पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Ranchi News The Regional Inspector Returned To Work But The Revenue Sub Inspector39s Strike Continued

अंचल निरीक्षक काम पर लौटे, लेकिन राजस्व उपनिरीक्षकों की हड़ताल जारी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्व उपनिरीक्षक संघ और झारखंड राजस्व सेवा संघ की अनिश्चितकालीन हड़ताल खत्म करने के लिए गुरुवार को राजस्व, निबंधन एवं भूमि सुधार मंत्री अमर कुमार बाउरी व विभागीय सचिव केके सोन ने प्रोजेक्ट भवन में वार्ता की। राजस्व सेवा संघ के साथ वार्ता में सहमति बन गई, पर उपनिरीक्षक संघ ने वार्ता विफल करार देते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रखने की घोषणा की।

उपनिरीक्षक संघ का कहना है कि 2017 में हुए समझौते को लागू करने की बजाए मामले को विभागीय मंत्री हाइलेबल कमेटी में डालने की बात कह रहे थे। सरकार समझौता करने के बाद भी पीछे हट रही है। इसलिए जब तक मांगें पूरी नहीं होंगी, अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रहेगी। संघ का कहना है कि यदि उनकी 2400 ग्रेड पे पर भी सरकार संकल्प जारी कर देती व अन्य मांगों के लिए समय देती तो वार्ता सफल हो सकती थी। वहीं, हड़ताल के चौथे दिन भी संघ का धरना राजभवन के समीप जारी रहा। कई सदस्य शामिल हैं।

राजभवन के सामने हड़ताल पर बैठे राजस्व उप निरीक्षक संघ के सदस्य।

दो महीने के आश्वासन पर माने अंचल निरीक्षक
झारखंड राजस्व सेवा संघ के बैनर तले राजस्व उपनिरीक्षकों की मांगों का समर्थन करते हुए हड़ताल पर गए अंचल निरीक्षक सह कानूनगो ने गुरुवार को मंत्री अमर बाउरी से वार्ता के बाद काम पर लौटने की घोषणा की। संघ के अध्यक्ष संतोष कुमार शुक्ला ने बताया कि वार्ता में राजस्व प्रोटेक्शन एक्ट एवं प्रोन्नति के मुद्दे पर सरकार व संघ के नेताओं के बीच सहमति बन गई। सरकार ने दो महीने के अंदर लंबित मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया है।

उपनिरीक्षक संघ का दूसरा गुट भी शामिल
राजस्व उप निरीक्षक संघ का दूसरा गुट भी हड़ताल में शामिल होगा। महासचिव कुमार सत्यम भारद्वाज ने कहा कि दो गुट में समन्वय स्थापित हो गया है। 2017 में हुए समझौते को लागू नहीं करने के सरकार के रवैया को लेकर हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया गया। इसस अब कामकाज पूरी तरह से प्रभावित होगा।

पहले से बढ़ जाएगी परेशानी
राजस्व उपनिरीक्षक के एक गुट के हड़ताल में शामिल होने से अब परेशानी और बढ़ेगी। एक गुट के हड़ताल पर नहीं जाने से नवनियुक्त उपनिरीक्षकों को साथ लेकर किसी तरह कुछ काम हो रहा था। लेकिन दूसरे गुट के शामिल होने से जाति, आय, आवासीय, भू स्वामित्व प्रमाण पत्र जारी नहीं होगा।

खबरें और भी हैं...