Hindi News »Jharkhand »Sadar» पाकुड़: हॉस्टल में जमीन पर सो रही दो बच्चियों को सांप ने डंसा, झाड़फूंक के चक्कर में मौत

पाकुड़: हॉस्टल में जमीन पर सो रही दो बच्चियों को सांप ने डंसा, झाड़फूंक के चक्कर में मौत

पाकुड़ जिले के अामड़ापाड़ा प्रखंड अंतर्गत फतेहपुर में संचालित बाबा तिलका मांझी आदिवासी आवासीय विद्यालय के...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 03:55 AM IST

पाकुड़: हॉस्टल में जमीन पर सो रही दो बच्चियों को सांप ने डंसा, झाड़फूंक के चक्कर में मौत
पाकुड़ जिले के अामड़ापाड़ा प्रखंड अंतर्गत फतेहपुर में संचालित बाबा तिलका मांझी आदिवासी आवासीय विद्यालय के छात्रावास में जमीन पर सो रही दो छात्राओं उषा सोरेन (5) और मार्शिला हांसदा (7) की सांप के डंसने से मौत हो गई। दोनों छात्राओं को मंगलवार रात करीब 11 बजे सांप ने डंसा, तो छात्रावास में मौजूद शिक्षक उन्हें स्कूल से महज चार किलोमीटर दूर स्थित स्वास्थ्य केंद्र में इलाज कराने नहीं ले गए, बल्कि लगभग 10 किलोमीटर दूर स्थित शहरघाटी मिशन में झाड़-फूंक के लिए ले गए। शहरघाटी में ओझा के मौजूद नहीं रहने पर छात्राओं को फिर वहां से लगभग 15 किलोमीटर दूर कोलखीपाड़ा में दूसरे ओझा के पास लाया गया। वहां दोनों के परिजन भी पहुंच गए। ओझा के झाड़-फूंक के बाद भी छात्राओं की हालत में सुधार न हुआ, तो अभिभावक दोनों को पाकुड़ के सोनाजोड़ी स्थित सदर अस्पताल ले गए, जहां डाॅक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। दोनों पाकुड़ जिले के कोलखीपाड़ा के दुर्गाडीह स्थित मार्डी टोला की रहनेवाली थीं।

मृत छात्रा उषा सोरेन के पिता शिबू सोरेन और मार्शिला हांसदा के पिता स्टीफन हांसदा ने बताया कि सर्पदंश की जानकारी उन्हें मंगलवार की रात को फोन से दी गई थी। इसके बाद हमलोग मौके पर पहुंचे, लेकिन बच्चियों की स्थिति खराब हो रही थी, तो हमलोगों ने उन्हें बुधवार को सदर अस्पताल में अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन चिकित्सकों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने बताया कि घटना की जानकारी पुलिस को नहीं दी गई है।

207 विद्यार्थी, सभी सोते हैं जमीन पर

बाबा तिलका मांझी आदिवासी आवासीय विद्यालय 2013 से संचालित है। स्कूल का निबंधन निजी स्कूल के रूप में है, जो मूलतः पुराने प्रोजेक्ट स्कूल के जर्जर भवन में संचालित है। छात्रावास में रहनेवाले छात्र-छात्राओं की स्थिति जानवरों से भी बदत्तर है। छात्रावास कच्चा है तथा छत फूस की है। यहां कुल 207 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। स्कूल में सात शिक्षक हैं। इस स्कूल में एलकेजी से पांचवीं क्लास तक पढ़ाई होती है।

जांच रिपोर्ट मिलते ही होगी कार्रवाई

अंचलाधिकारी सफी आलम ने गुरुवार को स्कूल का दौरा कर वहां मौजूद प्रधान शिक्षक सह संचालक मुकेश मुर्मू की जमकर क्लास ली। साथ ही प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी को सर्पदंश से हुई मौत मामले की जांच का आदेश दिया। कहा कि स्कूल प्रबंधन द्वारा घोर लापरवाही बरती जा रही है, जिस कारण दो बच्चियों की जान चली गई। बच्चों को जमीन पर सुलाना अपराध है। रिपोर्ट मिलते ही कार्रवाई की जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sadar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×