झारखंड / विधानसभा के नये भवन में ऐतिहासिक विशेष सत्र का मुख्य विपक्ष झामुमो ने किया बायकाट



नवनिर्मित सदन में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू व स्पीकर दिनेश उरांव। नवनिर्मित सदन में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू व स्पीकर दिनेश उरांव।
सदन की कार्यवाही में भाग लेते मुख्यमंत्री रघुवर दास। सदन की कार्यवाही में भाग लेते मुख्यमंत्री रघुवर दास।
सदन की कार्यवाही के दौरान बैठे विधायक। सदन की कार्यवाही के दौरान बैठे विधायक।
अभिभाषण के दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू। अभिभाषण के दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू।
X
नवनिर्मित सदन में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू व स्पीकर दिनेश उरांव।नवनिर्मित सदन में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू व स्पीकर दिनेश उरांव।
सदन की कार्यवाही में भाग लेते मुख्यमंत्री रघुवर दास।सदन की कार्यवाही में भाग लेते मुख्यमंत्री रघुवर दास।
सदन की कार्यवाही के दौरान बैठे विधायक।सदन की कार्यवाही के दौरान बैठे विधायक।
अभिभाषण के दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू।अभिभाषण के दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू।

  • प्रतिपक्ष को सदन से प्रतिद्वंदिता नहीं होनी चाहिए : मुख्यमंत्री

Dainik Bhaskar

Sep 14, 2019, 11:25 AM IST

रांची. स्पीकर से लेकर मुख्यमंत्री तक, मंत्री से लेकर विधायक तक, झारखंड विधानसभा के नये भवन का जमकर तारीफ की। इसकी खूबसूरती, बनावट और साज-सज्जा की प्रशंसा की। लेकिन विधानसभा के इस नये भवन में अायोजित एक दिवसीय एेतिहासिक सत्र का मुख्य विपक्षी पार्टी झामुमो ने बहिष्कार किया। झामुमो से निष्कासित एक मात्र विधायक जय प्रकाश भाई पटेल ही विशेष सत्र में शामिल हुए। झाविमो के प्रदीप यादव द्वारा इस विषय को भी सदन में उठाया गया। उन्होंने कहा कि सत्ता पक्ष को चाहिए था कि कमियां-त्रुटियां को दूर करते हुए प्रतिपक्ष के नेता हेमंत सोरेन को इस एेतिहासक सत्र में बुलाया जाता। प्रदीप यादव के इस सवाल का पहले संसदीय कार्यमंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा और फिर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जवाब दिया। 

 

संसदीय कार्यमंत्री ने हेमंत से दो-दो बार बात करने की कोशिश की
सीएम ने कहा कि राजनीति में प्रतिस्पर्द्धा-प्रतिद्वंदिता होती है। लेकिन झारखंड की सवा तीन करोड़ जनता की अास्था के प्रतीक लोकतंत्र के इस मंदिर से प्रतिस्पर्द्धा नहीं होनी चाहिए। संसदीय कार्यमंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने दो-दो बार हेमंत सोरेन से बात करने की कोशिश की। उनके पीए ने बात कराने का अाश्वासन भी दिया। ताकि बात होने पर वे मिल कर उन्हें निमंत्रित करते। लेकिन बात नहीं करायी गयी। इस कारण उन्हें निमंत्रण कार्ड के माध्यम से ही निमंत्रित किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब सदन के सदस्य से एेसे व्यवहार की अपेक्षा नहीं होनी चाहिए जो इसकी गरिमा और प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाये। वह शुक्रवार को विधानसभा के नये भवन में अाहूत एक दिवसीय विशेष सत्र में अाम चर्चा के दौरान अपनी बात रख रहे थे। इससे पूर्व नीलकंठ सिंह मुंडा ने कहा कि अाज यहां नेता प्रतिपक्ष होते तो जनता के बीच यह संदेश जाता कि हमारे नेता राजनीति से ऊपर उठ कर जनता की खुशहाली के लिए सोचते हैं।

 

राज्य की जनता के प्रति मुख्यमंत्री ने प्रकट किया आभार
सीएम ने झारखंड विधानसभा के सुंदर, सुसज्जित और बहुत अच्छे भवन के समय पर बन जाने और उद्घाटन होने के लिए राज्य की जनता के प्रति अाभार प्रकट किया, जिन्होंने 2014 में झारखंड को बहुमत की सरकार दिया। कूटे गांव के लोगों को बधाई दी। मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए सेल्फ हेल्प ग्रुप की संख्या को पांच साल में 43 हजार से बढ़ा कर 2.16 किये जाने। रेडी टू इट का काम सखी मंडल को दिये जाने, 30 लाख शेष बचे गावों में बिजली पहुंचाने, ग्रिड, ग्रिड सब स्टेशन और अन्य जरूरी अाधारभूत संरचना निर्माण में अायी तेजी की ओर भी ध्यान अाकृष्ट कराया। उन्होंने बताया कि 17 सितंबर को विश्वकर्मा पूजा और पीएम मोदी के जन्म दिन पर खूंटी में पावर सब स्टेशन का उद्घाटन किया जा रहा है। 1037 करोड़ की लागत से पीएमजीएसवाई बननेवाली सड़कों का शिलान्यास किया जा रहा है।

 

झारखंड दुनिया में सबसे तेजी से गरीबी घटानेवाला राज्य
सीएम ने कहा कि झारखंड अांदोलन का तगमा लेकर घूमनेवालों ने कभी इसके अांदोलनकारियों को सम्मान नहीं दिया। उन्होंने बताया कि अब तक 3200 अांदोलनकारी चिन्हित किये जा चुके हैं। इनमें 1961 को प्रति माह 3000 और 31 अांदोलनकारियों को 5000 रुपये प्रति माह दिया जा रहा है। यूएनडीपी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि झारखंड दुनिया में सबसे तेजी से गरीबी घटानेवाला राज्य है। अानेवाले तीन-चार महीनों में 20-25 हजार युवाओं को गार्मेंट सेक्टर में नियुक्ति और रोजगार मिलेंगे। 

 

विपक्ष के इशारे को समझ कर पक्ष को भी उस पर अमल करना चाहिए : सरयू राय
सरयू राय ने कहा कि भवन अच्छा और सुंदर बना है। इसके ईंट-ईंट में जनता का जो धन लगा है, वह सार्थक हो। यह सदन का पहला और अाखिरी दिन है। नये भवन में सदभावनापूर्ण वातावरण रहे। अब हम संसदीय परंपरा को अागे बढ़ाने के लिए जो किया है, उस पर अात्म और सामूहिक चिंतन की जरूरत है। प्रतिपक्ष को परिस्थिति को अपने पक्ष में बदलने के लिए उपस्तिति रहना चाहिए था। िवपक्ष के इशारे को समझ कर सरकार को भी सुधार करना चाहिए। पक्ष के अच्छे काम को विपक्ष को भी सराहना करनी चाहिए। लड़ाई केवल जीतने के लिए ही नहीं लड़ी जाती। इसलिए भी लड़ी जाती है कि मैदान में कौन खड़ा है, कब तक खड़ा है, यह भी दिखाने के लिए लड़ी जाती है। किसी भी योजना को लागू करने में त्रुटियां व खामियां रहती है। इसमें नीयत और निष्ठा महत्वपूर्ण होता है।

 

एेतिहासिक भवन कुछ एेतिहासिक निर्णय भी ले सरकार : प्रदीप यादव
झाविमो विधायक प्रदीप यादव ने एेतिहासिक भवन के एेतिहासिक सत्र में सरकार से एेतिहासिक निर्णय लेने की मांग की। उन्होंने कहा कि पांच साल में कितने ही मॉडल विद्यालय बने, लेकिन उसमें बेहतर शिक्षा के लिए क्या व्यवस्था की गयी, इसकी भी समीक्षा होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि नये ट्रैफिक नियम से त्राहिमाम है। सीएम को यहां इससे राहत की घोषणा करनी चाहिए। उन्होंने चुटकी भी ली कि रघुवर दास जी के अागे सीपी सिंह की क्या औकात है, इसलिए वह सीएम से मांग करते हैं। उन्होंने तार से बिजली नहीं अाती। पावर से बिजली अाती है। लेकिन पिछले पांच साल में एक मेगावाट का भी नया उत्पादन नहीं हुअा। पीटीपीएस को एनटीपीसी को दे दिया गया। टीवीएनएल को बीमार कर दिया गया। अब तो बिजली की तार की जगह उसके बिल से करंट लगता है। सरकार को गरीब और किसानों का बिजली बिल माफ करना चाहिए। बीएड की पढ़ाई में पहले 50 हजार हजार रुपये लगता था। अब दो लाख रुपए लगने लगा। जबकि सरकार एसटी एससी छात्रों शिक्षानुदान घटा कर 15 हजार रुपए कर दिया। उन्होंने किसानों और व्यापारियों के पेंशन योजना का प्रीमियम सरकार की ओर से भी भरे जाने की मुख्यमंत्री से घोषणा की मांग की। ओडीएफ की सच पर भी सवाल खड़ा किया और स्किल डेवलपमेंट के तहत दी जा रही नौकरी पर भी। कितने नौकरी मिलने के बाद छोड़ अाये, इसकी भी समीक्षा होनी चाहिए।

 

हम जनता से किये वादे को पूरा नहीं कर पाते : अालमगीर अालम
कांग्रेस विधायक दल के नेता अालमगीर अालम ने झारखंड को अपना विधानसभा भवन मिलने के लिए सरकार की सराहना की। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के इस मंदिर में हम शपथ लेते हैं। लेकिन जनता को किये वादे पूरा नहीं कर पाते। सिस्टम में गड़बड़ी की वजह से काम नहीं हो पाता। अब पक्ष-विपक्ष में सहमति हो, सदन ठीक से चले, हम अपने दायित्वों को पूरा कर सकें, यही संकल्प लेना चाहिए।

 

अब नये सदन में जनहित में अच्छी नीति बने : रामचंद्र सहिस
मंत्री रामचंद्र सहिस ने कहा कि हमें सदन की मर्यादा का ख्याल रखना चाहिए। यहां जनहित में अच्छी नीति बने, इसे गंभीरता से लेना चाहिए।

 

पारा शिक्षक, अांगनबाड़ी व अन्य की समस्या का भी समाधान हो : अरूप चटर्जी
मासस के अरूप चटर्जी ने कहा कि पुराने विधानसभा भवन (लेनिन हॉल) को संग्रहालय का रूप दिया जाना चाहिए। साथ ही नये विधानसभा भवन की तरह झारखंड भी अच्छा बनना चाहिए। पारा शिक्षक, अांगनबाड़ी, पोषण सखी, रोजगार सेवकों की समस्याओं का भी समाधान होना चाहिए जो लगातार अांदोलनरत हैं। ट्रैफिक रूल में संशोधन से दंड में हुई वृद्धि कम होनी चाहिए। नये बिजली के मीटर में अा रही गड़बड़ी के कारण इसे लगाने पर तत्काल रोक लगनी चाहिए।

 

अब सदन की गरिमा बनाये रखने की जरूरत : राधाकृष्ण किशोर
भाजपा के मुख्य सचेतक राधाकृष्ण किशोर ने राज्य के हर क्षेत्र में विकास हुअा है। विधानसभा भवन भी अद्भुत बना है। अब हमें सदन की गरिमा बनाये रखने की भी जरूरत है। केंद्र सरकार की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि अब लाल किला और लाल चौक पर तिरंगा लहरा रहा है। यह कश्मीर से कन्याकुमारी तक भारत एक है का संदेश दे रहा है।

