• Hindi News
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Mother who filed a case in the Bakeria incident. Rustom became a government witness, 12 people were killed in an alleged encounter on 8 June 2015.

रांची / बकाेरिया कांड में केस दर्ज कराने वाले माे. रुस्तम सरकारी गवाह बने, 8 जून 2015 काे कथित मुठभेड़ में 12 लाेग मारे गए थे

माे. रुस्तम। माे. रुस्तम।
X
माे. रुस्तम।माे. रुस्तम।

  • अब उम्मीद है कि बकाेरिया कांड का सच जल्दी ही सामने आ जाएगा
  • सीबीआई की पूछताछ में माे. रुस्तम अपने बयान से पलट गया था

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2020, 08:34 AM IST

मेदिनीनगर/रांची. पलामू जिले के सतबरवा में हुए बहुचर्चित बकाेरिया कांड में एफआईआर दर्ज कराने वाले तत्कालीन सब इंस्पेक्टर माेहम्मद रुस्तम काे सीबीअाई ने सरकारी गवाह बना लिया है। अब सीबीअाई काे उम्मीद है कि बकाेरिया कांड का सच जल्दी ही सामने अा जाएगा। वहीं झारखंड पुलिस के कई बड़े अफसराें की परेशानी भी बढ़ेगी। क्याेंकि सीबीअाई की पूछताछ में माे. रुस्तम अपने बयान से पलट गया था।

सीनियर अफसराें ने लिखी हुई एफआईआर दी थी

सतबरवा ओपी के तत्कालीन थानेदार हरीश पाठक के बयान का समर्थन करते हुए उन्हाेंने सीबीआई काे बताया था कि सीनियर अफसराें ने लिखी हुई एफआईआर दी थी, जिस पर उन्हाेंने सिर्फ हस्ताक्षर किया था। उन्हाेंने कहा कि घटना के बाद पुलिस अफसराें ने हरीश पाठक पर एफअाईअार दर्ज करने का दबाव बनाया था। पाठक ने जब फर्जी मुठभेड़ की एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया ताे उनसे एफआईआर दर्ज कराई गई थी।

हाईकाेर्ट ने 22 अक्टूबर 2018 काे दिया था सीबीआई जांच का आदेश
पुलिस ने पलामू के सतबरवा थाना क्षेत्र के बकाेरिया में 8 जून 2015 काे मुठभेड़ में 12 लाेगाें काे मार गिराने का दावा किया था। मृतकाें के परिजनाें ने इसे फर्जी मुठभेड़ बताते हुए सीआईडी जांच पर सवाल उठाया। इसके बाद 22 अक्टूबर 2018 काे हाईकाेर्ट ने मामले की सीबीअाई जांच का अादेश दिया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना