• Hindi News
  • National
  • Khuti News The Work Of Distributing Tabs In Seven High School And 11th Grade Of Peg

खूंटी के सात हाई स्कूलों और 11 मवि में टैब बांटने का काम पूरा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला जनसंपर्क पदाधिकारी मांकिरण मुंडा ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2011-12 से 2018- 19 तक 2406.63 लाख रुपए की प्राक्कलित राशि से 23 योजनाएं जिले के लिए स्वीकृत हैं। इसमें से छह योजनाओं को पूर्ण कर लिया गया है। तीन योजनाअों में कार्य प्रगति पर है। छह योजनाओं को रद्द कर दिया गया है। विशेष केंद्रीय सहायता योजना के अंतर्गत वित्तीय वर्ष 2014-15 से 2017-18 तक 558.79 लाख की लागत से 27 योजनाएं जिले में कार्यान्वित की जा रही है। जिसमें से 21 योजनाएं पूर्ण हो गई है। शहीद ग्राम विकास योजना के तहत वर्ष 17-18 में 556 लाख रुपए की लागत से 10 योजनाएं एवं 182 आवास बनाने का काम होना है। जिला जनसंपर्क पदाधिकारी मांकिरण मुंडा ने बताया कि आकांक्षी जिला योजना के तहत खूंटी जिले को वित्तीय वर्ष 2018-19 में 50 करोड़ रुपए उपलब्ध कराए गए हैं। जिसके तहत प्रथम किश्त के रूप में साढे 17 करोड़ का आवंटन प्राप्त हुआ है। जिससे स्वास्थ्य, शिक्षा, पोषण, गरीबी उन्मूलन, सिंचाई, कृषि,रोजगार सृजन,कौशल विकास, आधारभूत संरचनाओं के निर्माण के क्षेत्र में 24. 35 करोड़ की लागत से 136 योजनाएं संचालित हो रही है। इसके अतिरिक्त 100 मॉडल आंगनवाड़ी केंद्रों में गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य जांच के लिए बेड उपलब्ध कराए गए हैं।

साथ ही जिले के सात हाई स्कूलों और 11 मध्य विद्यालयों में टेबलैब का वितरण किया गया है। उग्रवाद प्रभावित जिला खूंटी को भारत सरकार की ओर से वित्तीय वर्ष 2017 -18 में 5 करोड़ एवं 18-19 मे 20 करोड़ राशि की आवंटन प्राप्त हुई है। जिससे 30 करोड़ की लागत से 222 योजनाओं पर काम चल रहा है। इसके अतिरिक्त ब्लड बैंक का निर्माण, लघु ग्रामीण जलापूर्ति योजना, सोलर आधारित ग्रामीण जलापूर्ति योजना, चुआं को सेनेटरी में परिवर्तित करना, 88 विद्यालयों में चापाकल लगाना, पीसीसी पथ, पुलिया, आंगनबाड़ी केंद्रों को मॉडल आंगनबाड़ी में परिवर्तित करने का काम किया जा रहा है।

साथ ही पड़हा राजा, ग्राम प्रधान, डाकुआ के प्रशिक्षण सांस्कृतिक एवं सामाजिक कार्य के लिए सभागार का निर्माण किया जा रहा है। इसके साथ ही विरहू एवं गुटजोरा पंचायत में सेनेटरी नैपकिन, 78 मधु पालक किसानों को मधु बक्सा वितरण एवं नौ विद्यालयों एवं तीन बीआरसी में टैबलेट का वितरण कराया गया। डीपीआरओ ने बताया कि जिला समाज कल्याण शाखा द्वारा 840 आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से वर्ष 2017 -18 में 4718 गर्भवती, 5631 धात्री महिलाएं एवं 28474 6 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों को पूरक आहार एवं 3 से 5 वर्ष के15293 बच्चों को स्कूल पूर्व शिक्षा दी जा रही है। कन्यादान योजना के तहत वर्ष 2018 -19 में 470 लाभुकों को लाभ दिया गया है। इसके अलावा कई अन्य योजनाओं की उपलब्धियों की जानकारी दी गई।

मांकिरण मुंडा

समाहरणालय में सांख्यिकी दिवस मनाया गया
खूंटी | जिला सांख्यिकी कार्यालय में प्रशांतचंद्र महालनोबिस के जन्म दिवस के अवसर पर जिला सांख्यिकी पदाधिकारी मेघनाथ उरांव, एवं जिला परिवहन पदाधिकारी प्यारे लाल ने पुष्पांजलि अर्पित कर 13वीं सांख्यिकी दिवस मनाया गया। इस कार्यक्रम में अमरेश कुमार, भारत भूषण प्रसाद, जयंत भेंगरा, सतीश कुजूर, परमानंद कुमार मांझी, योगेश कुमार, सुजय कुमार मांझी एवं अन्य कर्मी उपस्थित हुए। विदित हो कि प्रशांतचंद्र महालनोबिस का जन्म 29 जून 1893 एवं मृत्यु 28 जून 1972 को कोलकाता में हुआ था। इनका कार्य क्षेत्र गणित एवं सांख्यिकी रहा तथा शिक्षण संस्थान प्रेसिडेंसी काॅलेज, कोलकाता, कैंब्रिज यूनिवर्सिटी, लंदन रहा है। इनके द्वारा भारतीय सांख्यिकी संस्थान की स्थापना 17 दिसंबर 1931 को कोलकाता में हुई। प्रशांतचंद्र महालनोबिस के जन्म दिवस के अवसर पर चिंतन विषय पर परिचर्चा की गई। इनके द्वारा तैयार किए गए सांख्यिकी आंकड़ों के आधार पर ही आज के युग में विकास की बड़ी-बड़ी नीतियां और योजनाएं तैयार की जा रही हैं।

खबरें और भी हैं...