 

मुलायम सिंह की भावना को भानू प्रताप शाही ने भी व्यक्त किया
भानू प्रताप शाही ने कहा कि पिछली लोकसभा के अंतिम सत्र में मुलायम सिंह यादव ने कहा था कि मोदी जी फिर से प्रधानमंत्री बनें, यह उनकी शुभकामना है। हम लोग भी चाहते हैं कि रघुवर दास भी फिर से सीएम चुन कर अायें। नये विधानसभा भवन बनने पर भानू प्रताप शाही ने कहा कि जनता और हम सबका सपना पूरा हुअा। सदन बड़ा बना है, इसलिए यहां से विधानसभा के सदस्यों की संख्या 81 से 150 होनी चाहिए का प्रस्ताव पास कर केंद्र सरकार को भेजा जाना चाहिए। विधानसभा के अासपास ही मंत्री-विधायकों का भी अावास बनना चाहिए। 

 

डबल इंजन की सरकार ने किया अच्छा काम : जेपी पटेल
जय प्रकाश भाई पटेल ने कहा कि 14 साल तक राज्य में सरकार बनती और गिरती रही। विश्व मानचित्र पर झारखंड बदनाम होता रहा। लेकिन डबल इंजन की सरकार बनने पर राज्य के विकास में गति अायी। झारखंड को अपना विधानसभा भवन मिला। उन्होंने झारखंड विधानसभा में झारखंड अांदोलनकारियों का चित्र लगाये जाने की मांग की।

 

अच्छा भवन बना तो हमारा अाचरण भी अच्छा हो : नवीन जायसवाल
अपने विधानसभा क्षेत्र में झारखंड के नये विधानसभा भवन बनने पर नवीन जायसवाल ने खुशी जाहिर की। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अच्छा भवन बना तो हमारा अाचरण भी अच्छा होना चाहिए। जनता के भविष्य को निखारने में इसकी भूमिका होनी चाहिए।

 

कर्ज माफी नहीं किसानों को पानी मिले : राजकुमार यादव
माले विधायक राजकुमार यादव ने कहा कि 19 वर्ष में भले ही झारखंड का विधानसभा भवन नहीं बना लेकिन देर से बना, दुरुस्त बना। दुमका में हाईकोर्ट के बेंच बनवाने की घोषणा पर भी सरकार को अमल करना चाहिए। किसानों को कर्ज माफी की जरूरत नहीं, उनके खेतों तक पानी पहुंचे, इस पर अमल होनी चाहिए।

 

सरकार ने विस्थापितों को जो वादे किये, वह भी पूरा हो : सुखदेव भगत
कांग्रेस विधायक सुखदेव भगत ने कहा कि अाज सदन में विपक्ष भी रहता तो अच्छा संदेश जाता। विधानसभा भवन तो अच्छा बना, अब सरकार को इससे विस्थापित हुए लोगों के साथ जो बातें हुई थी, उस पर भी अमल करना चाहिए।

 

विधायक का मूल कर्तव्य है कि वह कार्यपालिका की निगरानी करें, सचेत और जवाबदेह बनें : राज्यपाल
राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा है कि विधानसभा का दायित्व है कि राज्य की सर्वोच्च प्रतिनिधि संस्था होने के नाते लोगों की इच्छा को मूर्त रूप प्रदान करने के लिए काम करे। इस दृष्टि से विधायक का मूल कर्तव्य है कि वह कार्यपालिका के कार्य निष्पादन की निगरानी करें। लोगों की समस्याओं के प्रति सजग, सचेत और जवाबदेह रहें। उन्हें यह भी ध्यान रखना चाहिए कि देश व राज्य के विकास की गति के लिए संसद और विधानमंडल को ही जिम्मेदार माना जाता है। 

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना