कांग्रेस की कमान डॉक्टर अजय को सौंपी गई थी। लोकसभा चुनाव में झारखंड में विपक्षी दल ने मिलकर चुनाव लड़ा था। इसमें कांग्रेस को सात सीट मिली थी। इसमें से केवल एक सीट ही जीत पाई। अन्य सभी सीटों पर हार का सामना करना पड़ा था। हार की जिम्मेवारी स्वीकार करते हुए उन्होंने इस्तीफा दे दिया। अजय ने कहा है कि पार्टी को अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद झारखंड में थी जो नहीं हो पायी, ऐसे में इस हार की जिम्मेदारी मेरी है।
 
प्रदर्शन उम्मीद के मुताबिक नहीं हुआ, दो सीट प्रशासन ने हराया: डॉ. अजय 
इस्तीफे के बाद दैनिक भास्कर से बात करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉक्टर अजय कुमार ने कहा कि झारखंड में कांग्रेस को जैसे प्रदर्शन की उम्मीद थी वैसा नहीं हुआ। एक सीट जीत पाए, दो सीट पर जीत गए थे लेकिन लोहदगा और खूंटी में प्रशासन ने जबरन भाजपा के प्रत्याशी को विजयी घोषित किया। आखिरी राउंड तक दोनों सीट में मामूली अंतर दिखाकर भाजपा को जिताया गया है। प्रशासन कांग्रेस के प्रत्याशी की हर मांग को खारिज कर रहा था। हमें उम्मीद थी कि कांग्रेस को 5 सीट आनी चाहिए थी। लेकिन एेसा नहीं हो पाया। हम अपनी बातों को लोगों तक शायद नहीं पहुंचा पाए। इसके चलते हम हारे हैं। हार की जिम्मेवारी मेरी है, यह स्वीकार करता हूं, इसलिए इस्तीफा दिया है।
 
डॉक्टर अजय के विरोधी हुए थे सक्रिय 
चुनाव में हार के बाद कांग्रेस में डॉक्टर अजय कुमार का विरोधी खेमा सक्रिय हो गया था। लगातार डॉक्टर अजय कुमार पर इस्तीफे का दबाव बनाया जा रहा था। बताया जा रहा है कि पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप बालमुचू का खेमा डॉक्टर अजय के खिलाफ ज्यादा सक्रिय था। कांग्रेस के कई नेताओं ने हार की जिम्मेदारी तय करने का दबाव बनाया था। 

 

आईपीएस रहे हैं डॉक्टर अजय

आईपीएस रहे डॉक्टर अजय कुमार इससे पहले अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता थे। अजय ने अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत बाबूलाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) से की थी। झाविमो के टिकट पर जमशेदपुर से लोकसभा चुनाव लड़कर वे 2009  में सांसद बने थे। इसके बाद वे कांग्रेस में शामिल हो गए। अजय कुमार 2010 से 2014 तक झाविमो में और फिर 2014 से कांग्रेस पार्टी में सक्रिय हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना