Hindi News »Jharkhand »Saraikela» भास्कर खास

भास्कर खास

दस लाख के इनामी नक्सली झारखंड पुलिस के लिये महाराज प्रमाणिक पुलिस के लिये बड़ी चुनौति बन गया है। फिलहाल सब जोनल...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 15, 2018, 03:50 AM IST

दस लाख के इनामी नक्सली झारखंड पुलिस के लिये महाराज प्रमाणिक पुलिस के लिये बड़ी चुनौति बन गया है। फिलहाल सब जोनल कमांडर महाराज प्रमाणिक सरायकेला खरसांवा, प सिंहभूम व खुंटी जिला के सीमावर्ती क्षेत्र के प्रभार में है। उसके लिये सबसे सेफ जोन झरझरा से बंदगांव का इलाका है। हाल के दिनों में 25 सितंबर 2017 को झरझरा जाने के रास्ते पर लैंडमाइंस बिछाकर पुलिसकर्मियों को उड़ाने की साजिश को लेकर सुर्खियों में रहा। पुलिस ने उसकी योजना विफल कर दी थी और उसके एक खास आदमी कुजरी मुंडा को हथियार के साथ पकड़ा था। इस दौरान पुलिस और प्रमाणिक के दस्ते में 100 राउंड की फायरिंग हुयी थी। इसके बावजूद प्रमाणिक ने इलाका नहीं छोड़ा,उसके पसंदीदा स्थल में झरझरा कुचाई की पहाड़ियां हैं। एसपी चंदन कुमार सिन्हा बताते हैं- बहरहाल इस नक्सली कमांडर के माओवाद विचार में आने की कहानी भी रोचक है। वह मामूली अपराधी था,पुलिस से बचने के लिये वह माओवादी बना था। कांग्रेस के चांडिल प्रखंड अध्यक्ष को मारा। बाद में उसे सब जोनल कमांडर बनाया गया। अब वह 10 लाख का इनामी है।

महाराजा प्रमाणिक

25 सितंबर 2017 को झरझरा जाने के रास्ते पर लैंडमाइंस बिछाकर पुलिसकर्मियों को उड़ाने की रची थी साजिश

नक्सली बनने के बाद सीआरपीएफ अफसर को मारा

माओवादियों के टीम में शामिल होने के बाद एक सीआरपीएफ अफसर को महाराज ने मार दिया। उसके बाद चांडिल के कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष को मारा। इसके बाद लगातार सुर्खियों में आकर अब जोनल कमांडर है। महाराज प्रमाणिक सरायकेला खरसांवा जिले के दारूदा गांव का रहनेवाला है। वह एक दशक तक शातिर अपराधी रहा। लूटपाट,छिनतई करता था। जब पुलिस की दबिश बढ़ी तो वह माओवादियों का साथ हो लिया। सरायकेला खरसांवा जिले के एसपी चंदन सिन्हा बताते हैं कि 29 अप्रैल 2009 को महाराज प्रमाणिक ने चांडिल के तांतीबांध में एक व्यक्ति से मोबाइल फोन और पांच हजार नगद लूट लिया। पुलिस के रिकार्ड में महाराज का जिक्र लुटेरा के रूप में था।

जनसंपर्क मजबूत, लेकिन अब पुलिस घेरने की तैयारी में

महाराज प्रमाणिक के हालिया रिपोर्ट के अनुसार उससे जाननेवाले बताते हैं कि वह आमलोगों से अदब से बातचीत करता है। लोगों के साथ नेटवर्क बनाकर कर रखा है। इस कारण उसे पकड़ने में मुश्किल हो रही है। हालांकि अब पुलिस उसे घेरने की तैयारी कर रही है। उसके नेटवर्क को तोड़ रही है। पुलिस का दवा है कि जल्द पकड़ लेंगे।

महाराज प्रमाणिक को माओवादी विचारधारा का तनिक ज्ञान नहीं है। माओवादी कैडर बनने के बाद भी उसने जो कांड किए हैं, उसमें अपराधी होने की झलक मिलती है। वह विशुद्ध अपराधी है जिसने भाकपा माओवाद ने संरक्षण दिया है। महाराज की तलाश हो रही है। वह जल्द ही गिरफ्तार होगा। चंदन सिन्हा, एसपी, सरायकेला

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Saraikela

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×