सरायकेला

  • Home
  • Jharkhand News
  • Saraikela
  • चांडिल डैम के विस्थापितों को उजाड़ा गया, जमीन वापस होनी चाहिए: साधु
--Advertisement--

चांडिल डैम के विस्थापितों को उजाड़ा गया, जमीन वापस होनी चाहिए: साधु

उप समिति की बैठक में आईटीडीए के डायरेक्टर वॉल्टर सांगा व अन्य। भास्कर न्यूज |सरायकेला सीएनटी मामले को लेकर...

Danik Bhaskar

Feb 14, 2018, 03:20 AM IST
उप समिति की बैठक में आईटीडीए के डायरेक्टर वॉल्टर सांगा व अन्य।

भास्कर न्यूज |सरायकेला

सीएनटी मामले को लेकर परामर्शदातृ समिति की गठित उप समिति की बैठक मंगलवार को समाहरणालय सभाकक्ष में आईटीडीए के परियोजना निर्देशक वाल्टर सांगा की अध्यक्षता में हुई। बैठक में उप समिति द्वारा ईचागढ़ विधायक साधु चरण महतो, जिला परिषद सदस्य अनिल सुरेन, सुमित्रा मार्डी ,चामी मुर्मू ,बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विश्वनाथ समेत कई गणमान्य लोगों से सीएनटी के मामले में सुझाव लिया गया। सभी सुझावों को मौखिक व लिखित लिया गया है। जिसे 16 फरवरी को परामर्शदातृ समिति की बैठक में रखी जाएगी। विधायक साधु चरण महतो ने कहा कि सीएनटी लगने से पहले इस क्षेत्र के आदिवासियों की जमीन काफी बिक्री हुई है। खासकर चांडिल डैम के विस्थापित परिवारों को उजाड़ा गया है। इस स्थिति में आदिवासियों की जमीन वापस होनी चाहिए।

बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विश्वनाथ रथ ने कहा कि सीएनटी के अंतर्गत ऐसा प्रावधान होना चाहिए जिसमें आदिवासियों की जमीन कि मूल्य बढ़ाया जा सके। यानी आदिवासियों की जमीन जिले स्तर पर किसी आदिवासी के साथ खरीद-बिक्री होनी चाहिए,ना की मात्र थाना स्तर पर इसका दायरा होना चाहिए। जिला परिषद सदस्य अनिल सोरेन ने कहा कि सीएनटी मामले में किसी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं होना चाहिए ,क्योंकि सीएनटी के साथ छेड़छाड़ हुई थी आदिवासियों के अस्तित्व पर खतरा आ सकता है।

Click to listen..