• Home
  • Jharkhand News
  • Saraikela
  • उत्क्रमित मध्य विद्यालय चडरी के विलय का विरोध
--Advertisement--

उत्क्रमित मध्य विद्यालय चडरी के विलय का विरोध

राजनगर प्रखंड के गम्हरिया पंचायत अंतर्गत उत्क्रमित मध्य विद्यालय चाडरी से वर्ग 6 से 8 तक के छात्रों को दूसरे स्कूल...

Danik Bhaskar | Apr 10, 2018, 02:45 AM IST
राजनगर प्रखंड के गम्हरिया पंचायत अंतर्गत उत्क्रमित मध्य विद्यालय चाडरी से वर्ग 6 से 8 तक के छात्रों को दूसरे स्कूल में विलय किए जाने का विरोध करते हुए ग्रामीणों ने सोमवार को समाहरणालय के समक्ष प्रदर्शन किया। ग्रामीणों का नेतृत्व ग्राम प्रधान पोईतो टुडू एवं वार्ड पार्षद पार्वती देवी द्वारा किया जा रहा था। इसमें रवींद्र महतो, शंकर महतो, दसमा, पारुल महतो, वैशाखी महतो, बहादुर महतो समेत लगभग सौ से अधिक महिला पुरुष शामिल रहे। ग्रामीणों ने कहा कि उत्क्रमित मध्य विद्यालय चौधरी में वर्तमान में 119 छात्र छात्राएं हैं जिसमें 1 से 6से लेकर 8 तक के छात्रों को दो किलोमीटर दूर उत्क्रमित मध्य विद्यालय नौका में ले जाया गया है। जो सरासर गलत है। ग्रामीणों ने इस संबंध में डीसी को ज्ञापन सौंपकर उच्च स्तर पर इसकी जांच करने की मांग रखी है। कहा- स्कूल के विलय से बच्चों को परेशानी होगी।

स्वास्थ्य विभाग को मच्छरदानी वितरण का आदेश

सामुदायिक भवन में जिला परिषद की हुई बैठक, जांच कराने की मंाग रखी

भास्कर न्यूज |सरायकेला

जिला परिषद की बैठक अध्यक्ष शकुंतला महलों की अध्यक्षता में सामुदायिक भवन में हुई। जिसमे स्वास्थ्य विभाग को ग्रामीण क्षेत्रों में मच्छरदानी वितरण करने का निर्देश दिया गया। अध्यक्ष शकुंतला महाली ने विभाग पर मनमानी तरीके से मच्छरदानी वितरण करने का आरोप लगाया है। विभाग को इस पर जांच करने को कहा है। ताकि समाज के अंतिम पायदान पर रहने वाले लोगों को इसका लाभ मिल सके। शिक्षा विभाग को को शत-प्रतिशत विद्यालयों में विद्युतीकरण करने का निर्देश दिया गया। जिला शिक्षा अधीक्षक फुलमनी खलको द्वारा बताया गया कि अब तक 1183 विद्यालयों में विद्युतीकरण कार्य पूर्ण हो पाया है तथा 121 विद्यालयों में विद्युतीकरण कार्य करना है। पशुपालन विभाग को बैठक में निर्देश दिया गया कि ग्रामीण स्तर पर चलने वाले आय वृद्धि के विभिन्न योजनाओं में प्रचार प्रसार करें, ताकि लोगों को इसका लाभ मिल सके।

बैठक में जिला परिषद अध्यक्ष शकुंतला महाली, उपाध्यक्ष अशोक साव व अन्य।