--Advertisement--

हादसा / विशाखापत्तनम में बगोदर व डुमरी के तीन प्रवासी मजदूरों की टावर दुर्घटना में मौत



शोक में खीरो के परिजन। शोक में खीरो के परिजन।
X
शोक में खीरो के परिजन।शोक में खीरो के परिजन।

  • ट्रांसमिशन लाईन लगाने वाली कलपतरू कंपनी में करते थे काम

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 08:08 PM IST

गिरिडीह.  छह दिसंबर को आंध्रप्रदेश के विशाखापत्तनम में टावर दुर्घटना में तीन प्रवासी मजदूरों की मौत हो गयी और आधे दर्जन से अधिक मजदूर घायल हो गए हैं। मृतकों में बगोदर थाना अंतर्गत दोंदलो गांव निवासी खीरो महतो (46) तथा अड़वारा गांव के पवन विश्वकर्मा (26) पिता बंशी विश्वकर्मा और डुमरी थाना अंतर्गत खेचगड़ी गांव निवासी कृष्णा टुडू शामिल हैं। उक्त दुर्घटना में विष्णुगढ़ थाना के चानो गांव निवासी और सगे भाई आकाश विश्वकर्मा, प्रदीप विश्वकर्मा तथा बगोदर थाना के देवराडीह पंचायत के श्रीराम डीह गांव निवासी तुलसी महतो सहित अन्य लोग घायल है। सभी घायलों को विशाखापत्तनम के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

घटना के वक्त टावर पर चढ़ काम कर रहे थे मजदूर

  1. ट्रांसमिशन लाइन के लिए काम करने वाली कल्पतरू कंपनी के अधीन विशाखापत्तनम में एरिक्शन का काम चल रहा था, इसी बीच दुर्घटना हो गई। बताया जाता है कि जिस टावर पर चढ़कर लोग काम कर रहे थे, वह टावर ही गिर गया। मृतक खीरो महतो अभी तीन महीने पहले अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए बतौर मजदूर काम करने विशाखापत्तनम गया था। मौत की खबर सुनकर, वृद्ध मां, पत्नी, बच्चों परिजनों व ग्रामीणों में मातम छा गया। मृतक खीरो महतो अपने घर का एकमात्र कमाऊ सदस्य था। उसके दो पुत्र और दो पुत्री हैं। जिसमें तुलसी महतो (20) और पुत्री अनिता (18) की शादी हो गयी है। जबकि मनोज कुमार (16) इंटर में तथा मीना कुमारी मैट्रिक में पढ़ाई कर रही हैं।  

  2. पवन पर थी बड़ी जिम्मेवारी

    उपस्थित जन प्रतिनिधियों और ग्रामीणों ने कल्पतरू कंपनी से अधिकतम 10 लाख रुपये का मुआवजा सहायता राशि दें, अन्यथा परिजन मृतक के पार्थिव शरीर को रिसीव नही करेंगे। वहीं अड़वारा निवासी मृतक पवन विश्वकर्मा के परिवार को सांत्वना देने बगोदर पश्चिमी जिला परिषद पूनम महतो, माले प्रखण्ड सचिव पवन महतो, तेजनारायण पासवान, सुखदेव सिंह व अन्य पहुंचे। मृतक पवन विश्वकर्मा अपने परिवार में इकलौता कमाऊ सदस्य था। इनके ऊपर मां-पिताजी, एक भाई और दो बहनों के परवरिश की जिम्मेदारी थी। 

  3. लाचार होकर दूर कमाने गया पति : पार्वती

    घटना की खबर मिलते ही रो-रो कर बेहाल मृतक खीरो महतो की पत्नी पार्वती देवी ने कहा कि जब यहां रोजी-रोजगार नहीं मिलने लगा, तब लाचार वश तीन माह पहले उसका पति कमाने गया। उतना दूर जाने के लिए मना कर रहे थे, लेकिन घर की माली देख उन्होंने नहीं माना और निकल पड़े। कहा कि अपने पति से उसकी अंतिम बातचीत गुरुवार देर शाम में हुई थी। कहा था कि फरवरी माह में आएंगे, जिससे एक नई उम्मीद जगी थी। लेकिन ईश्वर ने सब कुछ उल्टा कर दिया। फफक-फफक कर रोती पीटती पावर्ती ने कहा कि अब उसका कोई सहारा नहीं रहा है।  

  4. कंपनी से पूर्व विधायक ने की बात

    मौत की सूचना पर बगोदर के पूर्व विधायक विनोद कुमार सिंह ने कल्पतरू कंपनी के लोकल और उच्च पदाधिकारियों से बात की और दुर्घटना के कारणों का जायजा लिया, साथ ही कंपनी से मृतक के परिजनों को अधिक से अधिक सहायता मुआवजा राशि देने की मांग की है। हालांकि कंपनी की ओर आश्वस्त किया गया है,परिजनों के साथ इंसाफ होगा। वहीं माले प्रखण्ड सचिव पवन महतो ने आए दिन देश-विदेश में बगोदर और आस पास के प्रवासी मजदूरों की मौत पर दुख व्यक्त किया है और झारखण्ड सरकार से कम से कम 4 लाख रुपये मुआवजा सहायता राशि अविलम्ब देने की मांग की है ताकि पीड़ित परिजनों को दुख की इस घड़ी में सहारा मिल सके। 

  5. इन लोगों ने जताया शोक

    घटना की सूचना पाकर माले प्रखण्ड सचिव पवन महतो, बगोदर मध्य जिला परिषद सरिता महतो, माले लोकल सचिव धीरेन सिंह, समाजसेवी भुनेश्वर महतो, स्थानीय मुखिया प्रतिनिधि कोलेश्वर महतो, उपमुखिया रंजीत कुमार सिंह, लखन महतो, अजय महतो, मंगर महतो समेत कई अन्य ने दोंदलो निवासी मृतक खीरो महतो की पत्नी पार्वती देवी, बच्चों व परिजनों से मुलाकात कर इस दुख की घड़ी में सांत्वना और ढाढ़स बंधाया।  

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..